UP: राज्य में फर्जी शिक्षक भर्तियों की होगी जांच, बनी कमिटी

0
1


सांकेतिक तस्वीर

UP teacher bharti fraud: उत्तर प्रदेश में इन दिनों फर्जी शिक्षक भर्ती का मुद्दा गरम है। खास कर जब से अनामिका शुक्ला नाम की एक टीचर द्वारा फर्जी सर्टिफिकेट्स पर एक साथ राज्य के कई स्कूलों में पढ़ाए जाने और हर जगह से अलग-अलग सैलरी उठाने का मामला सामने आया है। वो भी तब जब राज्य में 69 हजार शिक्षक भर्ती (UP 69000 shikshak bharti) मामले में भी विवाद चल रहा है।

इन सबके मद्देनजर अब उत्तर प्रदेश सरकार (UP govt) ने एक नई कमिटी का गठन किया है। ये कमिटी उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन डिपार्टमेंट के अधीन गठित की गई है। सरकार ने इस कमिटी को राज्य में फर्जी सर्टिफिकेट्स पर की गईं फर्जी शिक्षक भर्तियों की जांच करने के लिए कहा है।

गौरतलब है कि सोमवार को ही अनामिका शुक्ला मामले से संबंधित तीन लोगों को उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने गिरफ्तार किया है। 10 जून को अनामिका शुक्ला को उत्तर प्रदेश स्थित गोंडा के बेसिक एजुकेशन ऑफिसर के सामने पेश किया गया। जहां उसने आरोप लगाया है कि उसके शैक्षणिक प्रमाणपत्रों का कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में नौकरियों के लिए दुरुपयोग किया गया।

ये भी पढ़ें : HP TET 2020: शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए आवेदन शुरू, ये है एग्जाम डेट

ये मामला तब सामने आया था जब किसी ने अनामिका शुक्ला के खिलाफ एफआईआर दर्ज की कि वह राज्य के 25 अलग-अलग स्कूलों से साल में एक करोड़ रुपये की सैलरी उठा रही है।

ये भी पढ़ें : CTET 2020: परीक्षा में कुछ दिन बाकी, इस स्ट्रैटजी से करें तैयारी

हालांकि इस मामले में अभी जांच जारी है। इस बीच अब सरकार द्वारा बनाई गई नई कमिटी राज्य के अन्य फर्जी शिक्षक भर्तियों का भी पता लगाएगी और उनकी जांच करेगी।



Source link

पिछला लेखRBSE 10th 12th Exams 2020: राजस्थान बोर्ड 10वीं 12वीं परीक्षा स्थगित कराने के लिए याचिका
अगला लेखटॉप-8 टीमों के साथ अगस्त में फिर शुरू होगी चैम्पियंस और यूरोपा लीग, एक ही लेग में होंगे क्वार्टर और सेमीफाइनल
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।