Terrorist Nadeem : आतंकी नदीम को 14 दिन के लिए भेजा जेल, हत्या और दहशत फैलाने का मिला था काम

0
3


ख़बर सुनें

जैश ए मोहम्मद और तहरीक ए तालिबान, पाकिस्तान से जुड़े आतंकी और नूपुर शर्मा की हत्या की साजिश रचने के आरोपी मोहम्मद नदीम को शनिवार को रिमांड मजिस्ट्रेट अंकिता शर्मा के सामने पेश किया गया। रिमांड मजिस्ट्रेट ने नदीम को 14 दिन के लिए जेल भेज दिया। गौरतलब है कि एटीएस ने शुक्रवार को नदीम को सहारनपुर से गिरफ्तार किया था।

पूछताछ में नदीम ने बताया कि उसे नूपुर शर्मा की हत्या का काम सौंपा गया था। इसके अतिरिक्त स्वतंत्रता दिवस से पहले देश में आतंकी घटनाओं को अंजाम देना था। एटीएस ने आतंकी के पास से आईईडी और बम बनाने की जानकारी देने वाली सामग्री भी बरामद की है। कोर्ट में अवकाश के चलते आरोपी को रिमांड मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। 

नदीम के 12 साथियों पर खुफिया एजेंसियों की निगाहें
जैश ए मोहम्मद और तहरीक ए तालीबान के आतंकियों से जुड़े नदीम के संपर्क में देशभर में कई संदिग्ध युवा भी संपर्क में रहे हैं, इनमें एटीएस और अन्य खुफिया एजेंसियों की जांच के दायरे में 12 ऐसे संदिग्ध हैं, जिन्हें नदीम की देश विरोधी गतिविधियों की जानकारी थी, इसके बाद भी ये उससे जुड़े रहे और उसकी खुराफात को छिपाए रहे। आतंकी संगठनों के  नदीम को फंडिंग करने की बात भी सामने आ रही है।  

नदीम को पूर्व भाजपा प्रवक्ता नुपुर शर्मा की हत्या का टास्क दिया गया था। नदीम के मोबाइल फोन में मिली चैट के आधार पर पता चला है कि नदीम वर्ष 2018 से आतंकियों के संपर्क में था और वह लगातार उनसे बातें करता था। सोशल मीडिया पर 30 से अधिक एकाउंट बनाए गए थे, जिनके जरिए वह पाकिस्तान और अफगानिस्तान के आतंकियों से बात करता था।

पीडीएफ फाइल में आतंकी संगठनों के आकाओं ने नदीम से यह भी कहा है कि युवाओं को संगठन से जोड़े। उनको विश्वास में लेकर अपने साथ लगाए। इसके बाद उनको भी फिदायीन हमले के लिए तैयार किया जाएगा। जांच में सामने आया है कि नदीम को आतंकी संगठनों की ओर से फंडिंग भी गई है, जिसकी जांच एटीएस कर रही है। सूत्र बताते हैं कि नदीम के बैंक खातों को भी जांच भी एटीएस कर रही है। 

विस्तार

जैश ए मोहम्मद और तहरीक ए तालिबान, पाकिस्तान से जुड़े आतंकी और नूपुर शर्मा की हत्या की साजिश रचने के आरोपी मोहम्मद नदीम को शनिवार को रिमांड मजिस्ट्रेट अंकिता शर्मा के सामने पेश किया गया। रिमांड मजिस्ट्रेट ने नदीम को 14 दिन के लिए जेल भेज दिया। गौरतलब है कि एटीएस ने शुक्रवार को नदीम को सहारनपुर से गिरफ्तार किया था।

पूछताछ में नदीम ने बताया कि उसे नूपुर शर्मा की हत्या का काम सौंपा गया था। इसके अतिरिक्त स्वतंत्रता दिवस से पहले देश में आतंकी घटनाओं को अंजाम देना था। एटीएस ने आतंकी के पास से आईईडी और बम बनाने की जानकारी देने वाली सामग्री भी बरामद की है। कोर्ट में अवकाश के चलते आरोपी को रिमांड मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। 

नदीम के 12 साथियों पर खुफिया एजेंसियों की निगाहें

जैश ए मोहम्मद और तहरीक ए तालीबान के आतंकियों से जुड़े नदीम के संपर्क में देशभर में कई संदिग्ध युवा भी संपर्क में रहे हैं, इनमें एटीएस और अन्य खुफिया एजेंसियों की जांच के दायरे में 12 ऐसे संदिग्ध हैं, जिन्हें नदीम की देश विरोधी गतिविधियों की जानकारी थी, इसके बाद भी ये उससे जुड़े रहे और उसकी खुराफात को छिपाए रहे। आतंकी संगठनों के  नदीम को फंडिंग करने की बात भी सामने आ रही है।  

नदीम को पूर्व भाजपा प्रवक्ता नुपुर शर्मा की हत्या का टास्क दिया गया था। नदीम के मोबाइल फोन में मिली चैट के आधार पर पता चला है कि नदीम वर्ष 2018 से आतंकियों के संपर्क में था और वह लगातार उनसे बातें करता था। सोशल मीडिया पर 30 से अधिक एकाउंट बनाए गए थे, जिनके जरिए वह पाकिस्तान और अफगानिस्तान के आतंकियों से बात करता था।

पीडीएफ फाइल में आतंकी संगठनों के आकाओं ने नदीम से यह भी कहा है कि युवाओं को संगठन से जोड़े। उनको विश्वास में लेकर अपने साथ लगाए। इसके बाद उनको भी फिदायीन हमले के लिए तैयार किया जाएगा। जांच में सामने आया है कि नदीम को आतंकी संगठनों की ओर से फंडिंग भी गई है, जिसकी जांच एटीएस कर रही है। सूत्र बताते हैं कि नदीम के बैंक खातों को भी जांच भी एटीएस कर रही है। 



Source link

पिछला लेखभारतीय छात्रों का भविष्य बर्बाद करने पर तुला चीन: एडमिशन दिया, लेकिन स्टूडेंट्स को 3 साल से वापसी का वीसा नहीं मिला
अगला लेखJohny Lever Birthday: कभी सड़कों पर पेन बेचा करते थे जॉनी लीवर, जॉन प्रकास राव जनुमाला है असली नाम, जानें नेटवर्थ
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।