Share Chat layoff: शेयरचैट में बड़ी छंटनी, 20% ग्लोबल और 99% भारतीय वर्कफोर्स ने गवांई अपनी जॉब

0
0


Share Chat layoff: सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म शेयरचैट और शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म मोज की पैरेंट कंपनी मोहल्ला टेक ने अपने 20 फीसदी कर्मचारियों को वैश्विक स्तर पर कंपनी से निकाल दिया (Share Chat Layoff 2023) है। कर्मचारियों की छंटनी के विषय में कंपनी के सीईओ अंकुश सचदेवा ने एक इंटरनल नोट के जरिए जानकारी दी है। कंपनी के एक प्रवक्ता ने पुष्टि कि यह छंटनी भारत, अमेरिका और यूरोप में शेयरचैट के कार्यालयों में कार्यरत कर्मचारियों की हुई है। हालांकि प्रभावित होने वाले कर्मचारियों में 99% कर्मचारी भारत में हैं।

इन कारणों से हो रही है छंटनी

अपने कर्मचारियों को लिखे नोट में सीईओ सचदेवा का कहना है कि मौजूदा आर्थिक स्थिति में कंपनी की फाइनेंशियल स्थिति को ध्यान में रखते हुए कंपनी को अपने बेहतरीन फुल टाइम कर्मचारियों से अलग होना पड़ रहा है। कंपनी ने आगे कहा कि उसने अपने प्रभावित कर्मचारियों के लिए स्लैक और ईमेल एक्सेस को डिएक्टिवेट कर दिया है जबकि निकाले गए कर्मचारी जो अभी भी फर्म में हैं उन्हें आंतरिक स्लैक चैनल के माध्यम से पहले ही सूचित किया गया था।

छंटनी के पीछे का कारण
बात अगर इन कंपनियों में हो रही छंटनी के पीछे के कारण के विषय में हो तो इसमें भी एक्सपर्ट्स की अलग-अलग राय है। ग्रेट प्लेस टू वर्क की सीईओ यशस्वी रामास्वामी का मानना है कि कंपनी में हो रहे अधिकांश छंटनी का कारण कैपिटल यानी पूंजी की कमी प्राइमरी कारण है। बड़े पैमाने पर छंटनी करने वाली फर्में महामारी, मुद्रास्फीति, मंदी के डर, और धीमी बिजनेस ग्रोथ के कारण भी अपने कर्मचारियों को निकाल रही हैं। वर्तमान में कंपनियां या तो लागत में कटौती या नई पद्धतियों का परीक्षण करने पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं।

वहीं दूसरी तरफ कर्मा मैनेजमेंट के फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर प्रतीक वैद्य का कहना है कि छंटनी का यह ट्रेंड इस बात का संकेत दे रहे हैं कि स्टार्टअप और यूनिकॉर्न कंपनियों ने बड़े पैमाने पर बिना एचआर प्लानिंग और मैनपावर प्लानिंग के हायरिंग की है। अब अर्थव्यवस्था ठीक से कार्य नहीं कर रही और मार्केट में सुस्ती और मंदी के डर से कंपनियां बड़े पैमाने पर छंटनी कर रही हैं। ले-ऑफ़ यानी छंटनी से प्रभावित कर्मचारियों ने लिंक्डइन सहित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नई नौकरियों की तलाश शुरू कर दी है।

प्रभावित कर्मचारियों के लिए पैकेज
कंपनी ने शेयरचैट की पैरेंट फर्म में प्रभावित कर्मचारियों के लिए फाइनेंशियल पैकेज की भी घोषणा की। इसके अलावा स्वास्थ्य बीमा लाभ 30 जून, 2023 तक सक्रिय रहेंगे। इसके साथ ही कंपनी द्वारा कर्मचारियों को नौकरी के दौरान दिए गए लैपटॉप और स्मार्टफोन को कर्मचारी अपने व्यक्तिगत इस्तेमाल के लिए रख सकते हैं।



Source link

पिछला लेखब्रिटिश पुलिस अफसर ने 24 महिलाओं से रेप किया: 12 को स्लेव बनाया, इन्हें बिना कपड़े पहनाए घर साफ कराता था
अगला लेखक्या Mahindra की XUV400, Tata की Nexon EV को दे पाएगी टक्कर? देखें कीमत, रेंज और फीचर्स का मुकाबला
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।