Republic Day 2023: 26 जनवरी को ही क्यों मनाते हैं गणतंत्र दिवस? जानें इसके पीछे का कारण और महत्व

0
0


2023 Republic Day India: 26 जनवरी को पूरा हर्षोल्लास के साथ गणतंत्र दिवस मनाता है. यह दिन सभी भारतवासियों के लिए बेहद खास दिन होता है. सभी धर्मों, जाति और संप्रदाय के लोग आपसी बैर भूलकर एक साथ इस राष्ट्रीय पर्व को मनाते हैं. देश के इस खास दिन को और स्पेशल बनाने के लिए हर साल राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में इंडिया गेट से लेकर राष्ट्रपति भवन तक राजपथ पर विशाल परेड और रैली का आयोजन किया जाता है. इस दिन को याद करके कई बार आपके मन में यह सवाल उठता होगा कि आखिर 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस क्यों मनाते हैं किसी और दिन इसे सेलिब्रेट क्यों नहीं करते? तो आइए आपको बताते हैं इसके पीछे का बड़ा कारण.

आपको बता दें कि इस साल भारत अपना 73वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. आज से 73 वर्ष पहले 1950 में 26 जनवरी को सुबह 10.18 मिनट पर संविधान लागू हुआ था. 26 जनवरी के ही दिन संविधान को लागू करने का एक और बड़ा कारण यह भी था कि 1930 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने भारत की पूरी तरह से आजादी का प्रस्ताव पारित किया था.

स्वतंत्रा दिवस का किया ऐलान
इतिहासकारों की मानें तो 1929 में भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में नेशनल कांग्रेस ने ऐलान किया था कि अंग्रेजी सरकार 26 जनवरी 1930 तक भारत को डोमनियन स्टेट का दर्जा दे और इसी दिन पहली बार भारत में स्वतंत्रदा दिवस को मनाया गया था. बता दें कि आजादी मिलने से पहले 26 जनवरी को ही स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते थे. पूर्ण स्वराज की मांग करने के बाद जब आजादी मिली तो बाद में 26 जनवरी 1950 को संविधान को लागू किया गया और इस दिन को गणतंत्र दिवस घोषित किया गया.

308 सदस्यों ने संविधान को दी मान्यता
हर देश में कार्य करने के लिए एक नियमावली होती है इसे अलग अलग देशों में अलग अलग नामों से जाना जाता है. भारत में इस नियमावली को संविधान के नाम से जानते हैं. भारत के संविधान को डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने तैयार किया था. उन्होंने संविधान का जो मसौदा तैयार किया था उसमें कई तरह के सुधार किए गए और बाद में एक कमेटी तैयार की गई जिसमें संविधान को लेकर चर्चा हुई. कमेटी में 308 सदस्य थे जिन्होंने 24 जनवरी 1950 के संविधान में लिखे गए कानून को मंजूर देते हुए दो कॉपियों पर हस्ताक्षर किए और इसके बाद 26 जनवरी को देश में इस संविधान को लागू कर दिया गया.

एक सप्ताह तक मनाया है राष्ट्रीय पर्व
आमतौर पर हमे लगता है कि गणतंत्र दिवस सिर्फ 26 जनवरी को होता है लेकिन ऐसा नहीं है. गणतंत्र दिवस का कार्यक्रम एक सप्ताह तक चलता है और इसकी शुरुआत 24 जनवरी से हो जाती है. कार्यक्रम के पहले दिन बच्चों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है. हालांकि इस साल गणतंत्र दिवस का कार्यक्रम 23 जनवरी से शुरू हो रहा है क्योंकि इस दिन नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती होती है. 25 जनवरी को राष्ट्रपति देश के नाम अपना संबोधन देंगी और फिर अगले दिन पूरे देश में इस राष्ट्रीय पर्व का मुख्य कार्यक्रम आयोजित होगा.

Tags: Republic day, Republic Day Celebration, Republic Day Parade



Source link

पिछला लेखलिखने के लिए पेन पकड़ते ही हांथों में होती है अकड़न ? कहीं आप पार्किंसन के शिकार तो नहीं?
अगला लेखYoga Session: फेफड़ों को मजबूत बनाने के लिए रोज करें अनुलोम‍-विलोम, मिलेंगे कई बड़े फायदे, ऐसे करें अभ्यास
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।