Paytm-PhonePe से मोबाइल और बिजली बिल का भुगतान करना हुआ महंगा, जानिए, कैसे चुका रहे आप ज्यादा पैसा

0
3


Photo:INDIA TV Paytm-PhonePe

Highlights

  • Paytm ऐप का उपयोग करके अपने मोबाइल रिचार्ज करने पर 1 रुपये का प्लेटफॉर्म शुल्क
  • PhonePe ऐप 2 रुपये का प्लेटफॉर्म शुल्क लेता है मोबाइल नंबर को रिचार्ज पर
  • कई यूजर्स पेटीएम और फोनपे को Twitter पर टैग कर शिकायत दर्ज करा रहे हैं

Paytm-PhonePe से आज के समय में अधिकांश लोग मोबाइल और बिजली बिल का भुगतान करते हैं। अगर, आप भी उन लोगों में शामिल हैं जो पेटीएम या फोनपे से यूटिलिटी बिलों का भुगतान करते हैं तो आप यह जान लें कि आप हर महीने कहीं ज्यादा पैसा चुका रहे हैं। दरअसल, अब पेटीएम और फोनपे समेत दूसरे पेमेंट एप्स ने अपने ग्राहकों से उनके मोबाइल नंबर रिचार्ज करने, बिजली बिलों का भुगतान करने आदि के लिए एक प्लेटफॉर्म फीस लेना शुरू कर दिया है।

प्लेटफॉर्म फीस क्या है?

अगर आप फोनपे प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग कर मोबाइल, बिजली या कोई दूसरा बिल भरते हैं तो इसके लिए आपको एक तय शुल्क और जीएसटी देना होगा। इसे ही प्लेटफ़ॉर्म शुल्क कहा जाता है। हालांकि, अगर मोबाइल रिचार्ज विफल हो जाता हैए तो भुगतान की गई रिचार्ज राशि प्लेटफॉर्म शुल्क और GST आपको वापस कर दिया जाएगा।

प्लेटफॉर्म शुल्क के रूप में कितना भुगतान करना होगा?

Paytm ऐप का उपयोग करके अपने मोबाइल नंबर को रिचार्ज करने के लिए, आपसे प्रत्येक मोबाइल रिचार्ज के लिए 1 रुपये का प्लेटफॉर्म शुल्क लिया जाएगा। PhonePe ऐप 2 रुपये का प्लेटफॉर्म शुल्क लेता है। ऐसे में 296 रुपये के 30 दिन के एयरटेल मोबाइल रिचार्ज पर आपको पेटीएम ऐप पर 297 रुपये और फोनपे ऐप पर 298 रुपये का भुगतान करना होगा। एक दिलचस्प बात यह है कि हर किसी से यह प्लेटफॉर्म शुल्क नहीं लिया जा रहा है; इसे चुनिंदा यूजर्स से ही चार्ज किया जा रहा है। इस प्रकार, यदि आपसे यह शुल्क नहीं लिया जा रहा है, तो भविष्य में आपसे यह Platform शुल्क लगाया जा सकता है।

यूजर्स कर रहे हैं शिकायत

Platform शुल्क को कई यूजर्स पेटीएम और फोनपे को Twitter पर टैग कर शिकायत दर्ज करा रहे हैं। एक Twitter यूजर के अनुसार, पेटीएम ऐप के माध्यम से बिजली बिल भुगतान करने पर प्रत्येक लेनदेन के लिए 5 रुपये का शुल्क लिया जा रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में इस शुल्क का बोझ और बढ़ाया जा सकता है क्योंकि ये सारी कंपनियां नुकसान में हैं। अगर इनको फादा में आना है तो अपना राजस्व बढ़ाना होगा।

Latest Business News





Source link

पिछला लेखBox Office: ‘विक्रांत रोणा’ या ‘एक विलेन रिटर्न्स’- कौन होगा सफल; कितना होगा पहले दिन का कलेक्शन? जानिए सबकुछ
अगला लेखHariyali Teej 2022: हरियाली तीज पर बन रहा है रवि योग, जानें मुहूर्त
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।