MEA: पीएम मोदी पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री को सरकार ने बताया दुष्प्रचार का हिस्सा; शहबाज शरीफ पर कही यह बात

0
0



विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची
– फोटो : एएनआई

विस्तार

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बीबीसी द्वारा रिलीज डॉक्यूमेंट्री  को लेकर विदेश मंत्रालय ने प्रतिक्रिया दी है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा है कि हमें लगता है कि यह एक प्रोपोगेंडा का हिस्सा है। इसकी कोई वस्तुनिष्ठता नहीं है। उन्होंने इसे पक्षपातपूर्ण बताते हुए कहा कि ‘ध्यान दें कि इसे भारत में प्रदर्शित नहीं किया गया है।’ 

 

पीएम मोदी पर बनी डॉक्यूमेंट्री पर दिया जवाब

पीएम नरेंद्र मोदी पर बीबीसी द्वारा रिलीज की गई डॉक्यूमेंट्री पर विदेश मंत्रालय ने कहा है कि हमें लगता है कि यह एक प्रचार सामग्री है, जिसे एक विशेष कहानी को आगे बढ़ाने के लिए बनाया गया है। इसमें पूर्वाग्रह, निष्पक्षता की कमी और औपनिवेशिक मानसिकता स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही है। 

उन्होंने कहा कि यह फिल्म या डॉक्यूमेंट्री उस एजेंसी और व्यक्तियों का एक प्रतिबिंब है जो इस कहानी को फिर से फैला रहे हैं। यह हमें इस कवायद के उद्देश्य और इसके पीछे के एजेंडे के बारे में सोचने पर मजबूर करता है।  

डॉक्यूमेंट्री सीरीज में यूके के पूर्व सचिव जैक स्ट्रॉ द्वारा की गई टिप्पणियों का जिक्र करते हुए बागची ने कहा कि ऐसा लगता है कि वह (जैक स्ट्रॉ) यूके की कुछ आंतरिक रिपोर्ट का जिक्र कर रहे हैं। मैं उस तक कैसे पहुंच सकता हूं? यह 20 साल पुरानी रिपोर्ट है।

गौरतलब है कि ब्रिटेन के राष्ट्रीय प्रसारक बीबीसी ने 2002 के गुजरात दंगों के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में पीएम नरेंद्र मोदी के कार्यकाल पर दो-भाग की श्रृंखला प्रसारित की थी। भारतीय मूल के ब्रिटेन के नागरिकों ने इस सीरीज की निंदा की है। यूके नागरिक लॉर्ड रामी रेंजर ने इसे लेकर कहा है कि ‘बीबीसी ने एक अरब से अधिक भारतीयों को बहुत नुकसान पहुंचाया है। आलोचना के बाद इसे कुछ चुनिंदा प्लेटफार्मों से हटा दिया गया था।

ऑस्ट्रेलिया में मंदिरों पर हमले पर भी दिया जवाब

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में स्वामी नारायण मंदिर और एक अन्य हिंदू मंदिर पर हुए हमलों की घटना का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में कुछ मंदिरों को तोड़ा गया है। हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं। इसकी ऑस्ट्रेलियाई नेताओं, समुदाय के नेताओं और वहां के धार्मिक संगठनों द्वारा भी सार्वजनिक रूप से निंदा की गई है।  

मेलबर्न में हमारे महावाणिज्य दूतावास ने मामले को स्थानीय पुलिस के समक्ष उठाया है। हमने अपराधियों के खिलाफ शीघ्र जांच और भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के उपायों का अनुरोध किया है। इस मामले को ऑस्ट्रेलियाई सरकार के साथ भी उठाया गया है और हम इसके लिए तत्पर है।  

शहबाज शरीफ पर कही यह बात

इस दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बागची ने भारत पर पाकिस्तान के पीएम शहबाज शरीफ की हालिया टिप्पणी पर भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि हमने कहा है कि हम हमेशा पाकिस्तान के साथ सामान्य पड़ोसी जैसा संबंध चाहते हैं। लेकिन ऐसा अनुकूल माहौल होना चाहिए जिसमें आतंक, दुश्मनी या हिंसा न हो। यह हमारी स्थिति बनी हुई है। 

मिजोरम सीमा पर म्यांमार बम विस्फोटों पर विदेश मंत्रालय की प्रतिक्रिया

मिजोरम सीमा पर म्यांमार बम विस्फोटों पर विदेश मंत्रालय ने कहा है कि 10-11 जनवरी को म्यांमार की ओर से हवाई अभियान चल रहा था। उस दौरान ये घटना हुई थी। हमने पुष्टि की है कि हमारे हवाई क्षेत्र का कोई उल्लंघन नहीं हुआ, लेकिन 10 जनवरी को भारत-म्यांमार सीमा पर स्थित तियाउ नदी के तल में एक बम गिरा। हमने इस मामले को म्यांमार पक्ष के साथ उठाया है। 





Source link

पिछला लेखPooja Thali: घर की पूजा की थाली में क्या-क्या रखें ? घर के किस कोने में रखें पूजा की थाली
अगला लेखशीतलहर में नहीं बढ़ेगा ब्लड प्रेशर, फ्री में बीपी को कंट्रोल करने का मिल गया तरीका, आज ही उठाएं लाभ
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।