Krishna Janmashtami 2022 Date: 18 या 19 जन्माष्टमी कब है? जानें शुभ योग

0
1


Krishna Janmashtami 2022: हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल भादो माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जन्माष्टमी के दिन रोहिणी नक्षत्र में मध्यरात्रि बजे मथुरा (Mathura janmashtami 2022) में कृष्ण का जन्म हुआ था. इस दिन लोग व्रत रखकर बाल गोपाल के आगमन के लिए तरह-तरह के पकवान बनाते हैं, मंदिरों और घरों में सजावट की जाती है. पंचांग भेद के कारण इस साल जन्माष्टमी दो दिन 18 और 19 अगस्त को मनाई जाएगी. आइए जानते हैं जन्माष्टमी की तिथि और कब है रोहिणी नक्षत्र

किस दिन मनेगी जन्माष्टमी ? (Krishna Janmashtami 2022 Date)

इस साल भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि दो दिन पड़ रही है, 18 अगस्त 2022 गुरुवार की रात 09:21 से अष्टमी तिथि शुरू हो रही है, 19 अगस्त 2022 शुक्रवार की रात 10.50 अष्टमी तिथि का समाप्त हो जाएगी. धार्मिक मान्याओं के अनुसार बाल गोपाल का जन्म रात 12 बजे हुआ था लिहाजा रात्रि में कान्हा का जन्मोत्सव मनाने के लिए 18 अगस्त का दिन उत्तम है. वहीं सूर्योदय की दृष्टि से देखें तो 19 अगस्त को पूरे दिन जन्माष्टमी मनाई जाएगी. श्री कृष्ण जन्मस्थान मथुरा में 19 अगस्त को जन्मोत्सव मनाया जाएगा.

कब है रोहिणी नक्षत्र ? (Krishna Janmashtami 2022 Rohini nakshatra)

कान्हा का जन्म रोहिणी नक्षत्र में हुआ था लेकिन खास बात ये है कि इस साल 18 और 19 अगस्त दोनों ही दिन रोहिणी नक्षत्र का संयोग नहीं बन रहा है. 19 अगस्त को कृत्तिका नक्षत्र देर रात 01.53 तक रहेगा उसके बाद रोहिणी नक्षत्र शुरु होगा.

जन्माष्टमी 2022 राज योग (Krishna Janmashtami 2022 Shubh yoga)

जन्माष्टमी इस साल बेहद शुभ योग में मनाई जाएगी. कृष्ण के जन्मोत्सव पर वृद्धि और ध्रुव नामक दो शुभ योग बन रहे हैं. मान्यता है कि वृद्धि योग में बाल गोपाल संग मां लक्ष्मी स्वरूपा राधा जी की पूजा करने से घर में समृद्धि आती है.

वृद्धि योग प्रारंभ – 17 अगस्त 2022 रात 08.56

वृद्धि योग समाप्त – 18 अगस्त रात 08.41 तक

ध्रुव योग प्रारंभ – 18 अगस्त 2022 रात 08.41 से

ध्रुव योग समाप्त – 19 अगस्त रात 08.59 पर तक

Janmashtami 2022: जन्माष्टमी पर अति दुलर्भ योग बन रहे हैं, धन वृद्धि के लिए इस दिन कर लें ये उपाय

Radha Ashtami 2022: राधा अष्टमी कब है? जानें मुहूर्त, महत्व और राधा रानी की पूजा विधि

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.



Source link

पिछला लेखसू की को फिर 6 साल की सजा: भ्रष्टाचार के मामलों में दोषी करार, चैरिटी के नाम पर घोटाले का आरोप
अगला लेखOla ने लॉन्च की S-1 इलेक्ट्रिक स्कूटर, सिर्फ 499 रुपये में इस तरह कराएं बुक
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।