Janmashtami 2022 Yoga: जन्माष्टमी पर 400 साल बाद बना ऐसा महासंयोग

0
1


Krishna Janmashtami 2022: देश-विदेश में आज कान्हा का 5249वां जन्मोत्सव मनाया जा रहा है. धर्म ग्रंथों के अनुसार भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को बाल गोपाल ने आठवें मुहूर्त में जन्म लिया था. इस बार जन्माष्टमी का त्योहार बहुत खास है क्योंकि 400 साल बाद जन्माष्टमी पर 8 शुभ योग का महासंयोग (Janmashtami 2022 shubh yoga) बना है. शास्त्रों में सभी आठों योग का विशेष महत्व है. इन योग में गिरधर गोपाल की पूजा से कई गुना लाभ मिलेगा. साथ ही आज के दिन इन योग में खरीदारी और नए काम की शुरुआत करना बेहद शुभ माना जाता है.  आइए जानते हैं आज कान्हा की पूजा का  शुभ मुहूर्त. साथ ही जन्माष्टमी पर कौन से 8 योग बन रहे हैं.

जन्माष्टमी 2022 शुभ मुहूर्त (Janmashtami 19 august 2022 muhurat)

कान्हा की पूजा का मुहूर्त – 19 अगस्त 2022, रात 12.05 – रात 12:45

खरीदारी का शुभ मुहूर्त – दोपहर 12.00 – 2.30, शाम – 5.30 – 7.30

जन्माष्टमी 2022 योग

जन्माष्टमी पर 19 अगस्त को आज महालक्ष्मी, बुधादित्य, ध्रुव, छत्र, कुलदीपक, भारती, हर्ष, सत्कीर्ति का राजयोग बन रहा है. 400 साल बाद जन्माष्टमी पर एक साथ इन 8 योग का राजयोग बना है, इससे जन्मोत्सव का महत्व कई गुना बढ़ गया है.

किस योग का क्या महत्व:

  • कुलदीपक – कुलदीपक का योग बुध, गुरु और मंगल की युति से बना है. इस योग में कान्हा की पूजा से संतान पक्ष की समस्याएं खत्म हो जाती है. संतान की सफलता के लिए ये योग बहुत लाभदायक है.
  • ध्रुव – नए काम की शुरूआत के लिए ध्रुव योग शुभ माना जाता है. ये योग तिथि, वार और नक्षत्र से बनता है.
  • छत्र –  शुक्रवार और कृत्तिका नक्षत्र से बन रहे इस योग में नई जॉब औंर बिजनेस का आरंभ कर सकते है.
  • बुधादित्य – सूर्य और बुध से बने इस योग में कृष्ण की पूजा से हर कार्य सिद्ध होते हैं.
  • भारती –  गुरु और मंगल की युति से बना ये योग शुभ काम के लिए पुण्यकारी माना जाता है.
  • महालक्ष्मी – ये योग चंद्रमा और मंगल से बना है. इसमें निवेश करना ठीक रहेगा. साथ ही लेन-देन के लिए भी फायदेमंद है.
  • सत्कीर्ति – व्यापार और नौकरी से संबंधित कार्य के लिए ये योग बहुत खास माना गया है.
  • हर्ष – इस योग में किया शुभ काम सफल होता है. साथ ही सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है.

Janmashtami 2022: गीता के ये 5 श्लोक तमाम मुश्किलों का है समाधान, जन्माष्टमी पर जरूर पढ़ें

Janmashtami 2022 Vrat Parana: जन्माष्टमी व्रत कब- कैसे खोलें, जानें व्रत का पारण समय

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.



Source link

पिछला लेखITBP Recruitment 2022: आईटीबीपी में कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती के आवेदन शुरू, 10वीं पास इस लिंक से करें अप्लाई..
अगला लेखरेगिस्तान और बंजर जमीन के बावजूद कैसे UAE बना गया खेल और अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट के लिए दुनिया की पहली पसंद
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।