Explainer: इस फॉर्मूले से होगा पैसों का बंटवारा, फ्रैंचाइजियों को कितना मिलेगा, आसानी से समझिए करोड़ों का हिसाब-किताब

0
5


नई दिल्ली: तीन दिन तक चली नीलामी के बाद इंडियन प्रीमियर लीग के मीडिया राइट्स (IPL Media rights) बिक गए। इस सुपर ऑक्शन ने भारतीय क्रिकेट को मालामाल कर दिया। चार पैकेज में बांटे गए ये मीडिया अधिकार 48 हजार 390 करोड़ रुपये में बिके। यानी 2023 से लेकर 2027 टीवी और मोबाइल पर आईपीएल दिखाने के एवज में बीसीसीआई को यह पैसे मिलेंगे। एक मैच की कीमत के हिसाब से अब इंडियन प्रीमियर लीग दुनिया की दूसरी सबसे महंगी खेल प्रतियोगिता बन गई है। ऐसे में चलिए आपको यह समझाने की कोशिश करते हैं कि ये पैसे बंटेंगे कैसे और किसके हिस्से में कितने रुपये आएंगे।

दो हिस्सों में बंटेगे 48,390 करोड़

नेशनल फुटबॉल लीग (NFL) के बाद आईपीएल दुनिया की दूसरी सबसे महंगी लीग है। इंग्लिश प्रीमियर लीग (EPL) और मेजर लीग बेसबॉल (MLB) जैसे पुराने और प्रतिष्ठित वर्ल्ड वाइड टूर्नामेंट को मीडिया राइट्स में पछाड़ना कोई मामूली बात भी नहीं। 48,390 करोड़ को मुख्यत: दो हिस्सों में बांट जाएगा। आधे पैसे टूर्नामेंट की 10 फ्रैंचाइजियों के बीच बंटेगे, लेकिन 8 पुरानी टीम यानी मुंबई इंडियंस (MI), चेन्नई सुपरकिंग्स (CSK), सनराइजर्स हैदराबाद (SRH), कोलकाता नाइटराइडर्स (KKR), राजस्थान रॉयल्स (RR), रॉयल चैंलेजर्स बैंगलोर (RCB), पंजाब किंग्स (PBKS) और दिल्ली कैपिटल्स (DC) के पास बड़ा हिस्सा आएगा जबकि दोनों नई फ्रैंचाइजी चैंपियन गुजरात टाइटंस और लखनऊ सुपरजायंट्स के पास छोटा हिस्सा आएगा।

IPL Media Rights: BCCI के हाथ कुबेर का खजाना! IPL की एक गेंद पर 49 लाख, जबकि हर ओवर पर 2.95 करोड़ कमाई

आधा पैसा भारतीय क्रिकेट बोर्ड रखेगा
48 हजार 390 करोड़ का आधा यानी 24 हजार 195 करोड़ भारतीय क्रिकेट बोर्ड रखेगा। इन पैसों को देश में क्रिकेट की नींव मजबूत करने पर खर्च किया जाएगा। खिलाड़ियों, कर्मचारियों और राज्य क्रिकेट संघों को पैसे दिए जाएंगे। पिछले साल तक यह मॉडल अलग हुआ करता था। इस आधे हिस्से में से 70 फीसदी पैसे राज्य बोर्डों को दिया जाता था। आईपीएल में कर्मचारियों को चार प्रतिशत और विभिन्न घरेलू और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के बीच 26 प्रतिशत का वितरण किया गया था।

चार अलग-अलग पैकेज को भी समझ लीजिए
इस बार भारतीय उपमहाद्वीप के लिए टीवी अधिकार, डिजिटल अधिकार, 18 मैचों (शुरुआती, सप्ताह के अंत में डबल हेडर, चार प्लेऑफ) और शेष विश्व के लिए चार वर्ग बनाए गए थे। आधार कीमत 32890 करोड़ रुपये थी और चतुराई से पैकेज बेचे जाने पर सात अरब डॉलर से अधिक का मूल्य आंका गया था।

पैकेज- A: टीवी राइट्स (भारत), बेस प्राइस- 49 करोड़ प्रति मैच
पैकेज-B: डिजिटल राइट्स (भारत), बेस प्राइस- 33 करोड़ प्रति मैच
पैकेज-C: स्पेशल मैच के राइट्स, बेस प्राइस- 11 करोड़ प्रति मैच
पैकेज-D: ओवरसीज राइट्स, बेस प्राइस- 3 करोड़ रुपये प्रति मैच

Most Expensive Sports League: IPL मीडिया राइट्स को मिले 48,390 करोड़, फिर भी नंबर-1 नहीं, जानें खेल की टॉप-5 लीग के बारे में
किसने कौन से राइट्स जीते?

भारतीय उपमहाद्वीप के टीवी अधिकार डिज्नी स्टार ने 23575 करोड़ रुपये (57.5 करोड़ रुपये प्रति मैच) में खरीदे, लेकिन डिजिटल अधिकार रिलायंस की वायकॉम 18 ने 20500 करोड़ रुपये में अपने नाम किए। वायकॉम ने ‘नॉन एक्सक्लूजिव’ अधिकारों का सी पैकेज भी 2991 करोड़ रुपये में खरीदा। ए और बी पैकेज में अगले पांच साल के 410 मैच (2023 और 2024 में 74-74 मैच , 2025 और 2026 में 84-84 मैच और 2027 के 94 मैच) शामिल हैं। पैकेज सी में 18 ‘नॉन एक्सक्लूजिव’ मैचों के अधिकार शामिल थे, जिसे वायकॉम 18 ने 2991.6 करोड़ रुपये में खरीदा यानी प्रति मैच 33.24 करोड़ रुपये। इस पैकेज में 90 मैच हैं। पैकेज डी में विदेशी टीवी और डिजिटल अधिकार थे जो वायकॉम 18 और टाइम्स इंटरनेट ने 1300 करोड़ रुपये में खरीदे।



Source link

पिछला लेखबेरोजगारों ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय का किया घेराव: 8 सूत्री मांगों को लेकर कर रहे प्रदर्शन, 4 दिन से दे रहे हैं धरना
अगला लेखसाई पल्लवी के बयान पर बवाल: एक्ट्रेस बोलीं- कश्मीर पंडितों के नरसंहार और गो-तस्करों की लिंचिंग में कोई फर्क नहीं, दोनों गलत
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।