COVID का ज़्यादा संक्रामक वेरिएंट ‘Mu’ आया सामने, वैक्सीन भी हो सकती है बेअसर : WHO

0
0


New Covid Variant : Mu को वैज्ञानिक रूप से B.1.621 के रूप में जाना जाता है.

जेनेवा (स्विटजरलैंड):

New Covid Variant: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि उसके वैज्ञानिक  “Mu” नामक एक नए किस्म के कोरोनावायरस (Coronavirus) वैरिएंट की निगरानी कर रहे हैं, जिसकी पहचान पहली बार जनवरी 2021 में कोलंबिया में की गई थी. इस वैरिएंट को वैज्ञानिक रूप से B.1.621 के रूप में जाना जाता है. WHO ने मंगलवार को अपने साप्ताहिक महामारी बुलेटिन में ये बातें कहीं.

यह भी पढ़ें

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि वैरिएंट में म्यूटेशन है जो टीकों के बेअसर करने के संकेत दे रहे हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जोर देकर कहा कि इसे बेहतर ढंग से समझने के लिए आगे अध्ययन की आवश्यकता है. बुलेटिन में कहा गया है, “Mu वैरिएंट में म्यूटेशन का एक constellation है जो वैक्सिन से बचने के संभावित गुणों का संकेत देता है.”

नए वायरस म्यूटेशन के उभरने के बाद वैश्विक स्तर पर यह चिंता बढ़ गई है कि फिर से संक्रमण दर विश्व स्तर पर बढ़ सकती है और डेल्टा वैरिएंट से भी ज्यादा संक्रमण फैला सकती है, विशेष रूप से उन लोगों के बीच जो टीकाकृत नहीं हैं या उन क्षेत्रों में जहां एंटी-वायरस उपायों में ढील दी गई है.

आगे की राह उम्‍मीद से कहीं ज़्यादा मुश्किल हो सकती है : गूगल कर्मचारियों से बोले सुंदर पिचई

WHO ने कहा है कि SARS-CoV-2 समेत सभी वायरस, जो कोविड -19 का कारण बनते हैं, समय के साथ म्यूटेंट होते हैं और अधिकांश म्यूटेशन के मामले में वायरस के गुणों पर बहुत कम या कोई खास प्रभाव नहीं पड़ता लेकिन कुछ म्यूटेशन वायरस के गुणों को इतनी गंभीरता से प्रभावित कर सकते हैं कि वह संक्रमण की दर आसानी से बढ़ा सकता है और टीकों, दवाओं का प्रभाव भी बेअसर कर सकता है.

WHO ने वर्तमान में चार कोविड -19 वेरिएंट की पहचान की है, जिसमें अल्फा भी शामिल, जो 193 देशों में मौजूद है. डेल्टा वैरिएंट 170 देशों में मौजूद है. म्यू वैरिएंट पांचवां वैरिएंट है, जिस पर नजर रखी जा रही है. कोलंबिया में पाए जाने के बाद, म्यू को अन्य दक्षिण अमेरिकी देशों और यूरोप में रिपोर्ट किया गया है.



Source link

पिछला लेखKia Seltos X Line Trim: जबरदस्त फीचर्स के साथ किआ ने लॉन्च की सेल्टोस की X लाइन ट्रिम, जानिए कीमत
अगला लेखराजस्थान में खुले 9वीं से 12वीं कक्षा तक स्कूल: स्कूल शिक्षा मंत्री ने विभाग के स्कूली पाठ्यक्रम में 30% सिलेबस कम करने का फैसला किया, हर महीने टेस्ट लेकर किया जाएगा मूल्यांकन
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।