Coronavirus India Updates : केरल में कोरोनावायरस संक्रमण के 9,246 नए मामले, 96 और मरीजों की मौत

0
1


केरल में गुरुवार को कोरोना वायरस के 9,246 नए मामले सामने आए. (फाइल फोटो)

केरल (Kerala) में गुरुवार को कोरोनावायरस संक्रमण (Coronavirus infection) के 9,246 नए मामले सामने आए तथा महामारी से 96 और मरीजों की मौत हो गई. इसके साथ ही राज्य में संक्रमितों एवं मरने वालों की संख्या बढ़कर क्रमश: 48,29,944 और 26,667 हो गई. अगस्त में ओणम के त्यौहार के बाद राज्य में प्रतिदिन कोरोनावायरस संक्रमण (Coronavirus infection) के 30 हजार से अधिक मामले सामने आने लगे थे लेकिन अब इसमें गिरावट देखने को मिल रही है. राज्य सरकार के बुलेटिन में कहा गया कि पिछले एक दिन में 10,952 लोग स्वस्थ हो गए. केरल में कोविड-19 (Covid-19 in Kerala) से पीड़ित होने के बाद अब तक 47,06,856 लोग ठीक हो चुके हैं. इसके अनुसार प्रदेश में 95,828 मरीज उपचाराधीन हैं.

Here are the updates on Coronavirus cases in Hindi

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

गोवा में कोरोना वायरस संक्रमण के 68 नए मामले, दो लोगों की मौत

गोवा में कोरोना वायरस संक्रमण के 68 नए मामले सामने आए हैं जिससे बृहस्पतिवार तक मामलों की कुल संख्या 1,77,356 हो गई है, जबकि दो और मरीजों की संक्रमण से मौत हुई है. यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने दी. उन्होंने बताया कि दो और लोगों की कोरोना वायरस से मौत के साथ ही मृतकों की कुल संख्या 3,335 हो गई है.

उन्होंने बताया कि राज्य में 39 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी मिलने के साथ अब तक 1,73,342 लोग इस संक्रमण से उबर चुके हैं. गोवा में अब उपचाराधीन मरीजों की संख्या 679 है.

तेलंगाना में कोरोना वायरस संक्रमण के 168 नये मामले सामने आये

तेलंगाना में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 168 नये मामले दर्ज किये गये जिससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 6,68,618 पर पहुंच गई जबकि महामारी से एक और व्यक्ति की मौत होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 3,935 हो गई है. राज्य सरकार के एक बुलेटिन के अनुसार ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) में सबसे अधिक 57 मामले सामने आये हैं, इसके बाद वारंगल में 17 और नलगोंडा जिले में 11 मामले दर्ज किये गये हैं.

इसके अनुसार राज्य में 207 और इस महामारी से स्वस्थ हुए हैं जिससे ठीक हुए लोगों की संख्या बढ़कर 6,60,512 हो गई है. बुलेटिन के अनुसार राज्य में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 4,171 हैं.

हरियाणा में कोविड से होने वाली मौत की कुल संख्या 10 हजार के पार पहुंची

हरियाणा में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण का एक भी नया मामला सामने नहीं आया लेकिन राज्य के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी दैनिक बुलेटिन में बताया गया कि “डेथ ऑडिट” के बाद बुलेटिन में 174 मरीजों की मौत जोड़ी गई जिसके बाद मृतकों की संख्या 10 हजार के आंकड़े को पार कर गई.

बुधवार को जारी बुलेटिन में मृतकों की संख्या 9,875 थी. बृहस्पतिवार को जारी एक अन्य बुलेटिन में मृतकों की कुल संख्या 10,049 दर्शायी गई. बुलेटिन के अनुसार, राज्य की डेथ ऑडिट समिति द्वारा कुल विचाराधीन संक्रमण के मामलों में से 174 मौतों को “कोविड-19 से हुई मौत” घोषित किया गया है.

भारत के साथ कोविड-19 टीके को परस्पर मान्यता देने पर 30 से अधिक देश सहमत: सूत्र

कोविड-19 टीके के प्रमाण पत्र को परस्पर मान्यता देने को लेकर 30 से ज्यादा देशों ने भारत के साथ सहमति प्रकट की है. आधिकारिक सूत्रों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, नेपाल, बेलारूस, लेबनान, आर्मीनिया, यूक्रेन, बेल्जियम, हंगरी और सर्बिया समेत अन्य देश भारत के साथ परस्पर मान्यता देने पर राजी हुए हैं.

सूत्रों ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्स्वाना, चीन और ब्रिटेन समेत कुछ यूरोपीय देश उन देशों में शामिल हैं जहां के यात्रियों को भारत आने पर अतिरिक्त नियमों का पालन करना पड़ता है. इसमें आगमन के बाद जांच करवाना शामिल है.

भारत में अब तक कोविड टीकों की 97 करोड़ से अधिक खुराकें दी गयीं : सरकार

देश भर में बृहस्पतिवार को कोविड टीकों की 27 लाख से अधिक खुराकें दी गयी और इसके साथ ही देश भर में अब तक दी गयी खुराकों की संख्या 97 करोड़ को पार कर गयी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी. शाम सात बजे तक अद्यतन किए गए आंकड़ों के मुताबिक विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कुल 69,24,56,103 पहली खुराक दी गई है जबकि 27,86,64,302 दूसरी खुराक दी गई है. कुल मिलाकर 18-44 आयु वर्ग के व्यक्तियों को 39,10,45,406 पहली खुराक दी गई है वहीं 10,80,93,471 लोगों को दूसरी खुराक दी गयी है.

मंत्रालय ने कहा कि देर रात तक दिन भर की अंतिम रिपोर्ट के एकत्र होने के साथ ही दैनिक टीकाकरण संख्या में वृद्धि होने की उम्मीद है. बुधवार को टीकों की 27,62,523 खुराकें दी गईं. मंत्रालय ने रेखांकित किया कि देश में सबसे संवेदनशील जनसंख्या समूहों को कोविड-19 से बचाने के लिए एक उपकरण के तौर पर टीकाकरण अभियान की नियमित रूप से समीक्षा की जा रही है और उच्चतम स्तर पर इसकी निगरानी की जा रही है.

महाराष्ट्र में कोविड-19 के 2384 नये मामले सामने आये, 35 लोगों की मौत

महाराष्ट्र में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 2384 नये मामले सामने आये जबकि प्रदेश में इससे 35 लोगों की मौत हो गयी . स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी. अधिकारी ने बताया कि नये मामलों के सामने आने के बाद प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 65,86,280 हो गयी है जबकि 35 और लोगों के महामारी से दम तोड़ देने की वजह से प्रदेश में मरने वालों की संख्या 1,39,705 पर पहुंच गयी है.

उन्होंने बताया कि बुधवार को प्रदेश में 2219 मामले सामने आये थे. उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटे में 2343 लोग उपचार के बाद ठीक हुये हैं जिससे राज्य में संक्रमण मुक्त होने वाले लोगों की तादाद 64,13,418 हो गयी है. अधिकारी के अनुसार प्रदेश में 29,560 मामले उपचाराधीन हैं . उन्होंने बताया कि प्रदेश में 2,26,249 लोग अपने घर में पृथक-वास में हैं जबकि 1070 संस्थागत पृथक-वास में हैं.

उन्होंने बताया कि नये मामलों में सबसे अधिक 558 मामले मुंबई जिले में सामने आये जबकि पांच लोगों की मौत हो गयी . इसके बाद मुंबई में संक्रमितों और मरने वालों का आंकड़ा क्रमश: 7,50,494 तथा 16,172 पर पहुंच गया है.

मुंबई में बीएमसी, महाराष्ट्र सरकार के केंद्रों पर शुक्रवार को नहीं होगा कोविड रोधी टीकाकरण

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) और महाराष्ट्र सरकार द्वारा मुंबई में संचालित केंद्रों पर शुक्रवार को कोविड रोधी टीकाकरण नहीं होगा. यह जानकारी नगर निकाय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी. उन्होंने कहा कि नगर निकाय के पास टीकों का पर्याप्त भंडार है और टीकाकरण शनिवार से बहाल होगा. महानगर में 374 सक्रिय टीकाकरण केंद्र हैं जिनमें से 309 का संचालन बीएमसी और 20 केंद्रों का संचालन राज्य सरकार के पास है.

मुंबई में 13 अक्टूबर की शाम तक 1,33,13,138 लोगों को कोविड रोधी टीके की कम से कम एक खुराक लग चुकी है. इनमें से 47,52,723 लोगों को दोनों खुराक लग चुकी हैं.

कोविड-19 का प्रसार रोकने में ‘लेटरल फ्लो टेस्ट’ विश्वसनीय तरीका : अध्ययन

यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन (यूसीएल) के अनुसंधानकर्ताओं ने बृहस्पतिवार को कहा कि कोविड-19 के प्रसार संबंधी जोखिम को जांचने के लिए ब्रिटेन के स्कूलों और कार्यस्थलों पर व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जा रहे ‘लेटरल फ्लो टेस्ट’ (एलएफटी) पहले की जानकारी के मुकाबले अधिक सटीक हैं और इनकी सीधे इससे तुलना नहीं की जा सकती कि ‘पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन’ (पीसीआर) किस तरह काम करती है.

‘क्लीनिकल एपिडेमियोलॉजी’ में प्रकाशित एक पत्र में वैज्ञानिकों ने उल्लेख किया है कि कोरोना वायरस संक्रमण के किसी भी स्तर का पता लगाने में एलएफटी के 80 प्रतिशत से अधिक सटीक होने की संभावना है तथा इसके साथ ही जांच के समय यह सर्वाधिक संक्रमित लोगों का पता लगाने में 90 प्रतिशत से अधिक प्रभावी हो सकता है. पूर्व में किए गए कुछ अध्ययनों में दी गई जानकारी के मुकाबले सटीकता का यह स्तर काफी अधिक है. अनुसंधान रिपोर्ट लिखने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में यह परीक्षण एक विश्वसनीय जनस्वास्थ्य तरीका है.

आधे कोविड-19 रोगी सही होने के छह महीने बाद तक लक्षणों का सामना करते हैं: अध्ययन

कोविड-19 से बीमार हुए आधे से अधिक लोगों में स्वस्थ होने के छह महीने बाद तक कुछ लक्षण सामने आते रहते हैं जिसे ‘लांग कोविड’ कहते हैं. अमेरिका के पेन स्टेट कॉलेज ऑफ मेडिसिन के अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि सरकारों, स्वास्थ्य देखभाल संगठनों और सार्वजनिक स्वास्थ्य पेशेवरों को बड़ी संख्या में ऐसे मामलों के लिए तैयार रहना चाहिए जिनमें कोविड से स्वस्थ हो चुके लोगों को अनेक तरह के मनोवैज्ञानिक और शारीरिक लक्षणों के लिए देखभाल की जरूरत हो सकती है.

उन्होंने कहा कि बीमारी के दौरान कोविड-19 के अनेक रोगियों में थकान, सांस लेने में कठिनाई, छाती में दर्द और स्वाद या गंध चले जाने जैसे लक्षण होते हैं. जेएएमए नेटवर्क ओपन पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में 57 रिपोर्ट की समीक्षा की गयी जिनमें 2,50,351 लोगों के आंकड़े शामिल हैं. इनमें वयस्क और बच्चे हैं जिन्हें टीका नहीं लगा था और जिनमें दिसंबर 2019 से मार्च 2021 के बीच कोविड-19 होने का पता चला था.

जिन लोगों पर अध्ययन किया गया, उनमें 79 प्रतिशत को अस्पतालों में भर्ती कराया गया था और अधिकतर रोगी (79 प्रतिशत) अधिक आय वाले देशों के हैं. रोगियों की औसत आयु 54 वर्ष रही और अधिकतर (56 प्रतिशत) पुरुष थे.

देश में 215 दिन में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या सबसे कम

भारत में एक दिन में कोविड-19 के 18,987 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर बृहस्पतिवार को 3,40,20,730 हो गई. वहीं, मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर बढ़कर 98.07 प्रतिशत हो गई है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बृहस्पतिवार को सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण से 246 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 4,51,435 हो गई. देश में लगातार 20 दिनों से कोविड-19 के दैनिक मामले 30 हजार से कम हैं और 109 दिन से 50 हजार से कम नए दैनिक मामले सामने आ रहे हैं. देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी कम होकर 2,06,586 रह गई है, जो कुल मामलों का 0.61 प्रतिशत है. 

देश में 215 दिन में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या सबसे कम है. पिछले 24 घंटे में उपचाराधीन मरीजों की संख्या में कुल 1067 की कमी दर्ज की गई. मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर बढ़कर 98.07 प्रतिशत हो गई है. आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी तक कुल 58,76,64,525 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई है, जिनमें से 13,01,083 नमूनों की जांच बुधवार को की गई. अभी तक कुल 3,33,62,709 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं, जबकि वैश्विक महामारी से मृत्यु दर 1.33 प्रतिशत है. दैनिक संक्रमण दर 1.46 प्रतिशत और साप्ताहिक संक्रमण दर 1.44 प्रतिशत है. राष्ट्रव्यापी टीकाकरण मुहिम के तहत अभी तक कोविड-19 रोधी टीकों की 96.82 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं.

देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी. वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे. देश में 19 दिसंबर को ये मामले एक करोड़ के पार, इस साल चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे.

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में जिन 246 लोगों की मौत संक्रमण से हुई, उनमें से महाराष्ट्र के 123 लोग और केरल के 49 लोग थे. देश में संक्रमण से अभी तक कुल 4,51,435 लोगों की मौत हुई है, जिनमें से महाराष्ट्र के 1,39,670 लोग, कर्नाटक के 37,916 लोग, तमिलनाडु के 35,833 लोग, केरल के 26,571 लोग, दिल्ली के 25,089 लोग, उत्तर प्रदेश के 22,897 लोग और पश्चिम बंगाल के 18,935 लोग थे. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक जिन लोगों की संक्रमण से मौत हुई है, उनमें से 70 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं. मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है.

देश में कोविड-19 के 18,987 नए मामले सामने आए

भारत में एक दिन में कोविड-19 के 18,987 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर बृहस्पतिवार को 3,40,20,730 हो गई. वहीं, मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर बढ़कर 98.07 प्रतिशत हो गई है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बृहस्पतिवार सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण से 246 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 4,51,435 हो गई. देश में लगातार 20 दिनों से कोविड-19 के दैनिक मामले 30 हजार से कम और 109 दिन से 50 हजार से कम नए दैनिक मामले सामने आ रहे हैं. 

देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी कम होकर 2,06,586 रह गई है, जो कुल मामलों का 0.61 प्रतिशत है. पिछले 24 घंटे में उपचाराधीन मरीजों की संख्या में कुल 1067 की कमी दर्ज की गई. आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी तक कुल 58,76,64,525 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई है, जिनमें से 13,01,083 नमूनों की जांच बुधवार को की गई. अभी तक कुल 3,33,62,709 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं, जबकि वैश्विक महामारी से मृत्यु दर 1.33 प्रतिशत है. दैनिक संक्रमण दर 1.46 प्रतिशत और साप्ताहिक संक्रमण दर 1.44 प्रतिशत है. 

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण मुहिम के तहत अभी तक कोविड-19 रोधी टीकों की 96.82 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं. देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी. वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे. देश में 19 दिसंबर को ये मामले एक करोड़ के पार, इस साल चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे.

महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कोविड-19 रोधी टीके की 75 लाख से अधिक खुराक लगाई गई

महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कोविड-19 रोधी टीकों की 75 लाख से अधिक खुराक लगाई जा चुकी है. अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. जिले के सूचना अधिकारी अजय जाधव ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि बुधवार तक ठाणे में कोविड-19 रोधी टीकों की 75,32,755 खुराक लगाई जा चुकी थी.

उन्होंने बताया कि बुधवार को 54,857 टीके लगाए गए. जिले में अभी तक कुल 50,85,862 लोगों को टीके की पहली खुराक और 24,46,893 लोगों को टीके की दोनों खुराक दी जा चुकी है.

महाराष्ट्र में 9 करोड़ लोगों को कोविड टीके की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है : सरकार
महाराष्ट्र सरकार ने बुधवार को कहा कि राज्य में अब तक नौ करोड़ लोगों को कोविड-रोधी टीके की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है जोकि देश में सर्वाधिक संख्या है. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि बुधवार शाम तक महाराष्ट्र के नौ करोड़ लोगों को टीके की खुराक दी चुकी है. इनमें से 2.76 करोड़ लोगों को टीके की दोनों खुराक दी जा चुकी है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार टीकाकरण अभियान में और तेजी लाने को प्रयासरत है.



Source link

पिछला लेख50 साल पहले का जानलेवा पारा फिर जीवंत हुआ: जापान में जिस औद्योगिक त्रासदी से लाखों लोगों की जिंदगी तबाह हुई, उसका खुलासा करने वाले की कहानी अब दुनिया देखेगी
अगला लेखसरदार उधम सिंह: विक्की कौशल ने किया कन्फर्म, 20 साल का उधम दिखने के लिए 14 से 15 किलो वेट गेन किया, उरी और राजी के बाद तीसरी देशभक्ति फिल्म
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।