CBSE Exams 2022: साल में दो बार होगी 10वीं-12वीं की परीक्षा, सिलेबस में भी कटौती

0
0


CBSE Board Exams 2022: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने क्लास 10 और 12 के लिए बड़ा फैसला लिया है। यह 2022 में होने वाली 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के संबंध में है। सीबीएसई बोर्ड 2022 (CBSE Board 2022) के लिए दो बार परीक्षाएं ली जाएंगी। इस बारे में सीबीएसई ने सर्कुलर भी जारी कर दिया है। इसमें बताया गया है कि ये एग्जाम्स किस तरह लिये जाएंगे? सिलेबस कैसा होगा? इंटरनल असेसमेंट्स की क्या पॉलिसी रहेगी? इन सभी सवालों के जवाब आगे पढ़ें….

2021 में कोरोना की दूसरी लहर के कारण सीबीएसई 10वीं व 12वीं की परीक्षाएं रद्द करनी पड़ी थीं। इसलिए 2022 की परीक्षा के लिए बोर्ड ने अभी से ही तैयारी कर ली है। सीबीएसई के अनुसार, कोरोना की तीसरी लहर (Covid 3rd Wave) की आशंका के मद्देनजर 2022 की बोर्ड परीक्षा के लिए स्पेशल स्कीम (CBSE Special Scheme 2021-22) तैयार की गई है। इसके तहत क्लास 10 और 12 को दो टर्म में बांटा गया है। दोनों टर्म्स के अंत में एग्जाम्स लिए जाएंगे। दोनों में सिलेबस (CBSE Syllabus 2021) भी अलग-अलग होंगे।

कैसा होगा टर्म-1 एग्जाम का पैटर्न
फर्स्ट टर्म के अंत में बोर्ड टर्म-1 एग्जाम लेगा। यह नवंबर-दिसंबर 2021 के बीच लिया जाएगा। मल्टीपल च्वाइस क्वेश्चंस पूछे जाएंगे। केस आधारित एमसीक्यू और असर्श-रीजनिंग टाइप एमसीक्यू भी पूछे जाएंगे। हर पेपर का टेस्ट 90 मिनट का होगा। इसमें टर्म-1 के सिलेबस से ही सवाल आएंगे। यानी पूरे सिलेबस के 50 फीसदी हिस्से से।

क्वेश्चन पेपर्स सीबीएसई ही भेजेगा। एग्जाम उसी स्कूल में होगा जहां स्टूडेंट्स पढ़ रहे होंगे। लेकिन एग्जाम की निगरानी के लिए सीबीएसई बोर्ड द्वारा एक्सटर्नल सेंटर सुपरिटेंडेंट्स और ऑब्जर्वर्स नियुक्त किये जाएंगे।

स्टूडेंट्स को ओएमआर शीट पर आंसर देने होंगे। इन्हें स्कैन करके सीबीएसई के पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। या फिर स्कूल्स इनका मूल्यांकन करने के मार्क्स सीबीएसई पोर्टल पर अपलोड करेंगे। इस पर अंतिम निर्णय बोर्ड द्वारा स्कूल्स को सूचित कर दिया जाएगा।

कैसा होगा टर्म-2 एग्जाम का पैटर्न
टर्म-2 या ईयर एंड एग्जाम का आयोजन भी सीबीएसई द्वारा ही किया जाएगा। शेष 50 फीससदी सिलेबस से ही सवाल पूछे जाएंगे। यह परीक्षा मार्च-अप्रैल 2022 के बीच ली जाएगी। पेपर 2 घंटे का होगा। इसमें अलग-अलग तरह के सवाल पूछे जाएंगे। यानी एमसीक्यू, शॉर्ट आंसर टाइप और लॉन्ग आंसर टाइप।

लेकिन अगर कोरोना के कारण परिस्थितियां सामान्य नहीं रहीं, तो टर्म-2 एग्जाम भी 90 मिनट का ही लिया जाएगा। टर्म-1 की तरह ही सिर्फ एमसीक्यू क्वेश्चंस पूछे जाएंगे। दोनों टर्म्स के मार्क्स स्टूडेंट्स के ओवरऑल बोर्ड रिजल्ट्स में जुड़ेंगे।



Source link

पिछला लेख10वीं-12वीं के लिए नई असेसमेंट स्कीम: CBSE ने इस साल के एकेडमिक सेशन को दो हिस्सों में बांटा; नवंबर-दिसंबर में पहले, मार्च-अप्रैल में दूसरे टर्म के एग्जाम होंगे
अगला लेखमारूति की सभी कारों पर बंपर डिस्काउंट! सिलेक्टेड मॉडल्स पर 54000 रुपये तक छूट, जानें सबकुछ
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।