Blood Cancer Awareness Month: ल्यूकेमिया (खून का कैंसर) क्या है? जानें लक्षण

0
2


Leukemia Symptoms: मेडांता के मुताबिक, भारत में हर साल 15 लाख लोग कैंसर से पीड़ित होते हैं. कैंसर के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए सितंबर को ब्लड कैंसर अवेयरनेस मंथ (Blood Cancer Awareness Month) के रूप में मनाया जाता है. ब्लड कैंसर (Blood Cancer) यानी खून का कैंसर कई प्रकार के होते हैं, जो ब्लड सेल्स और बोन मैरो को प्रभावित करते हैं. इस आर्टिकल में हम ल्यूकेमिया (खून के कैंसर) (Leukemia) के बारे में जानेंगे.

ब्लड कैंसर के प्रकार (Types of Blood Cancer)
ब्लड कैंसर मुख्यतः तीन प्रकार का होता है. जैसे-

  • ल्यूकेमिया (Leukemia)
  • लिम्फोमा (Lymphoma)
  • मायलोमा (Myeloma)

इन ब्लड कैंसर के कारण आपका बोन मैरो और लिम्फेटिक सिस्टम कम प्रभावशाली ब्लड सेल्स का उत्पादन करने लगता है. ब्लड कैंसर के ये तीनों प्रकार विभिन्न प्रकार की व्हाइट ब्लड सेल्स को प्रभावित करते हैं.

ये भी पढ़ें: National Nutrition Week: डायबिटिक पेशेंट बेधड़क खा सकते हैं ये फूड, जानें मधुमेह के लिए हेल्दी डायट

ल्यूकेमिया क्या है? (What is leukemia)
ल्यूकेमिया खून के कैंसर का एक प्रकार है. जो बोन मैरो जैसे खून बनाने वाले टिश्यू से विकसित होता है. शरीर में बोन मैरो उन सेल्स का निर्माण करता है, जो व्हाइट ब्लड सेल्स, रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स में विकसित होती हैं. आपको बता दें कि व्हाइट ब्लड सेल्स शरीर को संक्रमण से लड़ने, रेड ब्लड सेल्स फेफड़ों से अन्य अंगों तक ऑक्सीजन पहुंचाने और प्लेटलेट्स ब्लीडिंग को रोकने का कार्य करती हैं.

ल्यूकेमिया में अक्सर व्हाइट ब्लड सेल्स प्रभावित होती हैं और बोन मैरो असामान्य कोशिकाओं का निर्माण शुरू कर देता है. इन्हीं असामान्य कोशिकाओं को कैंसरीकृत कोशिकाएं कहा जाता है. जो कि स्वस्थ सेल्स को घेर लेती हैं और उन्हें कार्य नहीं करने देती हैं.

ल्यूकेमिया के प्रकार (leukemia types)
ल्यूकेमिया का प्रकार असामान्य सेल्स के विकसित होने की गति और ब्लड सेल्स के प्रकार पर निर्भर करता है. जैसे-

एक्यूट लिंफोसाइटिक ल्यूकेमिया (ALL)- इसमें व्हाइट ब्लड सेल्स प्रभावित होती हैं. जो कि काफी तेजी से फैलने लगती हैं. यह खून का कैंसर बच्चों में सबसे आम होता है. हालांकि, यह वयस्कों को भी प्रभावित करता है.
एक्यूट मायलॉइड ल्यूकेमिया (AML)- इसमें मायलॉइड सेल्स प्रभावित होती हैं. जो व्हाइट ब्लड सेल्स, रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स में विकसित होती हैं. इस प्रकार में भी कैंसरीकृत कोशिकाएं काफी तेजी से फैलती हैं. यह वयस्कों को ज्यादा प्रभावित करता है. हालांकि, बच्चों को भी हो सकता है.
क्रॉनिक लिंफोसाइटिक ल्यूकेमिया (CLL)- व्हाइट ब्लड सेल्स को प्रभावित करने वाले इस प्रकार में असामान्य कोशिकाएं धीरे-धीरे फैलती हैं. यह वयस्कों को ज्यादा प्रभावित करता है.
क्रॉनिक मायलॉइड ल्यूकेमिया (CML)- मायलॉइड सेल्स को प्रभावित करने वाले इस प्रकार में भी कैंसररस सेल्स धीरे-धीरे फैलती हैं. यह प्रकार भी वयस्कों को ज्यादा प्रभावित करता है.

ये भी पढ़ें: Cancer Stages: कैंसर की होती हैं 5 स्टेज, इस स्टेज के बाद बीमारी हो जाती है बेकाबू

ल्यूकेमिया के लक्षण (leukemia symptoms)
मेडलाइन प्लस के मुताबिक, ल्यूकेमिया के कुछ आम लक्षण इस प्रकार हैं. जैसे-

  • अचानक वजन घटना
  • अचानक भूख कम हो जाना
  • हमेशा थकावट रहना
  • बुखार आना
  • रात में पसीना आना
  • शरीर पर आसानी से नील पड़ जाना
  • ब्लीडिंग रुकने में दिक्कत
  • त्वचा के नीचे खून के हल्के धब्बे दिखना, आदि

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.





Source link

पिछला लेखशनि देव को प्रसन्न करने के लिए अपनाएं ये उपाय, यूं दूर होगी साढ़े साती
अगला लेखनसीरुद्दीन शाह का तीखा हमला: तालिबान की जीत का जश्न मना रहे भारतीय मुसलमानों से बोले नसीरुद्दीन- खुद से पूछो अपने मजहब में सुधार चाहिए या पिछली सदियों जैसा वहशीपन
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।