सैनिकों को अंतिम विदाई: बाइडेन और फर्स्ट लेडी ने काबुल में मारे गए 13 सैनिकों की डेड बॉडीज रिसीव कीं, सैनिकों के फैमिली मेंबर्स से प्राईवेट मीटिंग

0
1


  • Hindi News
  • International
  • US Army | President And First Lady Jill Biden Join The Families Of The 13 Members Of The US Military Who Killed In Afghanistan

डोवर एयरबेस (डेलावेयर)2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

काबुल में पिछले हफ्ते फिदायीन हमले में मारे गए 13 अमेरिकी सैनिकों के शव रविवार को अमेरिका के डेलावेयर लाए गए। इन्हें यहां पूरे सम्मान के साथ डोवर एयरफोर्स बेस पर उतारा गया। राष्ट्रपति जो बाइडेन और प्रथम महिला जिल बाइडेन अल सुबह ही डेलावेयर पहुंच गए थे। जब ये शव डोवर एयरफोर्स बेस पर पहुंचे तो प्रेसिडेंट और फर्स्ट लेडी के साथ डिफेंस सेक्रेटरी लॉयड ऑस्टिन और तमाम बड़े अफसर मौजूद थे।

एयरफोर्स बेस पहुंचने से पहले फर्स्ट फैमिली ने मारे गए तमाम सैनिकों के फैमिली मेंबर्स से अकेले में मुलाकात की और उनके प्रति संवेदनाएं व्यक्त कीं। राष्ट्रपति ने कहा कि इन अमेरिकी सैनिकों ने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान किया है। हम इन पर गर्व है।

11 मरीन सैनिक
मारे गए अमेरिकी सैनिकों में 11 मरीन कमांडो, एक नेवी मेडिकल पर्सनल और एक अन्य सहयोगी शामिल हैं। गुरुवार को काबुल एयरपोर्ट पर हुए फिदायीन हमले में इन सभी की मौत हुई थी। कुल मिलाकर 174 लोग मारे गए थे। अमेरिकी सैनिकों के अलावा मारे गए सभी लोग अफगानिस्तान के नागरिक थे। जानकारी के मुताबिक, काबुल में अब भी 2500 से ज्यादा अमेरिकी मौजूद हैं। इसके अलावा सैनिक हैं। इन सभी को 31 अगस्त के पहले काबुल छोड़ना है। अब ये भी तय हो चुका है कि अफगानिस्तान में कोई अमेरिकी डिप्लोमैट भी नहीं रहेगा।

मीडिया को ज्यादा एक्सेस नहीं
मारे गए 11 सैनिकों के परिवारों ने मीडिया को शव देखने की मंजूरी तो दी, लेकिन फोटोग्राफ्स नहीं लेने दिए गए। 2 परिवार ऐसे थे जिन्होंने किसी को वहां नहीं आने दिया। मारे गए सभी सैनिकों की उम्र 20 से 31 साल के बीच थी। काबुल में मारे गए अमेरिकी सैनिकों में से कई के परिजनों ने वहां से निकलने के बाइडेन के प्लान की आलोचना की है।

भावुक हो गए प्रेसिडेंट
बाइडेन ने जब सैनिकों के राष्ट्रीय ध्वज में लिपटे शव देखे तो वे भावुक हो गए। उन्होंने अपना दायां हाथ दिल पर रखा। इन सभी शवों को C-17 ट्रांसपोर्ट प्लेन से डोवर एयरफोर्स बेस लाया गया। यह पूरा कार्यक्रम 40 मिनट का था। इस दौरान बाइडेन ज्यादातर वक्त सिर झुकाकर खड़े दिखे। डिफेंस सेक्रेटरी लॉयड ऑस्टिन, विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन, जनरल मार्क मिले और काई सांसद भी इस दौरान मौजूद रहे। कुछ खबरों के दौरान शवों को ट्रांसफर किए जाने के दौरान एक सांसद गश खाकर गिर गए थे। बाइडेन ने 20 जनवरी को शपथ ली थी। इसके बाद यह पहला मौका था जब उन्होंने अपने सैनिकों की डेड बॉडीज रिसीव कीं। हालांकि, 2016 में वाइस प्रेसिडेंट रहते हुए वे ऐसा कर चुके हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

पिछला लेखबीवी-बच्चों के अलावा आपकी ट्रेन टिकट पर कौन-कौन कर सकता है ट्रेवल, यहां जानिए रेलवे का नया सिस्टम
अगला लेखप्रधानमंत्री की घोषणा के बाद रेलवे ने 58 वंदे भारत ट्रेनों के लिए निविदा जारी की
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।