सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को किया याद, कहा- ‘शेरशाह ने बदल दी जिंदगी’

0
0


सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कारगिल विजय दिवस के मौके पर कहा कि कारगिल में भारतीय सेना के बलिदान को हमेशा सम्मान के साथ याद किया जाना चाहिए। कारगिल विजय दिवस के मौके पर से खास बातचीत के दौरान सिद्धार्थ मल्होत्रा ने बताया कि किस तरह से उनकी जिंदगी में शेरशाह फिल्म के बाद से इस दिन का महत्व और भी बढ़ गया। साल 2021 में आई फिल्म शेरशाह में सिद्धार्थ ने कैप्टन विक्रम बत्रा का किरदार निभाया था, जो कारगिल युद्ध में शहीद हुए थे। समीक्षकों और दर्शकों ने फिल्म में उनके अभिनय की खूब तारीफ की थी।

 

सेना के परिवार वालों से मिलना मेरे लिए सम्मान की बात है

शेरशाह की शूटिंग के दौरान कारगिल युद्ध में शामिल लोगों के बहादुरी और बलिदान के किस्से को बेहद करीब से समझने के बाद एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा के जीवन में कारगिल दिवस का महत्व और भी बढ़ गया। सिद्धार्थ ने बताया कि पिछले साल शेरशाह की शूटिंग के समय मुझे कारगिल विजय दिवस के मौके पर होने वाले कार्यक्रम में शामिल होने का अवसर मिला था। उस दौरान मेरी मुलाकात आर्मी के बड़े अधिकारियों के साथ-साथ शहीद हुए जवानों के परिवार से भी मिलने का मौका मिला। 

शेरशाह में कैप्टन विक्रम बत्रा के किरदार में निभाया था 

सैनिकों के जीवन को करीब से समझने और जानने के बाद कारगिल विजय दिवस को लेकर मेरे मन में सम्मान और भी बढ़ गया है। मेरा मानना है कि ये एक ऐसा मौका है जिसका सभी भारतीयों को सम्मान करना चाहिए।

साल 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान कैप्टन विक्रम बत्रा शहीद हो गए थे। फिल्म शेरशाह में सिद्धार्थ ने जिनका किरदार निभाया है।

सेना और सरकार के कामों को लेकर बढ़ा सम्मान

शूटिंग के दौरान सिद्धार्थ लंबे समय तक कारगिल में रहें। कारगिल में बिताए दिनों को याद करते हुए सिद्धार्थ ने कहा कि उन दिनों मुझे बहुत से आर्मी ऑफिसर और उनके परिवार के लोगों के साथ मिलने का मौका मिला जिससे मुझे आर्मी के बारें में बहुत सी नई बातें पता चली। पूरे देश मे आर्मी कैसे काम करती है। उनके पास क्या साधन उपलब्ध हैं। एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कहा कि कैप्टन विक्रम बत्रा का किरदार मेरे दिल के बहुत करीब है। विक्रम बत्रा के किरदार के कारण सेना और सरकार के कामों को लेकर नजरिया बदला।

 पर्यटकों के लिए बेहतरीन जगह है कारगिल, सरकार करें सहयोग

एक विलेन, हंसी तो फसी, कपूर एंड संस जैसी फिल्मों में सिद्धार्थ ने काम किया है। उन्होंने आगे कहा, भारत का नागरिक होने के नाते हमें उस आजादी का सम्मान करना चाहिए जो हमें किसी के बलिदान के बदले में मिली है। मैं एक आर्मी परिवार से आता हूं मेरे दादा  आर्मी में काम करते थे। लेकिन मेरा दुर्भाग्य है कि मैं उस समय को अनुभव नहीं कर पाया लेकिन विक्रम बत्रा के किरदार की बदौलत मुझे उसका भी अनुभव प्राप्त हुआ। मैं हमेशा इस बात को लेकर बहुत खुश रहूंगा। हमें इस बात पर गर्व होना चाहिए कि भारत के पास इतनी साहसी और बेहतरीन सेना है। 

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कहा कि कारगिल पर्यटकों के लिए एक बेहतरीन जगह है। उसे युद्ध के मैदान के तौर पर याद किए जाने के अलावा और भी दूसरे रूपों में पहचान मिलनी चाहिए। कारगिल एक युद्ध का मैदान है जहां दुर्भाग्य से हमने अपने कई हीरोज को खो दिया और सौभाग्य से अंत में विजयी हुए। मुझे लगता है कि कारगिल के पास हमें देने के लिए बहुत कुछ है।

 सिद्धार्थ मल्होत्रा ने बताया कि कारगिल में कुछ अद्भुत पर्वत चोटियां हैं, जो बहुत सुंदर और अनोखी हैं। अगर सरकार की ओर से उसे सहायता और समर्थन दिया जाए तो कारगिल एक खूबसूरत टूरिस्ट प्लेस साबित होगा। 

 

शूटिंग के लिए बेस्ट जगह है कारगिल

शेरशाह की शूटिंग के समय मुझे वहां के लोगों से मिलने का मौका मिला। उनसे मिलकर मुझे बेहद खुशी हुई। मुझे लगता है कि कारगिल को इंडिया और पाकिस्तान के बीच एक युद्ध भूमि से हटकर एक अलग पहचान मिलनी चाहिए। कारगिल युद्ध हम सभी के लिए सम्मान और गर्व की बात है पर इसके अलावा भी इस जगह के पास हमें देने के लिए बहुत कुछ है। मैं चाहता हूं कि आने वाले दिनों में हिंदी फिल्म के गानों के लिए बेस्ट शूटिंग जगह के तौर पर इसे देखा जाए।



Source link

पिछला लेखलड्डू गोपाल को भोग चढ़ाते वक्‍त रखें इन बातों का ध्‍यान, नहीं तो पूजा होगी असफल
अगला लेखGinger Benefits: खाली पेट अदरक का सेवन है बेहद फायदेमंद, दिल की सेहत करता है दुरुस्त
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।