रात में नहीं आती नींद? चैन से सोने के लिए फॉलो करें ये ब्रीदिंग एक्सरसाइज, तनाव होगा कम

0
0


हाइलाइट्स

एब्डोमिनल ब्रीदिंग नींद ना आने की समस्या में काफी फायदेमंद होती है.
ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से शरीर में मेलाटोनिन स्लीप हार्मोन रिलीज होता है.

Breathing Techniques For Better Sleep: सेहतमंद और खुश रहने के लिए हेल्दी डाइट फॉलो करने के साथ-साथ बेहतर और प्रॉपर नींद लेना भी बेहद जरूरी होता है. आजकल लाइफस्टाइल काफी हद तक बदल चुकी है, जिसके चलते अधिकतर लोग प्रॉपर और पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं के पाते हैं और कई गंभीर स्लीप डिसऑर्डर का सामना कर रहे हैं. एक स्वस्थ शरीर के लिए 7 से 8 घंटे की गहरी नींद लेना जरूरी होता है. नींद ना आना सुनने में सरल लग सकता है लेकिन नींद पूरी ना होने या अनिद्रा की समस्या व्यक्ति की फिजिकल और मेंटल हेल्थ को बुरी तरह प्रभावित कर सकती है.

रात में साउंड स्लीप लेने के लिए हेल्थ एक्सपर्ट्स, सोने से कुछ घंटे पहले कैफीन युक्त ड्रिंक्स से परहेज करने और स्क्रीन टाइम को कम करने की सलाह देते हैं लेकिन अगर आप ये सब ट्राई कर चुके हैं तो हम आपके लिए एक नेचुरल उपाय लेकर आए हैं, जिसे फॉलो कर आप नींद की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं. आइए बेहतर नींद के लिए कुछ ब्रीदिंग तकनीक जानते हैं,

ये भी पढ़ें: Aloe Vera: एलो वेरा जूस वे 5 फायदे, जो आपको कभी किसी ने नहीं बताए होंगे

नींद की समस्या में ब्रीदिंग तकनीक के फायदे 

डब्लू डब्लू डब्लू डॉट स्लीप फाउंडेशन डॉट ओआरजी के अनुसार ब्रीदिंग एक्सरसाइज स्ट्रेस को मैनेज करने और मसल्स को रिलैक्स करने का सबसे आसान और कारगर उपाय है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार सोने से पहले ब्रीदिंग एक्सरसाइज का अभ्यास करने से नींद की क्वालिटी को बेहतर किया जा सकता है. ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से शरीर में मेलाटोनिन स्लीप हार्मोन रिलीज होता है और नींद ना आने की परेशानी को दूर किया जा सकता है.

नींद ना आने की समस्या में फायदेमंद ब्रीदिंग तकनीक 

बेली ब्रीदिंग 
बेली ब्रीदिंग या एब्डोमिनल ब्रीदिंग नींद ना आने की समस्या में काफी फायदेमंद होती है. आप बैठकर या लेटकर आसानी से बेली ब्रीदिंग का अभ्यास कर सकते हैं. बेली ब्रीदिंग करने के लिए आपको अपने एक हाथ को अपनी चेस्ट पर रखें और दूसरे हाथ को बेली बटन से ऊपर रखकर सांस लेने का अभ्यास करें और बेली में सांस भरकर धीरे-धीरे सांस छोड़ने का प्रयास करें. इसका अभ्यास करने से नींद ना आने की समस्या से राहत मिलती है और आप तनाव मुक्त महसूस करते हैं.

ये भी पढ़ें: क्या है कफ वैरिएंट अस्थमा, जानिए कारण, लक्षण और बचाव के उपाय

नोस्ट्रिल ब्रीदिंग 
नोस्ट्रिल ब्रीदिंग प्राणायाम का ही एक अलग रूप है, जिसका अभ्यास करना बहुत आसान है और नींद की समस्या में कारगर साबित होता है. नोस्ट्रिल ब्रीदिंग का अभ्यास अनुलोम-विलोम प्राणायाम की तरह ही करना होता है, आपको शांत और स्थिर बैठकर दाहिने नोस्ट्रिल को दाहिने अंगूठे से बंद कर बाएं नोस्ट्रिल से लंबी गहरी सांसे लें और कुछ सेकंड बाद इसका उल्टा करें. एक नोस्ट्रिल से ब्रीदिंग का अभ्यास लगभग 6 सेकंड तक करें. ऐसा करने से नींद की समस्या दूर हो सकती है.

Tags: Health, Lifestyle, Mental health



Source link

पिछला लेखदिल्ली में लड़की की कई किलोमीटर कार से घसीटे जाने से मौत, पीड़ित परिवार का दावा ‘निर्भया’ जैसा मामला
अगला लेखबच्चों को आयरन सप्लीमेंट देना है कितना सही, क्या इसके नुकसान हैं, जानें
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।