राज्यसभा के पूर्व सांसद केडी सिंह के खिलाफ CBI ने धोखाधड़ी का केस दर्ज किया, कई ठिकानों पर छापेमारी

0
1


प्रतीकात्‍मक फोटो

नई दिल्‍ली:

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने राज्यसभा के पूर्व सदस्य केडी सिंह (KD Singh) के खिलाफ उनकी कंपनियों में निवेश पर 10 गुना रिटर्न की पेशकश करके लोगों को कथित रूप से धोखा देने के लिए एफआईआर दर्ज की है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि एजेंसी ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के पूर्व सांसद सिंह और उनके बेटे करणदीप सिंह सहित आठ अन्य लोगों के खिलाफ कथित तौर पर उनकी कंपनियों अल्केमिस्ट इंफ्रा रियलिटी लिमिटेड और अल्केमिस्ट टाउनशिप लिमिटेड में करोड़ों रुपये का निवेश करके लोगों को ठगने का मामला दर्ज किया है. अधिकारियों ने कहा कि सीबीआई ने 12 स्थानों पर सिंह और मामले से जुड़े अन्य आरोपियों के परिसरों पर छापेमारी की. राज्यसभा की वेबसाइट के मुताबिक सिंह 2010 से 2014 तक संसद के सदस्य रहे.

यह भी पढ़ें

केंद्रीय एजेंसी ने आजमगढ़ पुलिस से मामले की जांच अपने हाथ में ले ली है, जिसने विजय कुमार चौहान नाम के एक व्यक्ति की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज की थी. चौहान का आरोप है कि सिंह की कंपनियों में उसके और अन्य द्वारा निवेश किए गए धन में धोखाधड़ी और हेराफेरी की गई. चौहान ने आरोप लगाया कि उनसे क्रमश: छह साल, नौ साल और 16 साल की अवधि में निवेश को दो गुना, तीन गुना और 10 गुना करने के झूठे वादे किए गए. प्राथमिकी में आरोप लगाया गया, निवेशकों को हालांकि उनका पैसा वापस नहीं मिला. उत्तर प्रदेश सरकार ने इस मामले में केंद्र सरकार से सितंबर 2021 में सीबीआई जांच की मांग की थी.

कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) ने इस साल 28 जून को इसे सीबीआई को सौंप दिया, जिसके बाद एजेंसी ने जांच अपने हाथ में ले ली. सीबीआई ने सिंह, उनके बेटे और सात अन्य लोगों – सतेंद्र सिंह, वी एम महाजन, सीएम जॉली, कृष्णा कबीर, सुचेता खेमकर, चंद्रशेखर चौहान और सुशील कुमार राय के खिलाफ आजमगढ़ पुलिस की एफआईआर फिर से दर्ज की थी.

* दूसरे दौर की पूछताछ के लिए ED के सामने पेश हुईं सोनिया गांधी, साथ में थे राहुल और प्रियंका

* न्यूड फोटोशूट को लेकर बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह के खिलाफ मुंबई में केस दर्ज

* मंगलुरु के पब में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का हुड़दंग, छात्रों को पार्टी करने से रोका

भ्रष्टाचार के खिलाफ योगी सरकार का एक और एक्शन, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी नपे

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

पिछला लेखबीमा कंपनियां अब अपनी मर्जी से अस्पतालों को पैनल में शामिल करेंगी, जानें इससे मरीजों को फायदा होगा या नुकसान?
अगला लेखमहिलाओं की तरह पुरुषों की कमर भी होनी चाहिए स्लिम वरना बढ़ सकती हैं हेल्थ प्रॉब्लम
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।