ये भी होते हैं घरेलू हिंसा के संकेत, इनकी पहचान कर महिलाएं खुद को टॉक्सिक लोगों से बचाएं

0
0


हाइलाइट्स

गाली गलौज करना रिश्ते को टॉक्सिक बना सकता है.
किसी के चरित्र पर सवाल उठाना उसे मेंटली टॉर्चर कर सकता है.

Domestic Violence And Toxic Relation: कई महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकार होती हैं लेकिन कई कारणों की वजह से सब कुछ सहती रहती हैं और अपनी चुप्पी तोड़ कर गलत के खिलाफ आवाज नहीं उठा पाती हैं. परिवार की इज्जत, रिश्ता टूटने का डर, बच्चों के और अपने भविष्य की चिंता समेत कई कारण हो सकते हैं लेकिन कई मामले ऐसे भी हैं जहां महिलाएं ये समझ ही नहीं पाती हैं कि उनके साथ गलत हो रहा है.

मेंटल टॉर्चर, फिजिकल हार्म आदि रेड सिग्नल्स हैं, जिनकी पहचान कर समय रहते खुद को बचाना महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है वरना बाद में दिक्कतें बढ़ भी सकती हैं. मायोक्लीनिक के अनुसार पहली बार में घरेलू हिंसा की पहचान करना आसान नहीं हो सकता है. वहीं कुछ रिश्ते शुरू से ही स्पष्ट रूप से अपमानजनक होते हैं. शुरुआत में छोटी सी लगने वाली बात आगे चल कर गंभीर समस्या बन सकती है. हांलाकि, आप कुछ संकेतों को नजरअंदाज न करें तो खुद को एक टॉक्सिक रिलेशन और लोगों से बचा सकती हैं.

ऐसे करें टॉक्सिक रिलेशन और घरेलू हिंसा की पहचान

– अगर कोई आपको अपमानजनक नाम से पुकारता है और आपको हमेशा नीचा दिखाता है.
– आपको काम करने या स्कूल-कॉलेज या ऑफिस जाने से रोकता है.

यह भी पढ़ें- ‘औरत ही होती है औरत की दुश्मन’ इस धारणा को ऐसे करें गलत साबित

– परिवार के सदस्यों या दोस्तों से मिलने से रोकता है.
– आपके पहनने, ओढ़ने, दवाई के खर्च आदि पर टोकता है.

– बिना गलती किए आप पर धोखेबाज होने का आरोप लगाता है या आपके कैरेक्टर पर सवाल उठाता है.
– आपके साथ हिंसक व्यवहार करता है.
– आपको चोट पहुंचाता है या ऐसा करने की कोशिश करता है.
– आपको, आपके बच्चों या आपके पालतू जानवरों को मारना, लात मारना, धक्का देना, थप्पड़ मारना या चोट पहुंचाता है.

यह भी पढ़ें- Unwed Locks: बिना शादी के भी मां कर सकती है बच्चे की बेहतरीन परवरिश, ये रहे उदाहरण

-आपको अपनी इच्छा के विरुद्ध फिजिकल होने के लिए मजबूर करता है.
-आपको अपने हिंसक व्यवहार के लिए दोषी ठहराता है या आपको कहता है कि आप इसी के लायक हैं.

अगर के घर पर कोई या आपका पार्टनर आपके साथ ऐसा व्यवहार कर रहा है तो किसी भरोसेमंद इंसान या किसी दोस्त की मदद लें. अगर आपको लगता है कि आप सेफ नहीं हैं या आपकी जान को खतरा है को आप महिला हेल्पलाइन या एनजीओ आदि का सहारा भी ले सकती हैं.

Tags: Domestic violence, Lifestyle, Women, Women Safety



Source link

पिछला लेख​इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड में निकली अपरेंटिस के कई पदों पर भर्ती, इस दिन तक करें आवेदन
अगला लेखKKK12: स्टंट को लेकर रुबीना दिलैक और मोहित मलिक में तकरार, यूजर्स बोले- ‘यहां भी बिग बॉस खेलने लगी’
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।