यूरिक एसिड बढ़ने से होती हैं गंभीर बीमारियां, जानें कारण और घरेलू उपचार– News18 Hindi

0
0


शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid) बढ़ने से कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं. शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ने से दूसरे अंगों पर बुरा असर पड़ता है. यूरिक एसिड की अधिकता की वजह से जोड़ों में दर्द, शरीर में सूजन, किडनी की बीमारी और मोटापा जैसी कई समस्याएं हो सकती है. यूरिक एसिड बढ़ने पर ब्लड प्रेशर, थायराइड और डायबिटीज जैसी घातक बीमारियों का खतरा भी होता है. हालांकि, शरीर में पहले से ही यूरिक एसिड की कुछ मात्रा होती है, जो 3.5 से 7.2 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर तक हो सकती है. यदि इससे ज्यादा यूरिक एसिड की मात्रा पाई गई, तो इसे हाई यूरिक एसिड की समस्या कहा जाता है. यूरिक एसिड शरीर में मौजूद प्यूरीन नामक प्रोटीन के टूटने से बनता है.

शरीर में यूरिक एसिड ज्यादा ना बढ़े, इसके लिए उन चीजों के सेवन से बचना चाहिए, जिनमें प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है. यूरिक एसिड को बढ़ाने में शराब और नॉनवेज जैसी चीजें जिम्मेदार होती हैं. हेल्थ वेबसाइट healthline पर छपी रिपोर्ट से जानें यूरिक एसिड बढ़ने के कारण और घरेलू उपचार…

यूरिक एसिड बढ़ने के कारण:

– कई बार यूरिक एसिड अनुवांशिक कारणों से भी बढ़ जाता है.

-गलत डाइट या खान-पान भी यूरिक एसिड बढ़ने की वजह बन सकता है.

-कुछ खाद्य पदार्थ जैसे- रेड मीट, सी फूड, दाल, राजमा, पनीर और चावल जैसे खाने से भी यूरिक एसिड बढ़ सकता है.

-बहुत देर तक भूखे रहने से भी यूरिक एसिड बढ़ने की समस्या हो सकती है.

-डायबिटीज के मरीजों को हो सकता है यूरिक एसिड

-मोटापा कई बीमारियों की जड़ है. कई बार यह भी यूरिक एसिड बढ़ने की वजह बन सकता है.

यूरिक एसिड बढ़ने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय:

ब्लैक चेरी का जूस पीने से यूरिक एसिड कम होता है. यह गठिया या किडनी स्टोन की समस्या से ग्रसित मरीजों के काफी फायदेमंद नुस्खा है. ब्लैक चेरी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पाए जाते हैं, जो यूरिक एसिड को कम करने में मदद करते हैं.

यूरिक एसिड को नियंत्रित रखने का सबसे अच्छा तरीका ज्यादा से ज्यादा पानी पीना है. वास्तव में पानी यूरिक एसिड को पतला करता है, जिससे शरीर से यूरिक एसिड पेशाब के माध्यम से बाहर निकल जाता है.

सेब का सिरका शरीर से यूरिक एसिड को कम करने में मदद करता है. इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेंटरी गुणों के कारण यह शरीर में क्षारीय एसिड संतुलन को बनाए रखता है. सेब का सिरका खून के पीएच स्तर को बढ़ाकर, यूरिक एसिड को कम करने में मदद करता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)



Source link