मोदी कैबिनेट विस्तार: एमपी से सिंधिया तय, दूसरे नाम पर कयास और तीसरा दे सकता है सरप्राइज

0
0


नई दिल्ली: बुधवार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरी बार सत्ता में आने के बाद पहली बार कैबिनेट विस्तार (Cabinet Expansion) होगा. जिनमें कुछ नए चेहरों को जगह मिल सकती है, जबकि कुछ मंत्रियों के विभाग भी बदले जा सकते हैं. 27 संभावित नेताओं के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने की चर्चा हैं. वहीं, मप्र में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी मंत्रिमंडल में शामिल किए जानें कि सबसे ज्यादा चर्चा है. इतना ही नहीं सिंधिया के साथ साथ मप्र को एक और केंद्रीय मंत्री मिल सकता हैं.

Cabinet Expansion: मोदी कैबिनेट में MP-CG से शामिल हो सकते हैं ये चेहरे, जानिए बिहार, यूपी और बंगाल से कौन हैं दावेदार

ज्योतिरादित्य सिंधिया सबसे बड़े दावेदार
कैबिनेट विस्तार में सबसे ज्यादा चर्चा मध्य प्रदेश से ज्योतिरादित्य सिंधिया की ही चल रही है. सिंधिया की दादी विजय राजे सिंधिया भाजपा की संस्थापक सदस्यों में से एक थीं. कभी राहुल गांधी के करीबी रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार को गिराने में अहम भूमिका निभाई. उनके साथ 22 विधायक भी आए. भाजपा ने उन्हें राज्यसभा का सांसद बनाया है. इस वक्त वो मध्य प्रदेश में किंग मेकर की भूमिका में हैं. बताया जा रहा है कि सिंधिया को मोदी कैबिनेट में कोई बड़ा पद दिया जा सकता है. गौरतलब है कि मनमोहन सरकार में वह उर्जा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रह चुके हैं. 

जिसने ज्योतिरादित्य को हराया उसने पहले ही दी बधाई
बता दें कि  गुना के सांसद केपी यादव जिन्होंने सिंधिया को लोकसभा चुनाव हराया था,आज सिंधिया के मोदी कैबिनेट में शामिल होने की खबर के बाद अभिनंदन कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि (ज्योतिरादित्य सिंधिया) और हमारे जितने भी सहयोगी आज मंत्री पद की शपथ लेंगे सभी को शुभकामनाएं. वे भी भाजपा के अभिन्न अंग और कार्यकर्ता हैं. पार्टी जो भी दायित्व जिस भी कार्यकर्ता को देती है वो उसका ठीक से निर्वहन करता है.

दूसरे नंबर पर राकेश सिन्ह का नाम
मोदी के कैबिनेट में दूसरे प्रबल दावेदारों में जबलपुर से सांसद व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह नाम आगे हैं. राकेश सिंह लोकसभा में मुख्य सचेतक हैं और चार बार के सांसद हैं. राकेश सिंह का मजबूत पक्ष यह है कि वे अभी 59 वर्ष के हैं. मोदी कैबिनेट में जिस तरह से कम उम्र नेताओं को मौका दिया जा रहा है, उस हिसाब से राकेश सिंह को मौका दिया जा सकता है. इसके साथ ही उन्हें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का करीबी भी माना जाता हैं. राकेश संसदीय कार्य के अच्छे जानकार हैं. वे महाकौशल से प्रतिनिधित्व करते हैं.

एमपी से तीसरे दावेदार वीरेन्द्र खटीक 
टीकमगढ़ से सांसद वीरेंद्र खटीक छह बार के सांसद हैं और पूर्व में केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं. दिल्ली में खटीक को लेकर चर्चा है कि थावरचंद गहलोत चूंकि अनुसूचित जाति वर्ग से आते है, लिहाजा उनकी जगह इस वर्ग से वीरेन्द्र खटीक को मौका दिया जा सकता हैं. बता दें कि  भाजपा का बड़ा दलित चेहरा होने के कारण पिछली बार उनको मंत्री भी बनाया गया था. इसके अलावा खटीक टीकमगढ़ से सांसद भी हैं, बुंदेलखंड के प्रतिनिधित्व के लिए भी कुर्सी मिल सकती है. जिसकी सीमा उत्तर प्रदेश से लगी हुई है. गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में आगामी कुछ दिनों में चुनाव भी है. ऐसे में खटीक पर दांव चला जा सकता है.  

WATCH LIVE TV





Source link

पिछला लेखमलाई के फेस पैक स्किन को देंगे इतने सारे फायदे, जानें इस्तेमाल का तरीका
अगला लेखUPSC CMS 2021: यूपीएससी मेडिकल सर्विस एग्जाम नवंबर में, आ गया नोटिफिकेशन, देखें वैकेंसी डीटेल
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।