मुश्किल में ड्रैगन: बाइडेन के हेल्थ एडवाइजर ने कहा- कोरोना ओरिजन का सच जानना जरूरी, 2019 में बीमार हुए 9 लोगों के मेडिकल रिकॉर्ड्स जारी करे चीन

0
2


  • Hindi News
  • International
  • Coronavirus Origin; US China Update | Anthony Fauci To China On Wuhan Institute Of Virology Workers Medical Records

वॉशिंगटनएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिकी राष्ट्रपति के हेल्थ एडवाजर डॉक्टर एंथनी फौसी के एक बयान या कहें मांग ने चीन की चिंता और बढ़ा दी है। डॉक्टर फौसी ने कहा- अगर हम यह जानना चाहते हैं कि कोरोना वायरस कहां से शुरू हुआ और कैसे फैला तो एक काम बेहद जरूरी है। चीन को 2019 में बीमार हुए उन 9 लोगों की मेडिकल रिपोर्ट्स जारी करनी होंगी, जिनमें बिल्कुल कोरोना जैसे लक्षण पाए गए थे।

डॉक्टर फौसी सिर्फ अमेरिका ही नहीं बल्कि दुनिया के सबसे बेहतर इन्फेक्शियस डिसीज एक्सपर्ट या संक्रामक रोग विशेषज्ञ माने जाते हैं। डोनाल्ड ट्रम्प के दौर में भी वे कोरोना टास्क फोर्स को लीड कर रहे थे और बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन के दौर में भी इसी पद पर हैं।

फौसी की मांग
एक इंटरव्यू में डॉक्टर फौसी ने कहा- मैं चीन में 2019 में बीमार हुए उन 9 लोगों के मेडिकल रिकॉर्ड्स देखना चाहता हूं, जो अब तक सामने नहीं आए। इससे हम यह पता लग सकते हैं कि यह मामला किसी लैब लीक से जुड़ा है या नैचुरल वायरस है। मैं जानना चाहता हूं कि क्या वो लोग हकीकत में बीमार हुए थे? और अगर वे वास्तव में बीमार हुए थे उनमें क्या लक्षण थे, वे कैसे बीमार हुए?

जो बाइडेन ने अमेरिकी खुफिया एजेंसियों से 90 दिन में कोरोना ओरिजन पर जांच रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने कहा है कि इस मामले की सच्चाई जानना बेहद जरूरी है। (फाइल)

जो बाइडेन ने अमेरिकी खुफिया एजेंसियों से 90 दिन में कोरोना ओरिजन पर जांच रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने कहा है कि इस मामले की सच्चाई जानना बेहद जरूरी है। (फाइल)

चीन पर दबाव बढ़ेगा
बाइडेन ने पिछले हफ्ते अमेरिकी खुफिया एजेंसियों को आदेश दिए थे कि वे वायरस के ओरिजन पर जांच करें और 90 दिन में रिपोर्ट दें। अब फौसी की मांग से चीन पर दबाव बढ़ना तय है। इसकी वजह यह है कि चीन लैब लीक की थ्योरी को खारिज कर रहा है, लेकिन दुनिया का शक इस थ्योरी पर बढ़ता जा रहा है। क्योंकि, चीन कोई भी सबूत साझा करने को तैयार नहीं है। ऐसे में सवाल यह है कि अगर कोरोनावायरस वास्तव में चमगादड़ों या मीट मार्केट से फैला तो चीन को सबूत देने में क्या दिक्कत है।

लैब लीक थ्योरी पर सिर्फ चार पेज
डोनाल्ड ट्रम्प WHO पर उंगलियां उठाते रहे। उसकी फंडिंग भी बंद कर दी। हालांकि, बाइडेन ने इसे अब फिर शुरू कर दिया है। WHO ने जनवरी 2021 के आखिर में कोरोना ओरिजन की जांच शुरू की। उसकी टीम के पास करने को वैसे भी कुछ नहीं छोड़ा गया था। इसकी जांच रिपोर्ट मार्च 2021 में आई। कुल 313 पेज की इस रिपोर्ट से कुछ खास हासिल नहीं हुआ। जिस लैब लीक थ्योरी पर आज दुनिया में जांच की मांग उठ रही है, उस रिपोर्ट में इस थ्योरी को सिर्फ 4 पेज में समेट दिया गया था।

खबरें और भी हैं…



Source link

पिछला लेखICC WTC Final: ब्रेट ली ने विराट कोहली और केन विलियमसन की कप्तानी पर दिया बड़ा बयान, बोले- रोचक होगी जंग
अगला लेखब्लड क्लॉटिंग को कम कर, धमनियों को साफ करते हैं ये 5 जूस, हार्ट के मरीजों को जरूर पीने चाहिए
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।