महिला की मौत के 15 साल बाद कोर्ट ने ससुराल वालों को दहेज मौत और क्रूरता का दोषी ठहराया

0
0


प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली :

दिल्ली की एक अदालत ने एक महिला की मौत के 15 साल बाद उसके पति सहित ससुराल के चार लोगों को दहेज मृत्यु और क्रूरता का दोषी ठहराया है. अदालत मृतका के पति पवन कुमार, सास सतबीरो, ससुर कप्तान सिंह और देवर दलजीत सिंह के खिलाफ मामले की सुनवाई कर रही थी. अभियोजन पक्ष के अनुसार, भारती अपनी शादी के डेढ़ साल के भीतर तीन अक्टूबर, 2007 को ‘असामान्य परिस्थितियों’ में मृत पाई गई थी.

यह भी पढ़ें

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश गौतम मनन ने एक हालिया आदेश में कहा, ‘अभियोजन आरोपी व्यक्तियों के खिलाफ उचित संदेह से परे अपने मामले को साबित करने में सफल रहा है…उन्हें भारतीय दंड संहिता की धाराओं- 498 ए (पति या पति के रिश्तेदार द्वारा महिला के साथ क्रूरता करना), 304 बी (दहेज मृत्यु) और 34 (समान आशय) के तहत दोषी ठहराया जाता है.”

सजा पर जिरह के लिए अदालत ने मामले की सुनवाई 30 जनवरी को निर्धारित की है. हालांकि, अदालत ने आरोपियों को हत्या और सबूत मिटाने के आरोप से बरी कर दिया. 

कोर्ट ने कहा कि हालांकि जांच अधिकारी ने पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट मिलने के बाद हत्या का अपराध जोड़ा, लेकिन उसने ‘हत्या की कड़ी’ का पता लगाने के लिए कोई जांच नहीं की.

अदालत ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार महिला की मौत दम घुटने के कारण हुई, लेकिन जांच अधिकारी ने यह पता लगाने के लिए कोई जांच नहीं की कि दम कैसे घुटा. इस मामले में दिल्ली के द्वारका थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

Featured Video Of The Day

अनंत अंबानी की सगाई में पहुंचे बॉलीवुड के दिग्गज, शाहरुख-सलमान सहित इन सेलिब्रिटीज ने की शिरकत



Source link

पिछला लेख​जल्द मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस में होगी बम्पर पद पर भर्तियां, 63 हजार मिलेगा वेतन
अगला लेखकांग्रेस के बगैर BJP के खिलाफ विपक्ष मजबूत नहीं हो सकता : तारिक अनवर
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।