मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग की कैसे हुई स्थापना? यहां इस रूप में विराजमान हैं शिव-पार्वती

0
1


Mallikarjuna Jyotirlinga: महादेव की महीमा निराली है. 12 ज्योतिर्लिंग के रूप में भोलेनाथ भारत की चारों दिशाओं में विराजमान हैं. मल्लिकार्जुन द्वादश ज्योतिर्लिंग में से एक हैं. शिव का ये धाम आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले में कृष्णा नदी के तट के पास श्रीशैलम पर्वत पर स्थित है. इस पवित्र पर्वत को दक्षिण का कैलाश माना जाता है. मान्यता है कि सावन के पवित्र माह में मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग के दर्शन से भक्तों के सभी मनोरथ पूर्ण हो जाते हैं. आइए जानते हैं यहां मां पार्वती संग कैसे विराजमान हुए भगवान शंकर.

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में समाई शिव-पार्वती की ज्योतियां

धर्म ग्रंथों में मल्लिकाजुर्न के अर्थ का वर्णन किया गया है. मल्लिका यानी की पार्वती और अर्जुन का अर्थ भगवान शंकर है. पुराणों के अनुसार मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में महादेव और मां पार्वती की संयुक्त रूप से दिव्य ज्योतियां विद्यमान हैं. मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग का मंदिर तक पहुंचने के लिए घने जंगलों से होकर गुजरना पड़ता.

माता-पिता से नाराज हुए कार्तिकेय

शिव पुराण की कथा के अनुसार एक बार पहले विवाह करने को लेकर शिव जी-माता पार्वती के पुत्र गणेश जी और कार्तिकेय में झगड़ा हो गया. विवाद सुलझाने के लिए शंकर जी बोले जो पहले पृथ्वी का चक्कर लगाएगा उसका विवाह पहले होगा. कार्तिकेय पृथ्वी की परिक्रमा के लिए निकल गए, लेकिन गणेश ने अपनी चतुर बुद्धि का उपयोग किया और मां पार्वती -भोलेनाथ को सारा संसार मानकर उनके चारों ओर चक्कर लगाने लगे. परिणाम स्वरूप गणेश जी का विवाह पहले हो गया. कार्तिकेय जब वापस लौटे तो गणेश को पहले विवाह करते देख वो माता-पिता से नारज हो गए.

कार्तिकेय से मिलने के लिए धरा ज्योति का रूप

कार्तिकेय नाराज होकर क्रोंच पर्वत पर चले गए. देवी-देवताओं ने उन्हें वापस आने का आग्रह किया लेकिन वो नहीं माने. इधर पुत्र वियोग में शंकर-पार्वती दुखी थे. दोनों पुत्र से मिलने क्रोंच पर्वत पर पहुंचे तो कार्तिकेय उन्हें देखकर और दूर चले गए. अंत में पुत्र के दर्शन की लालसा में भगवान शंकर ने ज्योति रूप धारण कर लिया और यहीं विराजमान हो गए. तब से ये शिव धाम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग के नाम से प्रसिद्ध हो गया. माना जाता हर अमावस्या पर शिव जी और पूर्णिमा पर मां पार्वती यहां आते हैं.

Interview Totke: इंटरव्यू में जाने से पहले कर लें सुपारी-मौली का ये टोटका, नौकरी में मिलेगी सफलता

Sawan 4th Somwar 2022 Date: सावन का चौथा और आखिरी सोमवार कब है? इस दिन बन रहे हैं कई शुभ संयोग

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.



Source link

पिछला लेखमारुति लॉन्च करेगी बलेनो बेस्ड कॉम्पैक्ट एसयूवी, ब्रेजा से भी कम होगी कीमत, देखें क्या होगा खास
अगला लेखसंवरेगा पाकिस्तान का 1200 साल पुराना वाल्मीकि मंदिर: 2 दशकों से ईसाई परिवार का कब्जा था, लंबी लड़ाई के बाद हुआ मुक्त
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।