मदुरै का टी स्‍टॉल, जहां चाय पीने के बाद लोग खा जाते हैं कप!

0
3


चॉकलेट फ्लेवर के इन बिस्कुट कप को आप चाय पीने के बाद खा सकते हैं. फोटो साभार/द बैटरइंडिया

मदुरै (Madurai) के वेस्ट मासी स्ट्रीट में स्थित आरएस पाथी नीलगिरी चाय (Rs Pathy Nilgiri Tea) स्‍टॉल पर चाय एक ऐसे कप में परोसी जा रही है, जहां आप चाय पीने के बाद उस कप को खा सकते हैं.

अगर चाय पीने के साथ ही चाय पीने वाला कप भी खाने का ऑप्‍शन मिले तो? यह बात आपको हंसा सकती है, हैरान कर सकती है. मगर मदुरै (Madurai) के वेस्ट मासी स्ट्रीट में स्थित आरएस पाथी नीलगिरी चाय (Rs Pathy Nilgiri Tea) स्‍टॉल पर चाय एक ऐसे कप में परोसी जा रही है, जहां आप चाय पीने के बाद उस कप को खा सकते हैं. है न कमाल. दरअसल, यह चॉकलेट के फ्लेवर में एक बिस्कुट कप है.

द हिंदू की खबर के मुताबिक चाय का यह टी स्‍टॉल काफी पुराना है. फिलहाल अभी इस टी स्‍टॉल को विवेक सबापाथी चलाते हैं. हालांकि आरएस पाथी एंड कंपनी को 1909 में विवेक सबापाथी के परदादा, आर सबापाथी ने लॉन्च किया था. कारोबारी परिवार की चौथी पीढ़ी के सदस्य विवेक सबापाथी (Vivek Sabaapathy) कहते हैं, इस तरह के कप में चाय पेश करना, जिसे खाया भी जा सके, उनका अपना विचार था. हालांकि सबापति अकेले नहीं हैं. हैदराबाद स्थित एडको इंडिया द्वारा निर्मित यह कप मिल्कशेक विक्रेताओं और अन्य शहरों में भी लोकप्रिय हैं.

ये भी पढ़ें – पराठे या फेस मास्क? सोशल मीडिया पर वायरल कोरोना बोंडा और डोसा

इस तरह के कप में चाय परोसना 15 जून को शुरू किया गया था, तब से यह दुकान एक दिन में न्यूनतम 500 कप बेच रही है. इन कपों में एक चाय 20 रूपये की मिलती है. चॉकलेट फ़्लेवर के इन कप को दस मिनट तक पकड़ कर चाय पी जा सकती है. प्‍लास्टिक के इस्‍तेमाल से पर्यावरण के साथ ही हमारे शरीर को भी कैंसर जैसी बीमारियां होने की आशंका बढ़ जाती है. यही वजह है कि 2019 में प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करने की मंशा के तहत विवेक ने कुल्हड़ में तंदूर चाय देनी शुरू की थी. इसके बाद उन्हें (Edco India) के नए लांच प्रोडक्ट बिस्कुट कप के बारे में जानकारी मिली. इसके बाद से ही उन्‍होंने अपने यहां भी इसी तरह के कपों में चाय परोसनी शुरू की.सबापाथी बताते हैं, ‘लोग चाय के नियमित कप की तुलना में इन कपों में चाय पीना ज्‍यादा पसंद कर रहे हैं. लोगों के मुताबिक इन कपों में चाय पीकर वे ज्‍यादा सुरक्षित महसूस करते हैं और उन्‍हें यह तरीका ज्‍यादा स्वच्छ महसूस होता है.’





Source link

पिछला लेखUPHESC यूपी में डिग्री कॉलेजों के लिए ‘प्राचार्य भर्ती 2017 लिखित परीक्षा’ की तारीख घोषित
अगला लेखसुष्मिता सेन के भाई-भाभी राजीव और चारु असोपा के बीच चल रही है खटपट? डिलीट की एक-दूसरे की तस्वीरें
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।