बेहतर मॉनसून से खरीफ फसलों की बुवाई में तेजी, तुअर का रकबा 199% बढ़ा

0
3


Photo:PTI PHOTO

Kharif Sowing

नई दिल्ली। मानसून के समय से दस्तक देने और देशभर में औसत से ज्यादा बारिश होने से इस साल खरीफ फसलों की बुवाई में जबरदस्त तेजी आई है। देशभर में खरीफ फसलों का रकबा पिछले साल से 44 फीसदी बढ़कर 580 लाख हेक्टेयर हो गया है।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी बुवाई के आंकड़ों के अनुसार, चालू खरीफ सीजन में अब तक 580.21 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की बुवाई हुई है जोकि पिछले साल की समान अवधि के 402.57 लाख हेक्टेयर से 44.13 फीसदी अधिक है।

खासतौर से दलहनों की खेती में किसानों ने काफी दिलचस्पी दिखाई है। दलहनों में भी तुअर का रकबा पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 199.20 फीसदी बढ़कर 26.18 लाख हेक्टेयर हो गया है। वहीं, उड़द का रकबा 19.79 लाख हेक्टेयर और मूंग का बुवाई क्षेत्र 15.16 लाख हेक्टेयर हो गया है। सभी दलहन फसलों का रकबा पिछले साल के मुकाबले 162.35 फीसदी बढ़कर 64.25 लाख हेक्टेयर हो गया है। वहीं, तिलहनों का रकबा 85.16 फीसदी बढ़कर 139.37 लाख हेक्टेयर हो गया है।

खरीफ सीजन की प्रधान फसल धान की बुवाई 120.77 लाख हेक्टेयर में हुई है जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 26.16 फीसदी अधिक है। मोटे अनाजों का रकबा पिछले साल से 29.57 फीसदी बढ़कर 93.24 लाख हेक्टेयर हो गया है। गन्ने की खेती 50.89 लाख हेक्टेयर में हुई जो पिछले साल से 0.59 फीसदी अधिक है। वहीं, कपास का रकबा 104.82 लाख हेक्टेयर हो गया है जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 34.89 फीसदी ज्यादा है।

कृषि मंत्रालय ने कहा कि कोरोना महामारी से खरीफ फसलों की बुवाई पर कोई असर नहीं पड़ा है और मानसून के बेहतर रहने के पूर्वानुमान के बाद मंत्रालय ने सभी राज्यों में समय से उर्वरकों के वितरण की व्यवस्था की। चालू मानसून सीजन में नौ जुलाई तक देशभर में 275.4 मिलीमीटर बारिश हुई जोकि औसत से 13 फीसदी ज्यादा है।





Source link

पिछला लेखमनोज बाजपेयी निभा सकते हैं गैंगस्टर का किरदार, करीब 15 करोड़ के बजट में फिल्म की तैयारी कर रहे प्रोड्यूसर संदीप कपूर
अगला लेखICSE- ISC बोर्ड का रिजल्ट जारी, इस साल बोर्ड की तरफ से जारी नहीं की गई कोई मेरिट लिस्ट
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।