बिगड़ते मानसिक स्वास्थ्य के ये हैं 5 लक्षण, इन्हें भूलकर भी ना करें नजरअंदाज

0
0


मानसिक स्वास्थ्य को लेकर लोगों की सोच अब बदलने लगी है, आज के दौर में मेंटल हेल्थ को धीरे-धीरे वो अटेंशन मिल रहा है जिसके वो हकदार है. आज बहुत से लोग इस मुद्दे पर बात करने लगे हैं और मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के संबंध में अपनी प्रॉब्लम्स को दूसरों के साथ शेयर करने लगे हैं. और ये प्रैक्टिस मानसिक स्वास्थ्य के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोगों में जागरूकता पैदा कर रही है. हालांकि, ये भी सच है कि हम अभी भी मानसिक बीमारी के संकेतों को पहचानने में असमर्थ हैं, जिसके लंबे समय में गंभीर परिणाम हो सकते हैं. मानसिक बीमारी के लक्षणों को पहचानना और जरूरत पड़ने पर प्रोफेशनल की मदद लेना बहुत जरूरी है.

अगर आपको भी लगता है कि कोई चीज आपको परेशान कर रही है, लेकिन आप उलझन में हैं कि क्या ये मानसिक बीमारी का संकेत है?  तो हम इसे पहचानने में आपकी मदद कर सकते हैं. दरअसल,  किसी भी मानसिक स्वास्थ्य समस्या का पता लगाने के लिए अपने जीवन में इन परिवर्तनों को देखना होगा.

लंबे समय तक उदासी
किसी बुरी खबर या किसी घटना से दुखी होना आम बात है. कभी-कभी, आप बिना किसी कारण के उदास भी महसूस कर सकते हैं, लेकिन ये अस्थायी हो सकता है. हालांकि, अगर आप लंबे समय से उदास महसूस कर रहे हैं और आपको इसका कारण नहीं पता है, तो ये मानसिक बीमारी का संकेत हो सकता है.

एंग्जाइटी
स्तब्ध हो जाना, सांस लेने की दर में वृद्धि, और दिल का बहुत तेजी से पंप करना चिंता के लक्षण हो सकते हैं. अगर आप अक्सर एंग्जाइटी की समस्या का सामना कर रहे हैं, तो ये चिंता का विषय है. इस मामले में आपको किसी से बात करनी चाहिए या मेडिकल हेल्प लेनी चाहिए.

यह भी पढ़ें-
क्या बिना ब्रश किए पानी पीना सेहत के लिए होता है फायदेमंद? जानें यहां

बहुत ज्यादा सोना
जब हमारा दिमाग थक जाता है, तो हमारा शरीर उसी तरह प्रतिक्रिया करता है. अगर आप पूरा दिन सिर्फ सोने में ज्यादा समय बिता रहे हैं, तो हो सकता है कि आप अवसाद (डिप्रेशन) या अन्य मानसिक विकारों (mental disorders) से पीड़ित हों.

गुस्से पर काबू नहीं
अगर आपको लगता है कि आप अपने गुस्से पर काबू नहीं रख पा रहे हैं और आसानी से आपा खो देते हैं, तो यह मानसिक बीमारी का संकेत हो सकता है. ये स्ट्रेस,एंग्जाइटी या शोक का एक चेतावनी संकेत है, जिसे आप लंबे समय तक सभी से छिपा सकते हैं.

यह भी पढ़ें-
डस्ट एलर्जी होने पर नज़र आते हैं ये 8 लक्षण, एक्सपर्ट ने बताए बचाव के 5 ज़रूरी उपाय

मतिभ्रम 
ये तब होता है जब आप बेहद थके हुए या कमजोर होते हैं. आप चीजों के बारे में मतिभ्रम (hallucinate) कर सकते हैं और ये सिज़ोफ्रेनिया जैसे मेंटल डिसऑर्डर का संकेत हो सकता है. हालांकि, अगर समय पर पता चल जाता है, तो प्रभाव को कम किया जा सकता है और आप नॉर्मल लाइफ जी सकते हैं.

Tags: Health, Health News, Lifestyle



Source link

पिछला लेखमहिमा का सफर: 3 हजार लड़कियों के ऑडीशन के बाद परदेस की हीरोइन थीं महिमा, एक्सीडेंट के बाद चेहरे से निकले थे 67 कांच के टुकड़े
अगला लेखजगन्नाथ मंदिर की रहस्यमयी विशेषताएं
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।