बप्पा की मूर्ति को जल में ही क्यों किया जाता है विसर्जित, जानें कहानी और शुभ मुहूर्त

0
0


Ganesh Visarjan Story: देशभर में गणपति महोत्सव (ganpati mahotasav) शुरू हो चुकी है. हर जगह ‘गणपति बप्पा मोरया’ (ganpati bappa morya) के जयकारे सुनाई दे रहे हैं. धीरे-धीरे समय आ रहा है गणपति को विदाई (ganpati vidai) देने का. ऐसे में शुभ मुहूर्त के अनुसार लोग बप्पा का विसर्जन (bappa visarjan) करते हैं. 10 दिन तक बप्पा को घर में रखने के बाद अनंत चतुर्दशी (anant chaturdashi) के दिन गणपति का जल में विसर्जन (ganpati visarjan in water) किया जाता है. इस साल गणपति विसर्जन 19 सितंबर (ganpati visarjan on 19th september) को मनाई जाएगी. बप्पा को घर से विदा करना भक्तों के लिए काफी भावुक पल होता है. घर में परिवार के सदस्य की तरह रहने के बाद उन्हें विदा करना भक्तों को उदास कर देता है. लेकिन क्या आप जानते हैं गणपति को जल में ही क्यों विसर्जित किया जाता है? आइए जानते हैं इसके पीछे की कहानी-

गणेश विसर्जन की कहानी (story of ganpati visarjan)
गणेश महोत्सव का आखिरी दिन गणेश विसर्जन की परंपरा है. 10 दिवसीय महोत्सव का समापन अनंत चतुर्दशी के दिन विसर्जन के बाद होता है. परंपरा है कि विसर्जन के दिन गणपति की मूर्ति का नदी, समुद्र या जल में विसर्जित करते हैं. इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी है. ऐसा माना जाता है कि श्री वेद व्यास जी ने गणपति जी को गणेश चतुर्थी के दिन से महाभारत की कथा सुनानी शुरू की थी, उस समय बप्पा उसे लिख रहे थे. कहानी सुनाने के दौरान व्यास जी आंख बंद करके गणेश जी को लगातार 10 दिनों तक कथा सुनाते रहे और गणपति जी लिखते गए. कथा खत्म होने के 10 दिन बाद जब व्यास जी ने आंखे खोली तो देखा कि गणेश जी के शरीर का तापमान काफी ज्यादा बढ़ गया था. ऐसे में व्यास जी ने गणेश जी के शरीर को ठंडा करने के लिए जल में डुबकी लगवाई. तभी से यह मान्‍यता है कि 10वें दिन गणेश जी को शीतल करने के लिए उनका विसर्जन जल में किया जाता है.

यहां से शुरू हुई परंपरा
भारतीय इतिहास में इस परंपरा की शुरुआत बाल गंगाधर तिलक ने महाराष्ट्र से की थी. उन्होंने ये अंग्रेजी हुकुमत के खिलाफ एकजुट होने के लिए की थी. उन्हें ये बात अच्छे  से पता थी कि भारतीय आस्था के नाम पर एकजुट हो सकते हैं. इसलिए उन्होंने महाराष्ट्र में गणेश महोत्सव की शुरुआत की और वहां गणेश विसर्जन भी किया जाने लगा. 

गणेश विसर्जन शुभ मुहूर्त (ganesh visarjan shubh muhurat)
गणेश विसर्जन के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातः काल (चर, लाभ, अमृत) – 07:39 ए एम से 12:14 पी एम तक
दोपहर (शुभ)- 01:46 पी एम से 03:18 पी एम बजे तक
शाम (शुभ, अमृत, चर)- 06:21 पी एम से 10:46 पी एम बजे तक
रात (लाभ)- 01:43 ए एम से 03:11 ए एम बजे तक (20 सितंबर)
उषाकाल मुहूर्त (शुभ) – 04:40 ए एम से 06:08 ए एम तक (20  सितंबर)

चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ – 19 सितंबर, 2021 को 05:59 ए एम बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त – 20 सितम्बर, 2021 को 05:28 ए एम बजे 

Anant Chaturdashi 2021: अनंत चतुर्दशी के दिन होती है भगवान विष्णु के अनंत रूप की पूजा, हाथ में बांधते हैं 14 गांठ, जानें 14 गांठों का रहस्य

Ganesh Visarjan 2021: अनंत चतुर्दशी के दिन ही होगा गणपति विसर्जन, इस शुभ मुहूर्त में करेंगे बप्पा का विसर्जन, तो होगा शुभ-लाभ

 



Source link

पिछला लेखदीपिका पादुकोण ने शेयर कर दी पति की ऐसी तस्वीर, रणवीर सिंह बोले- बेबी क्या यार
अगला लेखअफगानिस्तान के किंगमेकर और आईएसआई प्रमुख फैज हमीद हो सकते हैं अगले सेना प्रमुख – Kingmaker of Afghanistan, Pak spy chief Faiz Hameed could be next army chief | अफगानिस्तान के किंगमेकर और आईएसआई प्रमुख फैज हमीद हो सकते हैं अगले सेना प्रमुख –
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।