फिरोजाबाद में वायरल बुखार, डेंगू से 50 लोगों की मौत, मुख्यमंत्री ने दिए जरूरी निर्देश

0
2


फिरोजाबाद/लखनऊ.उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में बुखार एवं डेंगू से मरने वालों की संख्या शुक्रवार को बढ़कर 50 हो गयी। इस बीच, स्थिति का जायजा लेने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की छह सदस्यीय एक टीम फिरोजाबाद पहुंच गई है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी दिनेश कुमार द्वारा शुक्रवार सुबह जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि जिले में अब तक 50 लोगों की डेंगू और बुखार से मौत हो चुकी है।

उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार देर रात तक तीन और मरीजों की मौत होने से मृतक संख्या 47 से बढ़कर 50 हो गई है। उन्होंने यह भी बताया जनपद में 10 क्षेत्रों की पहचान की गई है जहां इन रोगों का प्रकोप है, जिनमें नौ ब्लॉक व एक नगर निगम क्षेत्र है। उन्होंने बताया कि कुल 3,719 रोगी उपचाराधीन हैं व ज्वर से पीड़ित कुल मरीजों की तादाद 2,533 है।

शहर के मेडिकल कॉलेज की प्रधानाचार्य डॉक्टर संगीता अनेजा ने शुक्रवार देर शाम बताया कि मेडिकल कॉलेज के बाल चिकित्सा वार्ड के साथ-साथ अन्य वार्डों में डेंगू और वायरल बुखार से पीड़ित 130 मरीज अब तक भर्ती किए गए हैं जबकि आज 68 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उनके मुताबिक, अब मेडिकल कॉलेज के विभिन्न वार्डों में 331 मरीज उपचाराधीन हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि डॉक्टर तुषार एन नाले के नेतृत्व में दिल्ली से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की छह सदस्यीय चिकित्सकीय टीम फिरोजाबाद पहुंच चुकी है। यह टीम केंद्रीय रोग नियंत्रण विभाग की है और इसने स्थिति का जायज़ा लेना तथा अपनी जांच पड़ताल शुरू कर दी है। डॉ.संगीता ने यह भी बताया कि मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए 100 बिस्तरों की एक अन्य इकाई मेडिकल कॉलेज परिसर में कल सुबह से शुरू हो जाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव (चिकित्सा शिक्षा) को निर्देश दिए हैं कि वह शुक्रवार से ही आगरा और फिरोजाबाद जनपद में शिविर लगाएं। उन्होंने इसके अलावा कोविड मरीजों के लिए आरक्षित ऑक्सीजन की सुविधा वाले पृथक बिस्तरों को डेंगू सहित अन्य वायरल बीमारियों के इलाज के लिए उपलब्ध रखने के भी निर्देश दिए हैं।

अपर निदेशक स्वास्थ्य आगरा मंडल डॉक्टर ए के सिंह ने बताया कि फिरोजाबाद से लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) 49 नमूने जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 43 नमूनों में डेंगू का वायरस पाया गया है जबकि दो मामलों में ‘लेप्टोस्पायरोसिस’ पाई गई है। उन्होंने बताया कि आगरा मंडल में मैनपुरी में लगभग चार मामले डेंगू के पाए गए, लेकिन किसी की भी मौत नहीं हुई जबकि मथुरा में एक तारीख तक डेंगू के 54 मामले आए थे जिनमें नौ लोगों की मौत हो गई।

डॉक्टर ए के सिंह ने बताया कि आईसीएमआर की टीम पत्रावली के साथ-साथ क्षेत्रों में लार्वा एकत्रित कर पुणे स्थित प्रयोगशाला को लगातार भेज रही है और इनकी रिपोर्ट की प्रतीक्षा है। जनपद में वायरल बुखार और डेंगू से पीड़ित लोगों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी स्थिति को संभालने का लगातार प्रयास कर रहे हैं।

जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी चर्चित गौड़ को नोडल अधिकारी नियुक्ति किया है। जिलाधिकारी चंद्र विजय सिंह ने डेंगू एवं वायरल बुखार के बढ़ते प्रकोप के दौरान लापरवाही बरतने के आरोप में बृहस्पतिवार देर शाम तीन चिकित्सकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया था। उन्होंने यह चेतावनी भी दी है कि यदि चिकित्सा कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही पायी गयी तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

दूसरी तरफ, सदर विधायक मनीष असीजा ने बुखार और डेंगू से अब तक 61 लोगों की मौत होने का दावा किया है। विधायक के अनुसार, वह क्षेत्र में लगातार घूमकर पीड़ित परिवारों से मिल रहे हैं और उनके परिवार में हुई मौतों की जानकारी जुटा रहे हैं। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने एक बयान में बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को निर्देश दिए कि बरसात के मौसम में जलजमाव और मौसम के प्रकोप से बढ़ रहीं बीमारियों की रोकथाम के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जाएं। प्रत्येक जनपद में हर मरीज की सेहत पर नजर रखी जाए और परिजनों को रोगी के स्वास्थ्य के बारे में नियमित अंतराल पर जानकारी दी जाए। 





Source link

पिछला लेखपंजाब पुलिस ने इंटेलिजेंस और इन्वेस्टिगेशन कैडर भर्ती परीक्षा 2021 के हॉल टिकट जारी किए
अगला लेखPetrol Diesel Price: कच्चे तेल के दाम घटे, भारत में घोषित हुए पेट्रोल और डीजल के ताजा रेट
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।