प्राउड मोमेंट! China और US के पास नहीं भारत जैसी ये टेक्नोलॉजी, पाक भी लेने की कतार में – china us do not have upi like india and pakistan also want upi payment system

0
1


नई दिल्ली। यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस यानी UPI पेमेंट प्लेटफॉर्म को भारत ने बनाया है और इसे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में सफलात पूर्वक लागू करके मिशाल पेश की। UPI के पूरे को सिस्टेम नेशनल पेमेंट कारपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने बनाया। जबकि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की निगरानी में लागू किया गया। कोविड के दौरान भारत में UPI ने डिजिटल पेमेंट की दुनिया में क्रांति पैदा कर दी है।

चीन और अमेरिका के पास नहीं भारत जैसा सिस्टम
मौजूदा वक्त में भारत ही नहीं, भूटान, UAE, श्रीलंका समेत कई देशों में UPI से पेमेंट किया जा रहा है। साथ ही कनाड़ा समेत करीब 12 देशों में UPI पेमेंट शुरू किया गया है। इससे बैकिंग की दुनिया में बदलाव के तौर पर देखा गया। भारत के UPI बेस्ड पेमेंट टेक्नोलॉजी जैसा सफल UPI सिस्टम अमेरिका और चीन के पास भी नहीं है। अमेरिका के UPI पेमेंट का इस्तेमाल खुद अमेरिकी भी नहीं करते है। यही हालात चीन का है। जबकि भारतीय UPI रोजाना नए रिकॉर्ड बना रहा है।

पाकिस्तान चाहता है भारत जैसा UPI सिस्टम
भारत के हमेशा दुश्मनी रखने वाला पड़ोसी देश पाकिस्तान भी भारतीय UPI सिस्टम से काफी प्रभावित है। ऐसे में वो भी भारतीय UPI को अपनाना चाहता है। लेकिन सिक्योरिटी को वजह बताकर पाकिस्तान के हुक्मरान UPI सिस्टम से किनारा कर रहे हैं।

UPI से हो रहे रिकॉर्ड पेमेंट
भारत में पिछले साल दिसंबर माह में रिकॉर्ड UPI पेमेंट किया गया। इस दौरान 12.82 लाख करोड़ रुपये का पेमेंट किया गया। बता दें कि UPI प्लेटफॉर्म को साल 2016 में लॉन्च किया गया था। भारत में PhonPe, Google Pay, Paytm जैसे ऐप UPI के बड़े पेमेंट गेटवे प्लेटफॉर्म हैं। UPI एक फ्री ऑफ कॉस्ट सर्विस है। जिसे इंटरनेट और बिना इंटरनेट के साथ भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

हर जगह स्वीकर हो रहा UPI

भारत में आज हर दुकान और मॉल में UPI पेमेंट लिया जा रहा है। छोटी दर्जी की दुकान पर भी ऑनलाइन पेमेंट स्वीकार किया जाता है। खुद पीएम मोदी ने डिजिटल पेमेंट को लेकर तारीफ की है।



Source link

पिछला लेखWireless Earphones: कमाल की साउंड क्वालिटी के साथ ऑनलाइन बिक रहे ये ! कीमत आपके बजट में
अगला लेखफॉरेस्ट गार्ड और जेल प्रहरी पद के लिए शुरू हुए आवेदन, 2112 वैकेंसी के लिए ये है आवेदन की लास्ट
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।