पाकिस्तान दुनिया के 10 बड़े कर्जदारों में शामिल: इमरान खान की सरकार को अब कर्ज मिलना मुश्किल, घाना और केन्या जैसे गरीब देशों जैसी हुई हालत

0
1



इस्लामाबाद18 मिनट पहले

भारत की बरबादी के सपने देखने वाला पाकिस्तान अब दुनिया के 10 सबसे ज्यादा कर्जदार देशों में से एक बन गया है। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि पाकिस्तान उन 10 देशों में शामिल हो गया है, जिन्होंने बाहरी देशों या संस्थाओं से सबसे ज्यादा उधार लिया हुआ है।

कोरोना संक्रमण के बाद वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट पाकिस्तान के लिए दोहरी मार लेकर आई है। पाकिस्तान को अब विदेशों से कर्ज मिलने में मुश्किल हो सकती है। डेट सर्विस सस्पेंशन इनीशिएटिव (DSSI) के तहत पाकिस्तान के सभी कर्ज सस्पेंड किए जा सकते हैं।

दिल्ली में पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, ISI ने ट्रेनिंग देकर बांग्लादेश के रास्ते भारत भेजा

क्या है DSSI, पाकिस्तान पर क्या असर होगा
इस पहल के तहत जो भी विकासशील देश खस्ता हालत में होते हैं, कुछ समय के लिए उन्हें मिलने वाला कर्ज सस्पेंड कर दिया जाता है। इसे डेट सर्विस सस्पेंशन इनीशिएटिव (DSSI) कहा जाता है। इन देशों की लिस्ट में पाकिस्तान के अलावा बांग्लादेश, इथियोपिया, घाना, केन्या, नाइजीरिया, मंगोलिया, उज्बेकिस्तान, अंगोला, जाम्बिया जैसे देश शामिल हैं।

पाकिस्तान पर एक्शन की तैयारी में अमेरिका, तालिबान से हमदर्दी की मिल सकती है सजा

दुनियाभर के कुल कर्ज का 59% 10 देशों ने लिया
इन 10 देशों का कर्ज संयुक्त 2020 के आखिर तक 509 बिलियन डॉलर था। यह 2019 के मुकाबले 12% ज्यादा है। दुनियाभर के देशों के लिए गए कर्ज का 59 फीसदी इन 10 देशों ने ही लिया हुआ है। ज्यादातर संस्थाओं ने इन देशों को अब कर्ज देने से इनकार कर दिया है। इसलिए ये अब भारी तादाद में किसी भी ब्याज दर पर बिना गारंटी वाला कर्ज लेते हैं। इसका एक उदाहरण पाकिस्तान है, जो चीन से लगातार CPEC प्रोजेक्ट के नाम पर कर्ज लेता रहता है और उसका ब्याज प्रतिशत कभी सार्वजनिक नहीं किया जाता।

भारत की जूनियर अफसर इमरान पर भारी, कश्मीर राग पर कहा- आतंकियों को पालते हो

चीन से कर्ज माफ करने की गुहार लगा चुका है पाकिस्तान
तंगहाली से गुजर रहे और दिवालिया होने की कगार पर खड़े पाकिस्तान ने करीब 4 महीने पहले चीन से कर्ज माफ करने की गुहार लगाई थी, लेकिन चीन ने यह करने से साफ इनकार कर दिया। इमरान खान सरकार ने चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर के तहत लिया गया 300 करोड़ डॉलर (करीब 22 हजार करोड़ रुपए) माफ करने की अपील की थी। पाकिस्तान चाहता था कि चीन कर्ज को माफ कर दे और CPEC प्रोजेक्ट की रीस्ट्रक्चरिंग भी कर दे।

खबरें और भी हैं…



Source link

पिछला लेखसरकारी नौकरी: सेंट्रल यूनिवर्सिटी गुजरात में 114 पदों पर निकली भर्ती, कैंडिडेट्स के लिए 29 अक्टूबर 2021 है आवेदन की आखिरी तारीख
अगला लेखDC vs KKR IPL 2021: कहीं पंत के दबंगों पर भारी न पड़ जाए स्पिन तिकड़ी, शारजाह का रेकॉर्ड भी KKR के पक्ष में
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।