नुकसान हुआ तो आईपीएल-वीवो डील नहीं होगी खत्म, बीसीसीआई की जल्द होने वाली है रिव्यू मीटिंग

0
2


BCCI unlikely to sever ties if exit clause favours VIVO: एक ओर जहां भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) पर चीनी कंपनी वीवो से डील तोड़ने का दबाव है तो दूसरी ओर वह नुकसान होने पर शायद ही इसे खत्म करने के लिए राजी हो।

Edited By Nityanand Pathak | भाषा | Updated:

नई दिल्ली

अगर ‘करार खत्म करने के नियम’ से इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के टाइटल स्पॉन्सर विवो को फायदा होता है तो फिर बीसीसीआई के इस चीनी मोबाइल कंपनी से नाता तोड़ने की संभावना नहीं है। यह बात भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को कहा कही। उन्होंने हालांकि यह खुलासा नहीं किया कि इसकी समीक्षा के लिए इस लीग की संचालन परिषद की बैठक कब होगी। पूर्वी लद्दाख में 15 जून को हुई हिंसक झड़प के बाद केंद्र सरकार ने विवादास्पद टिकटॉक सहित चीन के 59 ऐप को प्रतिबंधित कर दिया।

बीसीसीआई ने 15 जून की घटना के तुरंत बाद कहा था कि आईपीएल प्रायोजकों की समीक्षा की जाएगी। आईपीएल संचालन परिषद की बैठक में भाग लेने वाले बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘हमें अब भी टी20 विश्व कप, एशिया कप की स्थिति के बारे में पता नहीं है तो फिर हम बैठक कैसे कर सकते हैं। हां, हमें प्रायोजन पर चर्चा करने की जरूरत है लेकिन हमने कभी रद्द या समाप्त करने जैसे शब्दों का उपयोग नहीं किया।’

यह है पेच

उन्होंने कहा, ‘हमने कहा कि हम प्रायोजन की समीक्षा करेंगे। समीक्षा का मतलब है कि हम करार के सभी तौर तरीकों की जांच करेंगे। अगर करार खत्म करने का नियम विवो के अधिक पक्ष में होता है तो फिर हमें 440 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष के करार से क्यों हटना चाहिए? हम तभी इसे समाप्त करेंगे जब ‘करार खत्म करने का नियम’ हमारे पक्ष में हो।’ यह पता चला है कि बीसीसीआई के कुछ पदाधिकारियों का विचार है जब तक विवो मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए खुद पीछे नहीं हटता तब तक बोर्ड को अनुबंध का सम्मान करना चाहिए। यह करार 2022 में समाप्त होगा। करार को अचानक समाप्त करने पर बीसीसीआई को पर्याप्त मुआवजा देना पड़ सकता है।

IPL-VIVO करार टूटा तो बीसीसीआई को होगा इतना घाटा!IPL-VIVO करार टूटा तो बीसीसीआई को होगा इतना घाटा!IPL-VIVO करार टूटा तो बीसीसीआई को होगा इतना घाटा!भारत और चीन (India China Clash) के बीच जारी सीमा विवाद का असर आईपीएल के टाइटल स्पॉन्सर पर भी पड़ सकता है। गलवान वैली (Galwan Valley) में हुई झड़प में 20 सैनिक शहीद हो गए। देश में अब चीनी सामान के बहिष्कार (Boycott China) की मांग उठ रही है। ऐसे में बीसीसीआई वीवो आईपीएल टाइटल स्पॉन्सर डील की समीक्षा करेगी।

बीसीसीआई ने किया था रिव्यू का वादा

इसके अलावा बीसीसीआई को कम समय में इतनी अधिक राशि का प्रायोजक मिलने की भी कोई गारंटी नहीं है क्योंकि विश्व अर्थव्यवस्था भी बुरी तरह से प्रभावित है। हालांकि पेटीएम (जिसमें अलीबाबा एक निवेशक है) या ड्रीम इलेवन, बाइजू और स्विगी (जिनमें चीनी वीडियो गेम कंपनी टेनसेंट का निवेश है) को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं हैं क्योंकि वे भारतीय कंपनियां हैं। आईपीएल के ट्विटर हैंडल पर 19 जून शुक्रवार को कहा गया था, ‘सीमा पर हुई झड़प, जिसके कारण हमारे वीर जवान वीरगति को प्राप्त हुए, को ध्यान में रखकर आईपीएल संचालन परिषद ने आईपीएल के विभिन्न प्रायोजन करार की समीक्षा के लिए अगले सप्ताह बैठक बुलायी है।’

टी20 विश्व कप पर फैसले के बाद मीटिंग?

लगभग दो सप्ताह के बाद भी यह बैठक नहीं हो पायी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि संचालन परिषद के कम से कम दो सदस्यों ने बताया कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं बताया गया है। एक सदस्य ने कहा, ‘मैंने ट्वीट देखने के बाद आईपीएल चेयरमैन (बृजेश पटेल) और सीईओ (राहुल जोहरी) से बात की लेकिन अभी तक मुझे बैठक के बारे में कुछ नहीं बताया गया है। हो सकता है कि टी20 विश्व कप के आधिकारिक तौर पर स्थगित हो जाने के बाद वे बड़ी बैठक का आयोजन करना चाहते हों।’

भारत-चीन सीमा विवाद का IPL पर हो सकता है असरभारत-चीन सीमा विवाद का IPL पर हो सकता है असरभारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद का असर अब भारतीय क्रिकेट पर भी पड़ सकता है। गलवान वैली में हुई झड़प जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए, इसके बाद चीनी सामान के बहिष्कार का आह्वान किया जा रहा है।



आईपीएल को लेकर क्या है प्लान

इस बीच आईपीएल के एक प्रमुख हितधारक ने मुंबई में कोविड-19 की स्थिति में सुधार होने पर अक्टूबर में केवल एक शहर में टूर्नमेंट का आयोजन का विचार रखा है। बीसीसीआई अधिकारी ने कहा, ‘यह कहना अभी जल्दबाजी होगी लेकिन अगर अक्टूबर तक भारत में आईपीएल का आयोजन होता है और मुंबई में स्थिति नियंत्रण में रहती है तो वहां चार शीर्ष स्तर के मैदान हैं जहां दूधिया रोशनी की अच्छी व्यवस्था है। वहां बीसीसीआई के साजो सामान, प्रसारक (स्टार स्पोर्ट्स), जैव सुरक्षित स्थल तैयार करने हर तरह की व्यवस्था में सुविधा होगी।’ मुंबई में वानखेड़े, ब्रेबोर्न और डीवाई पाटिल (नवी मुंबई) में आईपीएल के मैचों का आयोजन हो चुका है। इसके अलावा घनसोली में रिलायंस का मैदान है जहां मुंबई इंडियंस सत्र पूर्व शिविर का आयोजन करता है।

Web Title ipl gc meetings yet to happen bcci unlikely to sever ties if exit clause favours vivo(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें



Source link

पिछला लेखचिलचिलाती गर्मी से ऐसे करें बचाव, अपनाएं ये जरूरी टिप्स
अगला लेखसुशांत ने खुदकुशी से पहले Google पर किया ये सर्च, मोबाइल की फोरेंसिक रिपोर्ट आई सामने
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।