देश में कोरोना वैक्सीन कब आएगी? मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार ने दिया ये बयान

0
3


नई दिल्ली: केंद्र सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के. विजयराघवन ने संकेत दिया है कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और भारत बायोटेक द्वारा विकसित की जा रही कोरोना की वैक्सीन के 15 अगस्त तक आने की संभावना कम है. विजयराघवन शुक्रवार को कहा कि भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) की वैक्सीन विकसित करने वालों को कड़ी मूल्यांकन प्रक्रिया से गुजरना होगा, जिससे किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा.

विजयराघवन ने नई दिल्ली स्थित थिंक टैंक ‘विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन’ में एक वेब सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी टीके को मानव पर परीक्षण के फर्स्ट फेज में 28 दिन लगते हैं और इसके बाद दो और फेज के परीक्षण होते हैं.

उन्होंने आगे कहा कि देश के औषधि नियामक ने भारत बायोटेक और जायडस कैडिला को वैक्सीन के परीक्षण को हरी झंडी दे दी है इसीलिए भारत बायोटेक के वैक्सीन या जायडस कैडिला के वैक्सीन को कड़ी मूल्यांकन प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ेगा जिससे किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा.

आईसीएमआर ने 15 अगस्त तक स्वदेशी कोविड-19 वैक्सीन को पेश करने का लक्ष्य रखते हुए चुनिंदा मेडिकल संस्थानों एवं अस्पतालों को पत्र लिखकर भारत बायोटेक के सहयोग से विकिसत ‘कोवैक्सीन’ टीके के लिए क्लिनिकल ट्रायल की मंजूरी में तेजी लाने को कहा था.

आईसीएमआर के पत्र पर सवाल पूछे जाने पर विजयराघवन ने कहा, ‘10 जुलाई को क्लिनिकल ट्रायल का फर्स्ट फेज शुरू हो गया है सभी 12 स्थानों पर एक ही समय पर ट्रायल शुरू होने की संभावना कम है.

उन्होंने कहा, ‘मान लीजिए कि ट्रायल एक ही समय पर शुरू होता है तो फर्स्ट फेज में एक इंजेक्शन लगेगा फिर सात दिन बाद एक और इंजेक्शन लगेगा और तब 14 दिन के बाद जांच की जाएगी और फिर निर्णय लेने से पहले नतीजों पर गौर किया जाएगा जिसमें 28 दिन तक लग जाएंगे.’

ये भी पढ़ें- Coronavirus: दिल्ली के तेजी से सुधर रहे हालात, 77% से ज्यादा हुआ रिकवरी रेट

विजयराघवन ने कहा कि परीक्षण के फर्स्ट फेज के बाद दो और फेज होंगे इसीलिए किसी वैक्सीन के लिए समय सीमा अगर हम वैश्विक स्तर पर देखें तो फर्स्ट फेज के बाद थर्ड फेज के परीक्षण तक कई महीने लगेंगे.

विशेषज्ञों ने कोरोना की वैक्सीन विकसित करने की प्रक्रिया में हड़बड़ी करने के प्रति आगाह किया है और इस बात पर जोर दिया है कि कोरोना की वैक्सीन विकसित करने में जल्दबाजी करना वैश्विक रूप से स्वीकार्य नियमों के अनुरूप नहीं है.





Source link

पिछला लेखचुनावी सर्वे में पिछड़ने के बाद ट्रम्प ने खेला अप्रवासी विरोधी कार्ड, वर्क वीजा, एच-1बी जैसे फैसले से अश्वेतों को खुश करने की कवायद
अगला लेखUP में लागू हुआ 55 घंटे का लॉकडाउन, जानें क्या खुला रहेगा और क्या रहेगा बंद
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।