होम स्पोर्ट्स क्रिकेट दीपक चाहर ने पहली ही बॉल पर की मांकड़िंग, फिर भी आउट...

दीपक चाहर ने पहली ही बॉल पर की मांकड़िंग, फिर भी आउट नहीं हुआ बल्लेबाज

0
1


हरारे: जिम्बाब्वे के खिलाफ तीसरे और आखिरी वनडे में मांकड़िंग रन आउट देखने को मिला, लेकिन दिलचस्प बात यह है कि बल्लेबाज आउट नहीं हुआ। दरअसल, हरारे स्पोर्ट्स क्लब में लगातार तीसरा टॉस जीतने के बाद भारत ने इस बार बल्लेबाजी चुनी। पहले बैटिंग करते हुए शुभमन गिल के शतक के बूते स्कोरबोर्ड पर 289 रन टांगे। अब 290 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी जिम्बाब्वे टीम को पहली ही गेंद पर बड़ा झटका लगता, लेकिन दीपक चाहर ने खेल भावना का परिचय दिखाया।

काइया की गलती, चाहर की दरियादिली
जिम्बाब्वे की पारी की पहली गेंद फेंकते-फेंकते दीपक चाहर अचानक रूक गए। इधर नॉन स्ट्राइक एंड पर खड़े बल्लेबाज इनोसेंट काइया क्रीज से काफी आगे निकल चुके थे। फिर क्या था चाहर ने गिल्लियां बिखेर दीं। कायदे से तो पहली बी गेंद पर मेजबानों को करारा झटका लगना चाहिए था, लेकिन चाहर ने कोई अपील नहीं की। शायद वह पहली चेतावनी देकर छोड़ना चाहते थे। वरना अंपायर को अंगुली उठाने में देर नहीं लगती।

क्या होती है मांकड़िंग?
इसमें नॉन-स्ट्राइकर को बॉलर द्वारा गेंद फेंकने से पहले रन आउट किया जाता है। इसमें जब गेंदबाज को लगता है कि नॉन-स्ट्राइकर क्रीज से बहुत पहले बाहर निकल रहा है तो वह नॉन-स्ट्राइकर छोर की गिल्लियां उड़ाकर नॉन-स्ट्राइकर को आउट कर सकता है। इसमें गेंद रिकॉर्ड नहीं होती, लेकिन विकेट गिर जाता है।

वीनू मांकड़ से संबंध
मांकडिंग के सबसे मशहूर उदाहरण वीनू मांकड़ द्वारा ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज बिल ब्राउन को रन आउट करना है। यह घटना 13 दिसंबर 1947 को हुई थी। मांकड़ गेंदबाजी कर रहे थे और उन्होंने ब्राउन को क्रीज से बाहर निकलने पर रन आउट कर दिया, उन्होंने ऑस्ट्रेलिया-XI के खिलाफ उस दौरे पर दूसरी बार ब्राउन को ऐसे आउट किया था।

थोड़ा नियम-कायदा भी समझ लेते हैं
इसी साल मार्च में क्रिकेट के कई नियमों में बदलाव किए गए। इस फेरबदल में विवादित डिसमिसल मांकड़िंग पर भी ध्यान दिया गया। लॉ 38.3 में इसका जिक्र मिलता है। पहले यह नियम 41 यानी अनफेयर प्ले में आता था, जिसे 38 यानी रन आउट में शिफ्ट कर दिया गया है। इसके मुताबिक, यदि गेंदबाज के बॉल डालने से ठीक पहले नॉन स्ट्राइकर अपनी क्रीज से बाहर निकलता है और बॉलर स्टम्प्स पर बॉल थ्रो करता है तो उसे रन आउट (मांकड़िंग) करार दिया जाएगा। यदि इस तरह के रन आउट में अपील नहीं की जाती है, तो अंपायर इसे डेडबॉल करार दे सकते हैं। यह बॉल भी ओवर में नहीं काउंट की जाएगी। हालांकि नियम 1 अक्टूबर 2022 से लागू होंगे।



Source link