दिल्ली-एनसीआर में लोगों को फंसाने की जुगत में हनी ट्रैप गैंग, कई रैकैटों का भंडाफोड़

0
5


Image Source : GOOGLE
Honey trap gangs on prowl in Delhi-NCR, police bust rackets । Image for representation

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में व्यवसायियों को हनी ट्रैप जाल में फंसाने और उसके बाद जबरन धन उगाहने के मामलों की संख्या बढ़ रही है। देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान दिल्ली और गुरुग्राम पुलिस ने ऐसे कई सक्रिय गिरोहों का भंडाफोड़ किया है। हाल ही के एक मामले में, जब एक 19 वर्षीय लड़की शाहदरा जिले के कृष्णा नगर पुलिस स्टेशन में आई और उसने एक स्थानीय व्यापारी के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया, तो पुलिस को उस पर शक करने का कोई कारण नहीं मिला। उन्होंने मामला दर्ज किया और आरोपी को पकड़ लिया। हालांकि, जांच के दौरान पुलिस को पीड़िता पर संदेह हुआ क्योंकि उसके बयानों में विसंगतियां थीं।

बाद में जांच के दौरान पता चला कि पीड़िता आरोपी के बेटे से पैसे मांग रही थी। पुलिस टीम ने फिर अलग-अलग पहलुओं पर काम करना शुरू कर दिया, जिसमें आदमी के हनी ट्रैप में फंसे होने की आशंका और लड़की के एक रैकेट का हिस्सा होने की संभावना भी शामिल थी। पुलिस ने पीड़िता से उसके परिवार और घर के बारे में पूछताछ की। उसने एक महिला को अपनी बड़ी बहन के रूप में पेश किया और पुलिस को एक पता दिया।

शाहदरा के डीसीपी अमित शर्मा ने कहा, “जब हमने आगे पूछताछ की, तो हमें पता चला कि पीड़िता का कोई भाई-बहन नहीं है। टीम को संदेह हुआ और तथाकथित बहन से अच्छी तरह से पूछताछ की गई। निरंतर पूछताछ के दौरान, उसने स्वीकार किया कि पीड़िता उसकी बहन नहीं है। उसने आगे कबूल किया कि पैसे उगाहने के लिए उसने दो अन्य लोगों के साथ मिलकर गांधी नगर के व्यापारी को यौन उत्पीड़न के मामले में फंसाने के लिए आपराधिक साजिश रची थी।”

पुलिस के अनुसार, योजना के अनुसार उसने खुद को प्रिया के रूप में व्यवसायी के सामने पेश किया और एक अन्य लड़की ने खुद को प्रिया की बहन के रूप में पेश किया और दोनों ने नंबर का आदान-प्रदान करने के बाद व्यवसायी को फंसा लिया। अधिकारी ने कहा, “उन्होंने मामले को निपटाने के लिए 20 लाख रुपये की मांग की।” दो अन्य सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया गया और उन्होंने स्वीकार किया कि उन्होंने दिल्ली के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में अलग-अलग लोगों के खिलाफ इसी तरह के मामले दर्ज कराए थे।

जगतपुरी में एक दूसरे मामले में, जबरन वसूली की दो शिकायतें पुलिस स्टेशन पहुंचने के बाद एक जोड़े को गिरफ्तार किया गया था। एक मामले में, एक आदमी और एक 24 वर्षीय महिला ने एक व्यवसायी के कार्यालय में प्रवेश किया और प्रति माह 10,000 रुपये की मांग की और मांग पूरी नहीं करने पर उसे यौन शोषण के झूठे मामले में फंसाने की धमकी दी। यह सौदा 2,500 रुपये प्रति माह पर तय किया गया था। लेकिन कारोबारी ने पुलिस से संपर्क किया। उसी जोड़े ने तब शेयर मार्केट के एक कर्मचारी को फंसाया और उनसे मामले को निपटाने के लिए पैसे की मांग की। दोनों आरोपियों प्रकाश मंडल और महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मालूम पड़ता है कि एनसीआर में हनी ट्रैप का रैकेट फैल गया है। सिर्फ दिल्ली ही नहीं, गुरुग्राम से सटे इलाकों में भी इस तरह के मामले सामने आए हैं। जून में, गुरुग्राम के सेक्टर 10 में गदोली खुर्द गांव से दो पुरुषों को शहर और दिल्ली में कई रियल एस्टेट एजेंटों को हनी ट्रैप के जाल में फंसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। रैकेट में शामिल लोग पीड़ित की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने की धमकी देकर उनका शोषण करते हैं। कई लोग पुलिस के पास भी नहीं जाते हैं और हनी ट्रैप गिरोह की ओर से जबरन मांगी गई रकम की मांग पूरी करते हैं। (इनपुट-IANS)

कोरोना से जंग : Full Coverage





Source link

पिछला लेखडॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती जारी, 38 पैसे बढ़कर 74.66 प्रति डॉलर पर बंद
अगला लेखकिश्तों में फीस लेने की मांग को लेकर छात्रों द्वारा प्रदर्शन
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।