त्वचा में होने वाले ये बदलाव हो सकते हैं स्किन कैंसर के लक्षण, जानें इसके प्रकार और बचाव के तरीके

0
0


Prevention And Medical Treatment Of Skin Cancer: कैंसर एक घातक बीमारी है. अगर समय पर इसके लक्षणों पर ध्यान न दिया जाए तो यह जानलेवा भी साबित हो सकती है. कैंसर के जितने भी प्रकार हैं उनमें त्वचा का कैंसर सबसे आम है. आमतौर पर स्किन कैंसर को लेकर लोगों को कम जानकारी होती है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लोग अक्सर त्वचा में होने वाले बदलाव को सामान्य समस्या समझकर इग्नोर कर देते हैं. कई मामलों में कैंसर का पता इतनी देर में पता चलता है कि इलाज नामुमकिन हो जाता है.

क्लीवलैंड क्लीनिक की खबर के अनुसार डीएनए डैमेज होने के कारण कोशिकाओं में असमान्य वृद्धि कैंसर की मेन वजह होती है. जब भी त्वचा की कोशिकाओं में वृद्धि होने लगती है तो यह कैंसर का कारण बनती है. त्वचा की कोशिकाओं मे वृद्धि उन हिस्सों में ज्यादा होती है जहां पर सूर्य की किरणें नहीं पहुंच पातीं. इसलिए अगर त्वचा में कहीं भी असमान्य बदलाव नजर आते हैं तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

स्किन कैंसर के लक्षण

– स्किन में अचानक तिल जैसे काले धब्बे नजर आना.
– किसी पुराने तिल या त्वचा लहसुन का आकार तेजी से बदलाव आना
– त्वचा पर दिख रहे किसी तिल या मसा नुमा निशान से लगातार पपड़ी उतरना
– त्वचा पर लाल पपड़ीदार निशान बनना
– किसी जगह पर लगातार जलन महसूस होना
– शरीर पर किसी जगह लगातार खुजली होना

कैंसर समेत कई रोगों के जोखिम को बढ़ा सकता है आर्टिफिशियल फूड कलर, जानें इससे बचाव के तरीके

स्किन कैंसर के प्रकार –

– बेसल सेल कार्सिनोमा
– स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा
– मेलेनोमा
– एक्टिनिक केराटोसिस

स्किन कैंसर का इलाज

  • सर्जरी के माध्यम से स्किन कैंसर का इलाज संभव है. इसका प्रयोग सामान्यतौर पर त्वचा के स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा, या एक्टिनिक केराटोसिस के इलाज के लिए किया जाता है.

  • रेडिएशन थेरेपी के द्वारा भी कैंसर का इलाज किया जाता है. इससे कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोका जाता है. इसमें एक मशीन कैंसर वाली जगह पर शरीर के अंदर रेडिएशन भेजती है.

  • कीमोथेरेपी भी कैंसर के इलाज का एक तरीका है. इसमें कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने के लिए दवाओं का उपयोग किया जाता है.

  • फोटोडायनॉमिक थेरेपी: यह थेरेपी भी कैंसर के इलाज में उपयोग में लाई जा सकती है. इसमें एक विशेष दवा को नस के अंदर इंजेक्ट किया जाता है. यह दवा प्रकाश के संपर्क में आने तक एक्टिव नहीं होती, इसलिए इसे इंजेक्ट करने के बाद त्वचा पर लेजर प्रकाश डाला जाता है.

  • इम्मयुनो थेरपी : यह कैंसर से बचने का एक ऐसा तरीका है जिसमें कैंसर से बचाव के लिए इम्यून सिस्टम का प्रयोग किया जाता है.

Tags: Cancer, Health, Lifestyle



Source link

पिछला लेखक्या Rishabh Pant को पूरी तरह जल चुकी कार का मिलेगा बीमा? ये होंगे न मिलने के कारण
अगला लेखसर्दियों में नेचुरल और Oil Free दिखने वाला मेकअप कैसे करते हैं आप भी जान लीजिए, बार-बार टच-अप नहीं करना पड़ेगा 
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।