होम हेल्थ टीनएज में होने वाले पिंपल्‍स कर सकते हैं परेशान, भूलकर भी न...

टीनएज में होने वाले पिंपल्‍स कर सकते हैं परेशान, भूलकर भी न करें ये गलतियां

0
0


हाइलाइट्स

टीनएज में पिंपल्‍स निकलना सामान्‍य है, लेकिन स्किन की देखभाल बेहद जरूरी है.
टीनएज में हार्मोनल इम्‍बैलेंस की वजह से पिंपल्स की समस्या देखने को मिलती है.

Pimples Removing Tips: टीनएज में कई तरह के फिजिकल, मेंटल और इमोशनल चेंजेस का सामना करना पड़ता है. कुछ चेंजेस अच्‍छे लगते हैं तो वहीं कुछ चेंजेस परेशान कर देते हैं. उनमें से एक है पिंपल्‍स की समस्‍या. पिंपल्‍स अधिकतर टीनएजर्स को होते हैं. टीनएज में लड़कों में टेस्‍टोस्‍टेरोन का लेवल काफी तेजी से बढ़ता है जिस वजह से पिंपल्‍स निकलने लगते हैं वहीं लड़कियों की बॉडी में एंड्रोजन का विकास होने लगता है जो पिंपल्‍स का कारण बन जाते हैं. इस उम्र में बॉडी के हार्मोनल बैलेंस को बनाए रखने के लिए पिंपल्‍स का ट्रीटमेंट बेहद जरूरी होता है. टीनएज में बच्‍चों की स्किन काफी नाजुक होती है. सही समय पर य‍दि ट्रीटमेंट किया जाए तो पिंपल्‍स से होने वाले निशान को आसानी से हटाया जा सकता है. चलिए जानते हैं कुछ ऐसे टिप्‍स के बारे में जो टीनएज में पिंपल्‍स से छुटकारा दिला सकते हैं.

माइल्‍ड क्‍लींजर करें यूज
एवरीडे हेल्‍थ के अनुसार
टीनएज में पिंपल्‍स निकलना आम बात है, लेकिन इसकी सही देखभाल भी जरूरी है. टीनएज में स्किन बहुत नाजुक होती है, जिस पर प्रदूषण, धूल और केमिकल का असर जल्‍दी होता है. इस उम्र में फेस वॉस के लिए माइल्‍ड क्लींजर का इस्तेमाल बेस्‍ट रहेगा. पिंपल्‍स वाली स्‍किन पर कभी भी हार्श प्रोडक्‍ट का प्रयोग न करें. इसके साथ ही फेस को केवल दो बार ही वॉश करें. अधिक बार फेस वॉश करने से फेस खराब हो सकता है.



दवाइयों से बचें
पिंपल्‍स को ठीक होने में काफी समय लगता है. इसके लिए मेडिकेटेड क्रीम, जैल, लोशन और एंटीबायोटिक्‍स का प्रयोग किया जा सकता है. दवाइयों के प्रयोग के पिंपल्‍स को ठीक हो जाते हैं लेकिन स्‍किन पर इसका प्रभाव दिखाई देने लगता है. पिंपल्‍स को ठीक करने के लिए घरेलू उत्‍पादों का प्रयोग करें न कि अधिक दवाइयों का. दवाओं का सेवन केवल डॉक्‍टर की सलाह पर ही करें.

ये भी पढ़ें: स्किन से गायब हो रहा है नेचुरल ग्‍लो तो स्किन केयर में शामिल करें ब्राइडल उबटन

मेकअप को करें रिमूव
कई बार आलस और नींद के कारण लड़किया मेकअप रिमूव किए बिना ही सो जाती हैं. जो पिंपल्‍स बढ़ने का कारण हो सकता है. मेकअप से स्किन के पोर्स बंद हो जाते हैं जिससे पिंपल्‍स निकल सकते हैं. वैसे तो टीनएज में अधिक मेकअप का प्रयोग नहीं करना चाहिए. जो लड़कियां मेकअप करती हैं, उन्हें स्‍किन की विशेष देखभाल करने की जरूरत है. मार्केट में कई ऑयल फ्री मेकअप प्रोडक्‍ट आते हैं, जो स्किन फ्रेंडली होते हैं. मेकअप के लिए उनका चुनाव किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: स्किन पर करते हैं टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल तो जान लें ये ज़रूरी बातेें

पिंपल्‍स को न करें पॉप
माना कि पिंपल्‍स फेस पर अच्‍छे नहीं लगते लेकिन उन्‍हें पॉप करना यानी फोड़ना उससे भी ज्‍यादा नुकसानदायक हो सकता है. टीनएज में बच्‍चे गुस्‍से और शर्म के कारण पिंपल्‍स को फोड़ने की गलती कर बैठते हैं. पिंपल्‍स को फोड़ने से स्किन पर गहरे निशान बन जाते हैं जो आसानी से रिमूव नहीं होते. साथ ही पिंपल्‍स से निकलने वाला पानी या खून उसके आसपास की स्किन में लग जाता है जो पिंपल्‍स को बढ़ावा देता है. जहां तक हो सके पिंपल्‍स को अपने आप ही ठीक होने दें.

Tags: Health, Lifestyle, Skin care



Source link