जिला प्रयागराज में गजब संयोग, HC के चीफ जस्टिस से लेकर कई आला अधिकारियों के नाम ‘संजय’

0
3


प्रयागराज: यूं तो प्रयागराज अक्सर किसी न किसी कारण से सुर्खियों में बना रहता है. इन दिनों इस जिले में ‘संजय’ नाम के संयोग की चर्चा हो रही है. इसके पीछे की वजह है यहां के प्रशासनिक व न्यायिक पद पर नियुक्त अधिकारी. दरअसल, इलाहाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस न्यायमूर्ति संजय यादव के साथ ही इस जिले में चार अन्य अधिकारियों का नाम संजय है.  

इन अधिकारियों के नाम भी ‘संजय’
प्रयागराज स्थित उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग के अध्यक्ष संजय श्रीनेत्र हैं. आयुक्त प्रयागराज मण्डल संजय गोयल हैं. हाल ही में जिले को नए डीएम संजय खत्री मिले हैं. इसके अलावा जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी के पद पर संजय कुशवाहा तैनात हैं. ये सभी अधिकारी वर्तमान में अपने-अपने पदों पर तैनात रहकर जिले का मान बढ़ा रहे है. संजय नाम के इस संयोग की चर्चा सोशल मीडिया पर भी हो रही है. तो आइये जानते हैं इन अधिकारियों के बारे में…

किस्से कमसुनेः एक पुरुष ने निभाया था Bollywood में पहला महिला किरदार

कौन हैं जस्टिस संजय यादव? 
संजय यादव का जन्म 26 जून 1961 को हुआ. 25 अगस्त 1986 में वकील के रूप में रजिस्टर्ड हुए. उसके बाद उन्होंने जबलपुर हाईकोर्ट में सिविल, रेवेन्यू और संवैधानिक मामलों में वकालत की. मार्च 1999 से अक्टूबर 2005 तक सरकारी एडवोकेट के तौर पर काम किया. इसके अलावा संजय यादव मध्य प्रदेश के डिप्टी एडवोकेट जनरल के पद पर भी रहे. 2 मार्च 2007 को वह मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के अपर न्यायाधीश नियुक्त हुए. जनवरी 2010 में उन्हें स्थायी जज नियुक्त किया गया.

इसके अलावा वो दो बार मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश भी रहे. 8 जनवरी 2021 को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट से उनका ट्रांसफर इलाहाबाद हाईकोर्ट में हो गया. यहां 14 अप्रैल से वह कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के पद पर तैनात थे. हाल ही में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें स्थायी मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया है. केंद्रीय विधि मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक उनकी नियुक्ति शपथ ग्रहण व कार्यभार संभालने की तिथि से प्रभावी होगी. 

खाकी का खौफ: चोरी कर भाग रहे बदमाश को पुलिस ने घेरा, तो गोली मार की आत्महत्या

UPPSC के नए चेयरमैन संजय श्रीनेत
उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) के अध्यक्ष संजय श्रीनेत्र ने 18 मई को कार्यभार ग्रहण किया. भारतीय राजस्व सेवा के 1993 बैच के अधिकारी संजय श्रीनेत्र को प्रवर्तन निदेशालय (ED) में नॉर्दन रीजन के स्पेशल डायरेक्टर के पद से रिटायर होने के बाद यह जिम्मेदारी दी गई है. आईआरएस में सेलेक्ट होने के बाद 2005 से 2009 तक प्रथम सचिव भारतीय उच्चायोग (व्यापार) लंदन में तैनात थे. 2009 से 2014 तक डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस राजस्थान के प्रभारी रहे.

घोड़ी चढ़ने को बेताब अलखराम को अब करना होगा साल भर इंतजार, सामने आई ये बड़ी वजह

इसके बाद 2015 से 2020 तक ईडी के नॉर्दन रीजन के स्पेशल डायरेक्टर थे. उन्हें राष्ट्रपति ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए 2010 में गणतंत्र दिवस पर प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया था. इसके अलावा केंद्र सरकार के लिए सबसे ज्यादा राजस्व संग्रह करने पर 1998 में सम्मान पत्र भी दिया गया था. कहा जाता है कि उन्होंने अपने सेवाकाल में 4000 करोड़ से ज्यादा की संपत्तियों को सीज़ किया. 100 करोड़ से ज्यादा टैक्स चोरी और तस्करी के मामलों को पकड़ा. 

प्रयागराज के मंडलायुक्त संजय गोयल
IAS संजय गोयल मार्च महीने में प्रयागराज के मंडलायुक्त नियुक्त हुए हैं. वह 2004 बैच के आइएएस अफसर हैं. दिल्ली यूनिवर्सिटी से लॉ की डिग्री ली है. भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयनित संजय गोयल का मूल कैडर असम-मेघालय है. 2017 में यूपी आने के बाद उन्होंने कई पदों पर काम किया. कोरोना काल के दौरान उन्होंने लखनऊ में में राहत आयुक्त के तौर पर काम किया. इससे पहले वह विद्युत वितरण निगम के एमडी और विशेष सचिव वित्त के पद पर तैनात रहे. 

Viral Video: इस बिल्ली ने की मरने की ऐसी एक्टिंग, यूजर्स बोले- इसे तो Oscar मिलना चाहिए!

DM संजय कुमार खत्री
संजय कुमार खत्री ने 5 जून को प्रयागराज के डीएम का कार्यभार संभाला. उन्होंने भानु चंद्र गोस्वामी का स्थान लिया. 2010 बैच के आईएएस अधिकारी संजय कुमार गाजीपुर और रायबरेली में भी डीएम रह चुके हैं. प्रयागराज नें डीएम का पद संभालने के पहले वह जल निगम में संयुक्त प्रबंध निदेशक के पद पर तैनात थे. संजय खत्री मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले हैं. उनका जन्म बाड़मेर में 27 जनवरी 1981 को हुआ था. हालांकि, कक्षा 8वीं के बाद वो जयपुर आ गए थे. डीएम संजय कुमार खत्री 2016 में यूपी सरकार में कैबि‍नेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर से अनबन को लेकर सुर्खियों में आए थे. 

तिल से जुड़े होते हैं आपकी पर्सनैलिटी के राज़, जानें होठों पर तिल का क्या होता है मतलब

बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुशवाहा
संजय कुशवाहा जून 2017 में प्रयागराज का बेसिक शिक्षाधिकारी नियुक्त हुए थे. इसके पहले वह सह जिला विद्यालय निरीक्षक के तौर पर कार्यरत थे. वह मूल रूप से गाजीपुर जिले के रहने वाले हैं. वह कौशांबी और बलिया जिले में BSA रह चुके. इसके अलावा माध्यमिक और बेसिक शिक्षा परिषद में उपसचिव के पद पर तैनात थे. 

WATCH LIVE TV

 





Source link

पिछला लेखसरकार ने अप्रैल के औद्योगिक उत्पादन के आंशिक आंकड़े ही जारी किए, IIP 126.6 अंक पर
अगला लेखकोरोना से बेहाल जनता पर अब पड़ेगी महंगाई की मार: कई अमेरिकी कंपनियां अब अपने प्रोडक्ट के मूल्य बढ़ा सकती हैं, कोकाकोला, व्हर्लपूल, प्रॉक्टर गैम्बल ने साफ संकेत दिए
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।