जरदारी-ISI चीफ की दुबई में खुफिया मुलाकात: पाकिस्तान में जल्द हो सकते हैं चुनाव, इमरान बोले- अब फौज फौरन दखल दे

0
0


इस्लामाबाद/ दुबई35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पाकिस्तान में एक बार फिर सियासी उबाल आने के पूरे आसार हैं। कहा जा रहा है देश में बहुत जल्द और मुमकिन हुआ तो अक्टूबर में जनरल इलेक्शन हो सकते हैं। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले दिनों पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के चीफ और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने दुबई में खुफिया एजेंसी ISI के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल नदीम अंजुम से सीक्रेट मीटिंग की।

दूसरी तरफ, मुल्क के सबसे बड़े सूबे पंजाब में सरकार बनाने के बाद इमरान खान के हौसले बुलंद हैं। बुधवार को खान ने कहा- न्यूट्रल (फौज) को अब एक्शन में आ जाना चाहिए। हमारी मांग है कि जितना जल्द हो सके, आम चुनाव कराए जाएं। वरना हम फिर सड़कों पर उतरेंगे।

प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ चाहते हैं कि किसी तरह नवंबर तक चुनाव टाले जाएं, ताकि अगला आर्मी चीफ अपॉइंट करने का मौका इमरान खान को न मिले।

प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ चाहते हैं कि किसी तरह नवंबर तक चुनाव टाले जाएं, ताकि अगला आर्मी चीफ अपॉइंट करने का मौका इमरान खान को न मिले।

जरदारी-अंजुम का दुबई दौरा

  • पाकिस्तान के कई जर्नलिस्ट्स ने इस बारे में सोशल मीडिया पर जानकारी दी है। आलिया शाह के मुताबिक, पिछले हफ्ते जरदारी दुबई गए थे। यहां उनकी बेटी बख्तावर भुट्टो रहती हैं। कहने को तो जरदारी बख्तावर से मिलने गए थे, लेकिन इसके पीछे कहानी कुछ और है।
  • दरअसल, जिस दिन जरदारी दुबई पहुंचे, उसी शाम ISI चीफ नदीम अंजुम भी चार्टर्ड फ्लाइट से दुबई पहुंचे। कहा जाता है कि जरदारी और अंजुम की मुलाकात एक होटल में हुई। फौज चाहती है कि जरदारी जल्द चुनाव के लिए सबको राजी करें।
  • यहां ये जान लेना जरूरी है कि पाकिस्तान में इस वक्त केंद्र सरकार को पर्दे के पीछे से 3 अहम चेहरे चला रहे हैं। ये हैं- आसिफ अली जरदारी, पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और मौलाना फजल-उर-रहमान। खास बात ये है कि तीनों की ही पार्टियां सरकार में शामिल हैं, लेकिन ये खुद मंत्री नहीं हैं।
इमरान जल्द से जल्द चुनाव इसलिए चाहते हैं ताकि अपने चहेते ले. जनरल फैज हमीद (दाएं) को आर्मी चीफ बना सकें। फौज की वजह से ही उनके आर्मी चीफ से रिश्ते बिगड़े थे।

इमरान जल्द से जल्द चुनाव इसलिए चाहते हैं ताकि अपने चहेते ले. जनरल फैज हमीद (दाएं) को आर्मी चीफ बना सकें। फौज की वजह से ही उनके आर्मी चीफ से रिश्ते बिगड़े थे।

​​​​​​इस मुलाकात के पीछे सिर्फ सियासत
पिछले दिनों इमरान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) ने सबसे अहम प्रांत पंजाब के उप चुनाव में 20 में से 15 सीटें जीतीं। मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री हमजा शाहबाज शरीफ को इस्तीफा देने को कहा। नए सीएम बने परवेज इलाही। उन्हें इमरान समर्थन दे रहे हैं। इस जीत के बाद से ही इमरान फौज, केंद्र सरकार और इलेक्शन कमीशन पर नए चुनाव कराने का दबाव डाल रहे हैं।

इमरान के आगे फौज भी झुकती नजर आ रही है। यही वजह है कि आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने ISI चीफ को जरदारी से मुलाकात के लिए दुबई भेजा, ताकि बात छिपी रहे। हालांकि, इसके बावजूद कुछ जर्नलिस्ट्स को इसकी जानकारी मिल गई। सोशल मीडिया पर इसका खूब जिक्र हो रहा है।

पाकिस्तान के एक स्कूल में स्टूडेंट्स के साथ चेस में मसरूफ आर्मी चीफ बाजवा। जनरल बाजवा चाहते हैं कि इकोनॉमी कुछ बेहतर हो, इसके बाद ही जनरल इलेक्शन कराए जाएं।

पाकिस्तान के एक स्कूल में स्टूडेंट्स के साथ चेस में मसरूफ आर्मी चीफ बाजवा। जनरल बाजवा चाहते हैं कि इकोनॉमी कुछ बेहतर हो, इसके बाद ही जनरल इलेक्शन कराए जाएं।

इमरान जल्द चुनाव पर क्यों अड़े

  • इसकी वजह भी साफ तौर पर सियासी है। दरअसल, पाकिस्तान में फौज के समर्थन के बिना कोई सरकार नहीं बन सकती। इमरान को सत्ता में लाने और हटाने के पीछे भी आर्मी का ही रोल था। अब फौज खुद को न्यूट्रल बता रही है। इमरान चाहते हैं कि सेना उनकी मदद करे और फिर से वो सत्ता में आएं।
  • पंजाब के उप चुनाव में जीत के बाद खान के हौसले सातवें आसमान पर हैं। इसकी एक और बहुत बड़ी वजह यह है कि नवंबर में जनरल बाजवा रिटायर हो रहे हैं। इमरान अपने चहेते और करीबी पूर्व ISI चीफ जनरल फैज हमीद को आर्मी चीफ बनाना चाहते हैं। ये तभी हो सकता है जब इमरान फिर प्रधानमंत्री बन जाएं।
  • जनरल हमीद के पेशावर ट्रांसफर को लेकर ही खान और बाजवा के बीच ठनी थी। इमरान इसे रोकना चाहते थे, जबकि बाजवा ट्रांसफर पर अड़े थे।

खबरें और भी हैं…



Source link

पिछला लेखसरकारी नौकरी: आरसीएफएल के अंतर्गत मैनेजमेंट ट्रेनी के 33 पदों पर निकली भर्ती, उम्मीदवार 18 अगस्त तक करें आवेदन
अगला लेखआपके बच्‍चे की लंबाई न बढ़ने के पीछे ये हो सकती है वजह, गंगाराम अस्‍पताल ने किया रिसर्च
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।