चुटकी भर ज्यादा नमक बन सकता है मौत की वजह ! हर दिन सिर्फ इतना करें इस्तेमाल

0
0


हाइलाइट्स

नमक का सेवन कम करने से हार्ट डिजीज का खतरा काफी कम हो जाता है.
14 साल से अधिक उम्र के लोगों को प्रतिदिन 2300 mg नमक खाना चाहिए.

Reducing Salt Intake Lower Heart Disease Risk: नमक यानी सोडियम क्लोराइड हमारी डाइट का एक जरूरी तत्व होता है. नमक हमारे शरीर में फ्लूड लेवल को कंट्रोल रखने में मदद करता है. मसल्स को रिलैक्स करके नर्व इंपल्स को मेंटेन करता है. शरीर की प्रॉपर फंक्शनिंग के लिए एक निश्चित मात्रा में नमक की जरूरत होती है. अत्यधिक नमक का सेवन करने से किडनी स्टोन, हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट डिजीज जैसी समस्याएं हो सकती हैं. हर साल इन बीमारियों की वजह से तमाम लोगों को जान गंवानी पड़ती है. नमक और कार्डियोवैस्कुलर डिजीज को लेकर एक नई स्टडी सामने आई है. इसमें बताया गया है कि नमक की मात्रा से हार्ट डिजीज और स्ट्रोक के खतरे को कैसे कम किया जा सकता है.

यह भी पढ़ेंः गुड कोलेस्ट्रॉल इन 5 तरीकों से करें बूस्ट, हार्ट डिजीज की टेंशन हो जाएगी खत्म

हालिया स्टडी में ये बातें आईं सामने
मेडिकल न्यूज टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक नमक और हार्ट डिजीज के कनेक्शन को लेकर चीन में एक स्टडी की गई थी. इस स्टडी में पता चला है कि रोजाना 1 ग्राम नमक का सेवन कम करने से हार्ट डिजीज का खतरा 4% और स्ट्रोक का जोखिम 6% तक कम हो सकता है. आपको जानकर हैरानी होगी कि चीन में नमक की खपत विश्व में सबसे ज्यादा है. अत्यधिक नमक के सेवन से स्ट्रोक और हार्ट अटैक जैसी परेशानी हो सकती है. प्रतिदिन 1 ग्राम नमक का सेवन कम करने से दुनियाभर में लाखों लोगों की जान बचाई जा सकती है. जानकारों के मुताबिक 14 साल या इससे अधिक उम्र के लोगों को प्रतिदिन 2300 mg नमक का सेवन करना चाहिए. इससे ज्यादा मात्रा बीमारियों की वजह बन सकती है.

ऐसे नमक की खपत करें कम
नमक लगभग सभी खाने-पीने की चीजों में पाया जाता है. ब्रेड, स्नैक्स और जंक फूड में नमक की मात्रा सबसे ज्यादा होती है. लोगों को जंक फूड और प्रोसेस्ड फूड्स को खाने से बचना चाहिए. जिन चीजों में नमक ज्यादा हो, उन्हें कम से कम खाएं. खाने में नमक का इस्तेमाल ज्यादा न करें. कुछ सॉसेज में नमक ज्यादा होता है, उनका इस्तेमाल कम करें. कुछ सब्जियों को बिना नमक के खाने की कोशिश करें. इसके अलावा समय-समय पर अपना हेल्थ चेकअप जरूर कराएं. अगर ब्लड प्रेशर हाई रहता है, तो डॉक्टर की सलाह लें और खाने-पीने का विशेष ध्यान रखें.

यह भी पढ़ेंः ग्रीन टी से ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मिलती है मदद, स्टडी में हुआ खुलासा

Tags: Health, Heart Disease, Lifestyle, Trending news



Source link

पिछला लेखक्लास में डिसिप्लिन के लिए जरूरी 8 टिप्स: टीचर्स समझें डिसिप्लिन की नई परिभाषा…तभी सुधरेगा बच्चों का आचरण
अगला लेखइमरान खान की कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी: बंगले के बाहर लगी समर्थकों की भीड़; जज और पुलिस अधिकारियों को खुलेआम दी थी धमकी
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।