चीन में फैली एक और खतरनाक बीमारी ‘ब्यूबोनिक प्लेग’, जान लें इसके बारे में सब कुछ

0
4


चीन (China) से निकली कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी से अब भी दुनिया जूझ रही है. इस बीच, वहां से एक और खतरनाक बीमारी की खबर आ रही है. इसका नाम है ब्यूबोनिक प्लेग (Bubonic Plague). यह बीमारी पिस्सू से फैलती है. नॉर्थ चीन में दो भाइयों में यह बीमारी पाए जाने के बाद लेवल-3 की चेतावनी जारी की जा चुकी है. इस बारे में सबसे पहले चीन की समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने सूचना दी थी. जिन दो भाइयों में यह बीमारी पाई गई है, उनकी उम्र 27 और 17 वर्ष बताई गई है. उन्होंने मर्मोट (एक प्रकार की गिलहरी) का मांस खाया था.

क्या है ब्यूबोनिक प्लेग

ब्यूबोनिक प्लेग एक दुर्लभ, लेकिन गंभीर जीवाणु संक्रामक बीमारी है. यह एक जूनोटिक बीमारी है, यानी यह जानवरों से मनुष्यों में, फिर मनुष्यों से मनुष्यों में फैल सकती है. यह मुख्य रूप से संक्रमित पिस्सू के काटने से होती है. यह प्लेग संक्रमित जानवर के खून या अन्य तरल पदार्थ के संपर्क में आने से भी हो सकती है. इसके मरीज को तत्काल अस्पताल में भर्ती की आवश्यकता होती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, समय रहते इलाज न किए जाने पर यह किसी वयस्क को 24 घंटे से कम समय में मार सकती है. उपचार के अभाव में इस प्लेग से संक्रमित 60 फीसद तक मरीजों की मौत हो सकती है.ब्यूबोनिक प्लेग के लक्षण क्या हैं

ब्यूबोनिक प्लेग से संक्रमित एक व्यक्ति को लिम्फ ग्रंथियों में सूजन महसूस होती है. ये ग्रंथियां कांख या गर्दन में होती हैं और सूजन पर इनका आकार अंडों की तरह हो सकता है. इसके अलावा बुखार, ठंड लगना, सिरदर्द, थकान और मांसपेशियों में दर्द, इस बीमारी के अन्य लक्षण हैं.

myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन के अनुसार, प्लेग एक प्रकार का इन्फेक्शन होता है जो योर्सिनिया पेस्टिस नामक बैक्टीरिया के कारण होता है. यह बैक्टीरिया मुख्य रूप से चूहों में पाया जाता है या उन पिस्सूओं में पाया जाता है जो चूहों को काटते हैं.

क्या ब्यूबोनिक प्लेग नई बीमारी है?

ब्यूबोनिक प्लेग बीमारी पहली बार सामने नहीं आई है. 2010 से 2015 तक, ब्यूबोनिक प्लेग के 3,200 से अधिक मामले सामने आए हैं और इनमें से 584 की मौत हुई है. 14वीं शताब्दी में, ब्यूबोनिक प्लेग के परिणामस्वरूप एशिया, यूरोप और अफ्रीका में 50 मिलियन (5 करोड़) से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है.

क्या ब्यूबोनिक प्लेग भी महामारी बन सकती है?

ब्यूबोनिक प्लेग के अब तक चीन में कुल 146 मरीज सामने आ चुके हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है. वैज्ञानिकों को आशंका है कि यह आसानी से इन्सानों से इन्सानों में फैलने के कारण पूरी दुनिया में महामारी का रूप धारण कर सकती है. चीनी वैज्ञानिकों का कहना है कि स्वाइन इंडस्ट्री यानी सुअर के जुड़े काम करने वाले लोगों पर तत्काल नजर रखने की जरूरत है.

कैसे होता है प्लेग का इलाज 

myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन के अनुसार, आमतौर पर प्लेग गंभीर बीमारी होती है, लेकिन इसका इलाज संभव है. आम एंटीबायोटिक दवाओं से इलाज किया जाता है. हालांकि, अभी  ब्यूबोनिक प्लेग  के इलाज के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, प्लेग क्या है, इसके प्रकार, लक्षण और इलाज पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.





Source link

पिछला लेखये है आसमान में उड़ने वाली कार, घर से सवारी ले रोड के बजाए नजर आएगी ऊपर
अगला लेखCBSE ने सिलेबस से जो टॉपिक्स हटाएं, उनसे भी आते हैं प्रतियोगी परीक्षाओं में सवाल
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।