क्या प्रेग्नेंसी में आड़ू खाना सुरक्षित है? जानिए फायदे और नुकसान

0
1


हाइलाइट्स

आड़ू में विटामिन ए और बीटा कैरोटीन की मात्रा होती है.
आड़ू खाने से बॉडी डिटॉक्स होती है.
आड़ू खाने से गर्भवती महिला की बॉउल मूवमेंट ठीक रहती है.

Eating peaches in pregnancy: प्रेग्नेंसी के दौरान मां के बेहतर स्वास्थ्य के लिए और गर्भ में पल रहे बच्चे को पोषक तत्व देने के लिए आड़ू खाना बेहद सुरक्षित माना जाता है. आड़ू में पोषक तत्वों में कार्बोहाइड्रेट, विटामिंस, फाइबर और खनिज पाए जाते हैं. यह पोषक तत्व प्रेग्नेंट महिलाओं को ना सिर्फ फायदा पहुंचाते हैं, बल्कि गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए भी लाभकारी होते हैं. ऐसे में गर्भवती महिलाओं के लिए आड़ू खाना लाभकारी होता है. आड़ू कब खाना चाहिए और कब नहीं, इसका भी विशेष तौर पर ध्यान रखना ज़रूरी है. आड़ू खाने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें. आइए जानते हैं आडू खाने के फायदे और नुकसान के बारे में यहां.

कब्ज में फायदेमंद आड़ू

  • मॉमजंक्शन डॉट कॉम के मुताबिक, आड़ू में फाइबर अधिक पाया जाता है. फाइबर आंत को सेफ एंड क्लीन रखता है और कब्ज की प्रॉब्लम से निजात दिला सकता है, जो कि गर्भावस्था में एक आम समस्या है.
  • आडू विटामिन सी से भरपूर होता है. आड़ू का सेवन बच्चे की हड्डियों, मसल्स, ब्लड वेसल्स और कार्टिलेज बनने में ज़रूरी विटामिन सी की पूर्ति कर सकता है.

इसे भी पढ़ें: दिल संबंधी रोगों में ‘रामबाण’ औषधि है अर्जुन की छाल, जानें फायदे और उपयोग का सही तरीका

  • रिसर्च बताती है कि लगभग 100 ग्राम आडू का सेवन दैनिक ज़रूरत का 6 मिलि ग्राम विटामिन सी की पूर्ति कर सकता है.
  • 100 ग्राम आड़ू के सेवन से 4 माइक्रोग्राम फॉलिक एसिड मिल सकता है, जो कि गर्भावस्था के पहले ट्राइमेस्टर में ज़रूरी है.


  • आड़ू में पोटैशियम भी काफी मात्रा में होता है, जो प्रेग्नेंट और बच्चे दोनों के लिए ज़रूरी होता है. इससे बच्चे और मां के शरीर में फ्लूइड बैलेंस बना रहता है.

आड़ू खाने के क्या हैं नुकसान
यूं तो आड़ू स्वास्थ्य के नजरिए से बेहतर विकल्प माना जाता है, लेकिन इसका अधिक सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है. गर्भवती महिला को 1 दिन में 500 ग्राम से अधिक आड़ू का सेवन नुकसानदायक हो सकता है.

यह भी पढ़ें- गाजर की पत्तियां भी हैं सेहत के लिए वरदानखाने में करें शामिल

माउथ एलर्जी की समस्या हो सकती है. अगर आप कच्चे आडू का सेवन करते हैं तो यह माउथ एलर्जी की समस्या को पैदा कर सकता है, इसलिए कच्चे आड़ू का सेवन नहीं करना चाहिए. पाचन संबंधी समस्या हो सकती है, इसलिए एक्सपर्ट्स के मुताबिक गर्भवती महिला 4 से 5 तक फ्रूट और वेजिटेबल हर रोज ले सकती हैं.

Tags: Health, Lifestyle, Pregnancy



Source link

पिछला लेखMSRB Pharmacist Recruitment 2022: यहां फार्मासिस्ट पदों पर होगी बंपर भर्ती, मिलेगी 1 लाख से अधिक सैलरी, देखें
अगला लेखRRB Group D Exam City Slip 2022: ग्रुप D के फेज 2 एग्जाम सिटी स्लिप का लिंक हुआ एक्टिव, इस लिंक से करें चेक
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।