क्या खरीदने वाले हैं इलेक्ट्रिक कार? पहले चेक करें बीमा से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें

0
1


नई दिल्ली. पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों की वजह से कार चलाना काफी महंगा हो गया है. यही वजह है कि लोगों को अब सस्ते विकल्पों की तलाश करनी पड़ रही है. ऐसे में इलेक्ट्रिक व्हीकल अपनी कम चलने वाली लागत और जीरो पॉल्यूशन की वजह से एक बेहतरीन ऑप्शन के रूप में उभरे हैं. यह किफायती विकल्प फॉसिल-फ्यूल कारों की तुलना में कम चलने वाली लागत पर पूरी तरह चार्ज होने पर 300 किमी (या मॉडल के आधार पर अधिक) तक चल सकता है.

अगर आप भी ऐसे समय में इलेक्ट्रिक कार खरीदने का सोच रहे हैं तो आपको भी इससे जुड़ी बीमा स्कीम के बारे में जान लेना चाहिए. क्योंकि वाहन से होने वाले किसी भी नुकसान से खुद को आर्थिक रूप से सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है.

ये भी पढ़ें- SBI इलेक्ट्रिक कार के लिए बहुत कम ब्याज पर दे रहा लोन, कम होगी EMI

जरूर कराएं बैटरी कवर
इलेक्ट्रिक कार में सबसे महंगा हिस्सा उसमें इस्तेमाल होने वाली लिथियम आयन बैटरी होती है. इसलिए जरूरी है कि बीमा कराते वक्त, यह जरूर सुनिश्चित कर लें कि पॉलिसी में बैटरी कवर है या नहीं. इलेक्ट्रिक कारों में इस्तेमाल होने वाले बैटरी एक बार खराब होने पर सही नहीं होती हैं. हालांकि, ज्यादातर निर्माता अपनी बैटरी पर पांच से आठ साल की वारंटी देते हैं. इसके अलावा बैटरी आमतौर पर रखरखाव-मुक्त होती हैं और खराब होने से पहले आठ से दस साल के बीच चलती हैं. अगर आपको आठ साल बाद बैटरी बदलने की जरूरत है, तो भी यह आपके व्यापक मोटर बीमा में कवर किया जाएगा.

जानें क्या-क्या होता है कवर?
एक कार बीमा पॉलिसी में दो सबसे आवश्यक घटक होते हैं. पहला थर्ड पार्टी और सेल्फ का डैमेज कवर. थर्ड पार्टी बीमा किसी भी कार के लिए बेहद जरूरी होता है. यह सड़क दुर्घटना, बैटरी में आग लगने के कारण किसी की मौत या संपत्ति के नुकसान को होने वाले नुकसान से आपकी रक्षा करता है. ओन-डैमेज कवर एक जरूरी नहीं है, लेकिन यह दुर्घटना, बाढ़ और ऐसे अन्य कारणों से हुए नुकसान से आर्थिक रूप से आपकी सुरक्षा करता है.

कितनी होगी प्रीमियम?  
ईवी के लिए मोटर पॉलिसी प्रीमियम आईसीई कारों के समान है. हालांकि, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 1 जून से आईसीई वाहनों के लिए थर्ड पार्टी बीमा के प्रीमियम दर में बढ़ोतरी की है. हालांकि, इलेक्ट्रिक व्हीकल पर होने वाली थर्ड पार्टी बीमा पर 15 प्रतिशत की छूट मिलती है. फिर भी, स्वयं के नुकसान कवर के लिए प्रीमियम, बीमाकृत घोषित मूल्य (आईडीवी) और आपकी कार की स्थिति जैसे कारकों द्वारा निर्धारित होती है.

EV के मूल्य का बीमा
ईवी की लागत आईसीई कारों की तुलना में तुलना में ज्यादा होती है. इसलिए, अपनी कार की सही आईडीवी तय करना महत्वपूर्ण है, जो आपकी कार को कुल नुकसान की स्थिति में आर्थिक रूप से आपकी रक्षा करेगी. आईडीवी आपके द्वारा निर्धारित अधिकतम राशि है और यदि आपकी कार  मरम्मत के दौरान खराब हो जाए या चोरी हो जाए तो आपके बीमा कंपनी द्वारा इसकी पूर्ति की जाएगी.

Tags: Auto News, Car insurance, Electric Car, Electric Vehicles



Source link

पिछला लेखWorst Home Remedies: सांवलापन दूर करने वाले इन घरेलू उपायों से रहें बिल्कुल दूर, बाद में पड़ेगा पछताना
अगला लेखकरीना कपूर खान और अनन्या पांडे के घर पहुंची पुलिस, जानिए आखिर क्या है पूरा मामला?
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।