कोरोना संक्रमण के जिन मरीज में नहीं दिखे लक्षण वो बने लॉन्ग कोविड के शिकार

0
2



<p style="text-align: justify;">कोरोना मरीजों में कई अलग-अलग तरह के लक्षण देखे गए है जिनको लेकर दुनिया भर में कई स्टडी की जा रही हैं. वहीं अब एक नई स्टडी के मुताबिक कहा गया कि बिना लक्षण वाले मरीजों में हर पांचवे शख्स ने लॉन्ग कोविड का अनुभव किया है.</p>
<p style="text-align: justify;">इसका मतलब ये कि मरीज एक महीने से ज्यादा समय तक कोरोना की चपेट में रहा. वहीं, लक्षण गंभीर ना दिखने पर ज्यादातर ऐसे मरीज घर पर ही रहकर इलाज करते हैं. अमेरिका के एनजीओ फेयर हेल्थ ने देश के 19 लाख लोगों के नमूने के आधार पर इस स्टडी को पेश किया है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>कम लक्षण होने के बावजूद मरीज लंबे समय तक रहे परेशान- रॉबिन गेलबर्ड</strong></p>
<p style="text-align: justify;">एनजीओ के अध्यक्ष रॉबिन गेलबर्ड के मुताबिक, कोरोना के कम लक्षण होने के बावजूद ये मरीजों को लंबे समय तक परेशान कर रहा है. उन्होंने कहा कि, लॉन्ग कोविड मरीजों में चार सप्ताह से अधिक वक्त तक बना रहता है. स्टडी के अनुसार सभी उम्र के लोगों में लॉन्ग कोविड मामले मिले हैं. साथ ही लोगों को सासं लेने में दिक्कत, बेचैनी, थकान और ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं दिखी हैं.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>एसिम्टोमैटिक मरीजों में 19 प्रतिशत लोगों ने लॉन्ग कोविड का किया अनुभव- स्टडी</strong></p>
<p style="text-align: justify;">स्टडी में बताया गया कि कोरोना से ठीक होने के एक महीने या उससे थोड़े अधिक वक्त के बाद इन मरीजों के मरने की संभावना 46 गुना अधिक बनी. साथ ही कहा गया कि, कोरोना के एसिम्टोमैटिक मरीजों में 19 प्रतिशत लोगों ने इलाज के एक महीने बाद लॉन्ग कोविड लक्षण महसूस किए.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>यह भी पढ़ें.</strong></p>
<p style="text-align: justify;"><a href="https://www.abplive.com/lifestyle/health/amazing-benefits-of-flax-seeds-for-weight-loss-glowing-skin-and-heart-how-to-eat-flex-seeds-1928058"><strong>Benefits of Flax Seeds: सेहत के लिए वरदान है अलसी के बीज, वजन घटाने के अलावा और भी हैं फायदे</strong></a></p>



Source link

पिछला लेखवुहान के बाजारों में रौनक पहले जैसी, कोई रोक-टोक नहींं: चीन के जिस शहर से दुनिया में कोरोना फैला, वहां आज हर तरफ शांति; संक्रमण भी पूरी तरह काबू
अगला लेखनीदरलैंड की प्रिंसेस का फैसला: सालाना 14 करोड़ भत्ता लेने से इनकार, ऐमालिया बोलीं- जब तक कुछ नहीं करती, क्यों लूं?
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।