कोरोना संकट के बीच मरीजों और शवों की दुर्दशा पर सुप्रीम कोर्ट गंभीर, आज करेगा सुनवाई

0
3


Image Source : PTI
Covid19 Hospital

देश के अस्पतालों में जहां कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। वहीं इन अस्पतालों में मरीजों की ही नहीं बल्कि शवों की भी दुर्दशा की खबरें सामने आ रही हैं। सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे मसलों का स्वत: संज्ञान लेते हुए इससे जुड़े मामलों की सुनवाई का फैसला किया है। मुख्‍य न्‍यायाधीश एसए बोबड़े ने कोरोना मरीजों और शवों के अनुचित प्रबंधन के आरोपों पर स्‍वत: संज्ञान लेते हुए मामले को न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्‍यक्षता वाली पीठ को सुपुर्द किया। सुप्रीम कोर्ट की ओर से साझा की गई जानकारी के मुताबिक, न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति एमआर शाह की खंडपीठ इस मामले में सुनवाई करेगी। बेंच शुक्रवार सुबह 10:30 बजे सुनवाई करेगी। कोर्ट कोरोना मरीजों के प्रॉपर ईलाज और कोरोना मरीजों के मृत शरीर के अस्पताल में रख रखाव को लेकर सरकार को निर्देश दे सकता है। 

बता दें कि दिल्ली में सरकारी हॉस्पिटल में इलाज के नाम कितना बुरा हाल है, इससे जुड़ी एक रिपोर्ट इंडिया टीवी पर पेश की गई थी। दिल्ली के एलएनजेपी हॉस्पिटल के वॉर्ड के अंदर की तस्वीरें रोंगटे ख़ड़े करनेवाली थीं। इससे जुड़ा एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। वीडियो में जो दृश्य सामने आए उसके मुताबिक एलएनजेपी हॉस्पिटल के हर वॉर्ड का हाल पहले से भी ज्यादा बुरा है। लॉबी में भी मरीज बेसुध पड़े थे। कुछ लॉबी में बैठे बैठे उल्टियां कर रहे थे लेकिन कोई उनकी मदद करने वाला नहीं था। जो मरीज होश में दिखे, आसपास का हाल देखकर उनके होश उडे हुए हैं। करीब पन्द्रह मिनट के वीडियो में एक भी नर्स, एक भी डॉक्टर या एक भी बार्ड ब्यॉय नहीं दिखा। सिर्फ तिल-तिल कर मरते हुए मरीज दिखे। 

वीडियो में अस्पताल के कोविड वॉर्ड में एक कोरोना मरीज के.बदन पर एक भी कपड़ा नहीं है। ये बेहद बुरी हालत में था और दुख की बात ये है कि ये काफी देर तक इसी तरह वॉर्ड में पड़ा रहा। उसे उठाकर बेड के ऊपर लिटाने वाला कोई नहीं था। आपको बता दें कि एलएनजेपी कोविड के इलाज के लिए एक डेडिकेटेड हॉस्पिटल है। दावा किया जाता है कि यहां मरीजों की अच्छी तरह देखभाल होती है, लेकिन सच्चाई कुछ और नजर आई। 

देखें, वीडियो

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन





Source link

पिछला लेखट्रम्प ने अमेरिकी सैन्य बेसों का नाम बदलने से इनकार किया, बोले- ये हमारी विरासत का हिस्सा हैं
अगला लेखMithun Sankranti 2020: सूर्य ग्रहण से पहले सूर्य बदलने जा रहें है अपनी राशि, जानें कब है संक्रांति
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।