कोरोना वायरस: बाई ने थॉमस और उबेर कप को स्थगित करने के फैसले का किया समर्थन

0
1


भारतीय बैडमिंटन संघ (बाई) ने प्रतिष्ठित थॉमस और उबेर कप टीम प्रतियोगिता को कोरोना के कारण स्थगित करने के विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्लूएफ) के फैसले का समर्थन किया है। बाई के महासचिव अजय सिंघानिया ने कहा, “बाई अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन को फिर से शुरू करने के लिए बीडब्लूएफ के प्रयासों का समर्थन करता है। हालांकि बीडब्लूएफ ने कोरोना के कारण मौजूदा चुनौतीपूर्ण हालात में सबके स्वास्थ्य और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए थॉमस और उबेर कप को स्थगित करने का जो फैसला किया है, हम उसका भी समर्थन करते हैं।”

उल्लेखनीय है कि बीडब्लूएफ ने कोरोना महामारी के कारण डेनमार्क में तीन से 11 अक्टूबर तक होने वाली टीम प्रतियोगिता थॉमस और उबेर कप को स्थगित कर दिया है जबकि 20 से 25 अक्टूबर तक होने वाले डेनमार्क मास्टर्स को रद्द कर दिया गया है। बाई ने थॉमस और उबेर कप के लिए हैदराबाद स्थित पुलेला गोपीचंद साई बैडमिंटन अकादमी में खिलाड़ियों के तैयारी शिविर को अनिवार्य क्वारंटाइन अवधि के समय से पूरा न होने के चलते गत गुरुवार को रद्द कर दिया था और दोनों टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीमें घोषित कर दीं थीं।

कोविड-19 महामारी के चलते BWF ने स्थगित किया थॉमस एंड उबेर कप

बाई ने अक्टूबर में होने वाले डेनमार्क ओपन और डेनमार्क मास्टर्स के लिए भी टीमें घोषित की थीं। डेनमार्क मास्टर्स भी रद्द कर दिया गया है।  डेनमार्क ओपन में भारत के तीन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत, लक्ष्य सेन और पीवी सिंधू हिस्सा लेंगे जिसका आयोजन 13 से 18 अक्टूबर तक किया जाएगा।

भारतीय बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल ने भी अगले महीने होने वाले थॉमस और उबेर कप के समय को लेकर बीते रविवार को चिंता व्यक्त की थी और पूछा था कि क्या कोविड-19 महामारी के बढ़ते मामलों के बीच इसका आयोजन सुरक्षित होगा? सात देशों के दुनिया भर में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के कारण टूर्नामेंट से हटने के बाद साइना ने चिंता व्यक्त की थी।

इस टूर्नामेंट से कोरिया, थाईलैंड, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, ताईवान, सिंगापुर और हांगकांग पहले ही हट चुके थे। भारत की तैयारियों पर भी इस महामारी का असर पड़ा है। हैदराबाद में प्रस्तावित अभ्यास शिविर रद्द करना पड़ा क्योंकि खिलाड़ियों ने भारतीय खेल प्राधिकरण द्वारा निर्धारित पृथकवास की शर्तों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था।





Source link