कॉमनवेल्थ गोल्ड मेडलिस्ट साक्षी मलिक पहुंची घर: बोलीं- अंतिम मैच सोचकर लड़ी कुश्ती; मोटिवेट करने को किया अभ्यास, नेगेटिव सोच से रखी दूरी

0
0


रोहतकएक घंटा पहले

गोल्ड मेडल जीतकर लौटी साक्षी मलिक अपने पति सत्यव्रत कादियान के साथ

कॉमनवेल्थ गेम में गोल्ड मेडल विजेता साक्षी मलिक मंगलवार को वापस लौटी। घर लौटने पर साक्षी मलिक का जोरदार स्वागत किया गया। इस दौरान उन्होंने कहा कि वे इस कॉमनवेल्थ गेम को अंतिम सोचकर लड़ी थी। साथ ही खुद को मोटिवेट करने के लिए अभ्यास करती और कभी भी नेगेटिव नहीं सोचती थी। अपनी जीत का श्रेय सबसे अधिक अपने पति सत्यव्रत व कोच को दिया।

अपने घर पहुंची साक्षी मलिक

साक्षी मलिक ने कहा कि खिलाड़ी की जिंदगी में अप-डाउन चलते रहते हैं। पिछले दो साल से अच्छा समय नहीं चल रहा था। अच्छी परफॉर्मेंस नहीं आई। इसलिए मनोबल जरूर डाउन हुआ था। लेकिन पति व पूरा परिवार सहयोग करने वाला है। इसलिए उन स्थिति को भी पार पा लिया। इस मेडल ने सारी कमी पूरी कर दी है।

साक्षी मलिका का स्वागत करते हुए दीपेंद्र सिंह हुड्‌डा

साक्षी मलिका का स्वागत करते हुए दीपेंद्र सिंह हुड्‌डा

उन्होंने कहा कि वे खुद को मोटिवेट करने के लिए हर रोज अच्छी ट्रेनिंग करती थी। साथ ही कभी भी नेगिटिव नहीं सोचा। मन में यह भी था कि इतनी मेहनत कर रही है तो रिजल्ट भी जरूर आएगा। शुरूआत से ही अच्छा अभ्यास करते हुए आ रही थी, आगे कॉमनवेल्थ गेम होंगे या नहीं, लेकिन इसमें अपनी पूरी जान लगा देनी है। जब घर से निकली तो एक ही मन में था कि गोल्ड मेडल लेकर आना है।

दोनों में बनी अच्छी ट्यूनिंग, खेल को लेकर होती है बातचीत
साक्षी मलिक के पति अर्जुन अवार्डी पहलवान सत्यव्रत कादियान ने कहा उनके पिता भी अर्जुन अवार्डी पहलवान हैं और पूरा परिवार कुश्ती से जुड़ा हुआ है। जब भी मिलते हैं तो यही बात होती है कि कैसे आगे बढ़ना है और कैसे आगे बढ़ना है। जब दो रेसलर की शादी हुई थी तो उनकी ट्यूनिंग खेल के प्रति बन गई और एक-दूसरे को खेल में सहयोग करने लगे।

साक्षी मलिका का स्वागत करते हुए

साक्षी मलिका का स्वागत करते हुए

एक-दूसरे को देते हैं खेल के टिप्स
सत्यव्रत ने कहा कि जिस प्रकार से साक्षी मलिक ने रियो ओलंपिक में पदक लिया था तो उनका जरूरी था कम बैक करना। एक दूसरे को खेल के प्रति बाउट देखकर भी टिप्स देते रहते हैं। अगर कोई कमी दिखाई देती है तो उसे सुधारने के लिए भी कहा जाता है। ताकि और अधिक बेहतर प्रदर्शन किया जा सके।

राष्ट्रीय गान बजने पर हुई भावुक
साक्षी मलिक ने कहा कि उनके पति सत्यव्रत कादियान का भी पूरा साथ रहा है। हमेशा ही मोटिवेट करते रहे हैं। कॉमनवेल्थ गेम में चयन से पहले सत्यव्रत कादियान ने कहा था कि अगर भगवान यह पूछेगा कि कॉमनवेल्थ में जाएगा हम दोनों में से एक जाएगा तो मैं तुम्हारा नाम लूंगा। जब कॉमनवेल्थ गेम के दौरान जब गोल्ड मेडल जीता और राष्ट्रीय गान बजा तो भावनात्मक लगाव होता है। इसलिए वे भावुक हो गई थी। घर पहुंचने पर राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा स्वागत समारोह में पहुंचे और बधाई दी।

खबरें और भी हैं…



Source link

पिछला लेख12 अगस्त को मनाई जाएगी राखी, भद्रा का नहीं पड़ेगा साया, यहां जानें शुभ मुहूर्त
अगला लेख‘लाल सिंह चड्‌ढा’ में दिखेंगे शाहरुख खान: आमिर खान ने किया कंफर्म, कैमियो रोल में आएंगे नजर
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।