कानपुर हत्याकांड पर बड़ा खुलासा, पुलिस वालों पर सटा कर चलाई गोली, हथियार भी लूटे

0
9


Image Source : FILE
Kanpur Attack

कानपुर में हुए पुलिस कर्मियों के जघन्य हत्याकांड पर बड़ा खुलासा हुआ है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि बदमाशों ने पुलिसकर्मियों को सटा कर गोली मारी है। वहीं विकास दुबे के लोगों ने पुलिसवालों को मारने के बाद हथियार भी लूट लिये है। सूत्रों के अनुसार बदमाश पुलिसकर्मियों की रायफल ले गए हैं। खबर है कि बदमाश ऐके 47 रायफल भी लूट ले गए हैं। हालांकि पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है। बताया जा रहा है कि पुलिस टीम के पास जो गोलियाँ थीं, वह भी बदमाश लूट ले गए हैं।

जांच में सामने आया है कि अपराधियों ने पुलिसवालों को घर के भीतर घुसकर मारा है। बदमाशों ने राइफल से अपराधियों ने पुलिस वालों पर गोलियां चलाई हैं। जो पुलिसवाले बाथरूम या किसी कमरे में छिप गये थे, उन्हें वहीं पर घेरकर मारा। पुलिस कर्मी को सटा के गोली मारी गई है। मौकाए वारदात पर सामने आया कि ​मृत क्षेत्राधिकारी का भेजा बाहर था। इससे साफ पता चलता है कि सटा के गोली मारने पे ऐसा होता है। बताया जा रहा है कि विकास दुबे जाते वक्त घर के अंदर सीसीटीवी की सारी फुटेज का रिकॉर्डर भी ले गया। 

दो बदमाशों को मार गिराया

पुलिस ने गैंगस्टर विकास दुबे के दो साथियों को मार गिराया है। पुलिस पता कर रही है कि जो दो बदमाश मारे गये हैं वो कौन हैं। गांववालों को बदमाशों की पहचान के लिए बुलाया गया है। साथ ही पुलिस जंगलों में तलाशी अभियान चला रही है।

8 पुलिस कर्मी मारे गए 

कानपुर में अपराधियों के साथ हुई मुठभेड़ में एक पुलिस उपाधीक्षक सहित उत्तर प्रदेश पुलिस के कम से कम आठ कर्मी मारे गए। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दो और तीन जुलाई की मध्य रात्रि को चौबेपुर पुलिस थाने के अंतर्गत दिकरू गांव में पुलिस का दल आदतन अपराधी विकास दुबे को गिरफ्तार करने जा रहा था। उसी दौरान मुठभेड़ हो गई। दुबे के खिलाफ करीब 60 आपराधिक मामले चल रहे हैं।

जानिए कौन है विकास दुबे

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे (Vikas Dubey) एक खूंखार अपराधी रहा है। विकास दुबे के ऊपर लूट, डकैती, फिरौती और हत्या जैसे गंभीर अपराधों के 60 मामले दर्ज हैं। अब इस नई और सबसे बड़ी वारदात के साथ वह सूबे के मोस्ट वॉन्टेड अपराधियों में से एक हो गया है। विकास दुबे का नाम 19 साल पहले 2001 में पहली बार तब चर्चा में आया जब उसने कथित तौर पर थाने में घुसकर दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री एवं बीजेपी नेता संतोष शुक्ला की हत्या कर दी थी। बाद में उसने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था और कुछ ही महीने बाद जमानत पर बाहर आ गया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, विकास के खिलाफ यूपी के कई जिलों में 60 आपराधिक मामले चल रहे हैं। विकास की गिरफ्तारी पर 25 हजार रुपये का इनाम भी रखा गया था।

कोरोना से जंग : Full Coverage





Source link

पिछला लेख50,000 रुपये के अंदर खरीदें ये दमदार बाइक- कम कीमत में देती हैं शानदार माइलेज
अगला लेखकूटनीति ही नहीं अपने लुक और स्टाइल से भी सोशल मीडिया पर चर्चा में चीनी राजदूत होउ यान्की
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।