कानपुर मुठभेड़: चौबेपुर SO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे का कोई सुराग नहीं

0
25


कानपुर: कानपुर मुठभेड़ केस (Kanpur Encounter) में चौबेपुर थाना प्रभारी विनय तिवारी को आईजी मोहित अग्रवाल ने किया सस्पेंड कर दिया है. कानपुर के चौबेपुर में शुक्रवार को हुए घटनाक्रम के मामले में एसओ विनय तिवारी (Vinay Tiwari) की भूमिका संदिग्ध है. आईजी ने कहा कि संदिग्ध भूमिका आने पर जांच में मुकदमा भी लिखा जाएगा और जेल भेजा जाएगा. चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी से एसटीएफ की पूछताछ जारी है. तिवारी पर गोपनीय सूचना लीक करने का आरोप है. पुष्पराज सिंह को चौबेपुर थाने का चार्ज दिया गया है.

यूपी STF के द्वारा सभी चश्मदीद और जो संदेह के घेरे में हैं. उनसे पूछताछ की जा रही है. विनय तिवारी पर इसलिए भी ज्यादा संदेह गहराया क्योंकि वह विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम में सबसे पीछे थे. जब पुलिस पर बदमाशों ने हमला किया तो वह मौके से भाग निकले.

पुलिस ने गिराया विकास दुबे का घर
पुलिस ने कानपुर मुठभेड़ केस के मुख्य आरोपी विकास दुबे का घर गिरा दिया है. पुलिसबल ने शनिवार को यह कार्रवाई की. इसी बीच, अपराधियों को पकड़ने के लिए यूपी पुलिस ने 100 टीमें बनाई गई हैं. 10 हजार जवानों को विकास दुबे की तलाश में तैनात किया गया है. हालांकि, विकास दुबे का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला. विकास को पनाह देने वालो पर भी सख्त कार्रवाई होगी. 

मध्य प्रदेश के बॉर्डर तक पहुंची यूपी पुलिस
विकास दुबे की तलाश पुलिस मध्य प्रदेश के बॉर्डर तक पहुंच गई है. सूत्रों के मुताबिक, गैंगस्टर के बीहड़ में भी छिपे होने की आशंका है. सभी जिलों के लोकल पुलिस को भी अलर्ट पर रखा गया है. विकास दुबे समेत 35 लोगों पर पुलिसकर्मियों की हत्या और हथियारों की लूट के मामले में केस दर्ज किया गया है. कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. 

पुलिस ने निकाल ली कॉल डीटेल्स
विकास दुबे की हत्याकांड से 24 घंटे पहले तक की कॉल डीटेल्स पुलिस ने निकाल ली है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि पुलिस महकमे के भी कई लोग इस जघन्य हत्याकांड से 24 घंटे पहले तक हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के संपर्क में थे. सूत्रों के मुताबिक जो कॉल डीटेल्स सामने आई हैं, उसे आधार पर ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि पुलिस की रेड होने वाली है, इस खबर को विकास दुबे तक किसी पुलिसवाले ने ही पहुंचाया है.

हालांकि, पुलिस महकमे का कोई भी अधिकारी इस पर बात नहीं कर रहा है. लेकिन सूत्रों के मुताबिक शक के घेरे में एक दरोगा, एक सिपाही और एक होमगार्ड भी है. इन तीनों की कॉल डीटेल्स के आधार पर इनसे पूछताछ भी हुई है. खबरें ऐसी भी सामने आई हैं कि जिस पीड़ित राहुल तिवारी ने विकास दुबे पर धारा 307 के तहत मुकदमा लिखाया था, उसकी पिटाई चौबेपुर के SO के सामने ही हुई थी.





Source link

पिछला लेखभारतीय कोचों के लिए अच्छी खबर, खेल मंत्रालय ने हटाया 2 लाख रुपये का सैलरी कैप
अगला लेखरेलवे में नौकरियां नहीं जाएंगी, लेकिन काम बदल सकता है, नई नौकरियों पर रोक : भारतीय रेलवे
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।