कम्प्यूटर से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज, सोशल साइंस से लोकतांत्रिक अधिकार और हिंदी से बच्चन व दिनकर की रचनाएं हटीं

0
3


दैनिक भास्कर

Jul 09, 2020, 06:01 AM IST

कोरोना महामारी के कारण स्कूलों में नया सत्र जुलाई में भी शुरू नहीं हो सका है। जाहिर है स्टूडेंट्स के पास सिलेबस पूरा करने के लिए पर्याप्त समय नहीं है। इन हालातों को देखते हुए CBSE बोर्ड ने मंगलवार को कक्षा 9 से 12 तक के सिलेबस में कटौती की है। बोर्ड ने सिलेबस से करीब 30 प्रतिशत तक का हिस्सा कम कर दिया गया है।

हालांकि, सिलेबस कटौती को लेकर स्टूडेंट्स के बीच यह कन्फ्यूजन है कि किस कक्षा से सिलेबस का कौन-सा हिस्सा हटाया गया है। कक्षा 9 के स्टूडेंट्स यहां आसान भाषा में समझ सकते हैं कि उन्हें नए सत्र से क्या पढ़ना होगा और क्या नहीं। जानें किस विषय से कौन-से टॉपिक्स को सिलेबस से हटा दिया गया है। 

कम्प्यूटर एप्लीकेशंस – प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से जुड़े टॉपिक्स हटे 

कम्प्यूटर एप्लीकेशंस से कुल 9 टॉपिक्स हटा लिए गए हैं। यह टॉपिक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से जुड़े हैं। इस साल से स्टूडेंट्स को इंट्रोडक्शन टू स्क्रेच, ड्रेग एंड ड्रॉप कमांड्स, डिस्कस एक्स-वाय प्लेन, स्क्रिप्ट टू डायग्राम नहीं पढ़ने होंगे। 

प्रोग्रामिंग बेसिक्स, एलगॉरिदम्स एंड फ्लोचार्ट, इंट्रोडक्शन टू पायथोन, कैरेक्टरस्टिक्स ऑफ गुड प्रोग्राम और हेलोवर्ल्ड प्रोग्राम को भी सिलेबस से हटा लिया गया है। 

इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर – 12 टॉपिक्स हटे 

इंग्लिश में ग्रामर से 3, राइटिंग से 2 और लिटरेचर से 7 टॉपिक्स को इस साल के सिलेबस से हटा लिया गया है। ग्रामर से नाउन, एडवर्ब क्लॉजेस, प्रिपोजीशन जैसे बेसिक टॉपिक्स हट गए हैं। 

वहीं, राइटिंग वाले हिस्से से लेटर ऑन ए सिचएशन और पैरग्राफ राइटिंग को भी हटाया गया है। लिटरेचर वाले हिस्से से सबसे ज्यादा टॉपिक हटे हैं। यहां से 

The Lake Isle of Innisfree, The Snake & The Mirror, The Duck & The Kangaroo, Kathmandu, A Slumber Did My Spirit Seal MOMENTS, Ishwaran the Storyteller,  The Accidental Tourist इस साल के सिलेबस में नहीं होंगे। 

हिंदी  ए – हजारीप्रसाद, महादेवी वर्मा की कहानियों समेत कुल 11 टॉपिक हटाए गए

इस साल स्टूडेंट्स हिंदी- ए विषय के सिलेबस से हजारी प्रसाद द्विवेदी, महादेवी वर्मा, चपला देवी जैसे साहित्यकारों की रचनाएं हटा ली गई हैं। काव्य खंड से पांच और गद्य खंड से चार रचनाएं हट गई हैं। 

काव्य खंड से कबीर साखियां, सुमित्रानंद पंथ की ग्राम श्री, केदारनाथ अग्रवाल की चंद्रगहना से लौटती बेर हट गई है। 

वहीं, गद्य खंड से श्यामाचरण दुबे की रचना – उपभोक्तावाद की संस्कृति, मेरे बचपन के दिन (महादेवी वर्मा), एक कुत्ता और एक मैना ( हजारीप्रसाद द्विवेदी) हटा ली गई हैं। इसके अलावा फणीश्वरनाथ रेणु की रचना – ‘इस जल प्रलय में’ और शमसेर बहादुर की – ‘कैसे में हिंदी भाषा में आया’ को भी हटा लिया गया है।

हिंदी बी- दिनकर और हरिवंश की कविताएं हटीं, कुल 9 पाठ हटाए गए

हरिवंश राय बच्चन की प्रसिद्ध कविता ‘अग्निपथ’ को इस साल सिलेबस से हटा दिया गया है। रामधारी सिंह दिनकर की कविता ‘गीत – अगीत’ भी इस साल बच्चे नहीं पढ़ेंगे। इसी तरह कीचड़ का काव्य (काका कालेलकर), शुक्रतारे के समान ( स्वामी आनंद). आदमी नामा ( नजीर अकबराबादी) और नए इलाके में ( अरुण कमल) कविताओं को भी सिलेबस से हटा लिया गया है।

कल्लू कुम्हार की उनाकोटी और मेरा छोटा-सा निजी पुस्तकालय भी इस साल सिलेबस से हट गए हैं।

होम साइंस – दो यूनिट के तीन टॉपिक हटाए गए 

होम साइंस विषय में दोयूनिट से तीन टॉपिक हटाए गए हैं। छटे यूनिट फूड न्यूट्रिशन एंड हेल्थ से ‘मेथड ऑफ कुकिंग एंड प्रोसेसिंग’ हटा लिया गया गया है। इसी तरह फाइबर एंड फेबरिक यूनिट से ‘मेथड ऑफ फेब्रिक कंसट्रक्शन ‘ और ‘सिलेक्शन ऑफ फैबरिक’ हटा लिए गए हैं।

मैथेमैटिक्स से 15 टॉपिक कम हुए, दो चैप्टर पूरी तरह हटे 

मैथेमैटिक्स के सिलेबस से 5 यूनिट से 15 टॉपिक कम कर दिए गए हैं। वहीं, दो चैप्टर ऐसे हैं, जिन्हें पूरी तरह सिलेबस से हटा दिया गया है। 

नंबर सिस्टम यूनिट से तीन, अलजेब्रा से तीन, ज्योमैट्री से पांच, मेनसुरेशन से एक और स्टेटिस्टिक्स से तीन टॉपिक हटा लिए गए हैं। 

इंट्रोडक्शन टू यूक्लिड ज्योमैट्री, एरिया वो चैप्टर हैं। जिन्हें पूरी तरह हटा लिया गया है।

साइंस से थ्योरी के पांच और प्रैक्टिकल के 7 टॉपिक हटे 

कक्षा 9 के साइंस विषय के सिलेबस से कुल 14 टॉपिक हटा लिए गए हैं। इनमें से पांच टॉपिक थ्योरी के, 7 प्रैक्टिकल के और 2 इंटरनल असेसमेंट के हैं। 

थ्योरी से हटे हुए टॉपिक हैं- मैटर इन अवर सराउंडिंग, डायवर्सिटी इन लिविंग ऑर्गेनाइजेशन, फ्लोटेशन, साउंड, इम्प्रूवमेंट इन फूड रिसोर्स। 

इंटरनल असेसमेंट वाले टॉपिक्स से ‘फिजिकल रिसोर्सेस’ और ‘बायो जियो केमिकल साइकल्स इन नेचर’ को हटा लिया गया है। 

सोशल साइंस- इस साल जनसंख्या, संवैधानिक ढांचा और ड्रेनेज के बारे में नहीं पढ़ेंगे स्टूडेंट्स

सोशल साइंस से चार चैप्टर पूरी तरह हटा लिए गए हैं। ये चैप्टर ड्रेनेज, जनसंख्या, लोकतांत्रिक अधिकार, खाद्य सुरक्षा और उपनिवेशवाद जैसे टॉपिक्स पर आधारित हैं। वहीं, संवैधानिक ढांचे वाले चैप्टर से एक टॉपिक हटाया गया है। ये टॉपिक दक्षिण अफ्रीका के संविधान पर आधारित था।



Source link

पिछला लेखपश्चिम दिल्ली के मुंडका इलाके में एक गोदाम में लगी आग, दमकल की 34 गाड़ियां मौके पर मौजूद
अगला लेखWatch: जब जगदीप ने फैंस को दिया था मैसेज, ‘आओ हंसते हंसते.. जाओ हंसते हंसते’
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।