ऑफिस में ईष्यालु सहयोगी से बिना परेशान हुए कैसे निबटें? जानिए- सूझबूझ से भरी ये तरकीब

0
5


कामकाजी लोगों को अपने ईष्यालु सहयोगियों से सामना आए दिन की बात है. ऐसे लोगों से निबटना आसान काम नहीं होता है. हर दिन उन्हें कार्य स्थल पर इस तरह के लोगों से वास्ता पड़ता है. उनके नकारात्मक रुजहान के चलते कामकाजी लोगों की उत्पादकता पर प्रभाव पड़ना लाजिमी है. इससे उनका आत्मविश्वास कमजोर होता है. साथ ही कई सारी मानकिस परेशानियां पैदा होती हैं.

आप ईष्यालु सहयोगियों की ईष्या के बारे में उस वक्त तक वाकिफ नहीं होंगे जबतक कि उनके व्यवहार में परिवर्तन न दिखने लगे. ईष्यालु सहयोगी अक्सर पीड़ित पर अनाधिकृत अधिकार जमाना चाहते हैं. या फिर ऐसे लोग इस इंतजार में रहते हैं जिससे कि उनको दूसरों की नजरों में बुरा साबित किया जा सके. खास कर बॉस के सामने नीचा गिराने का कोई अवसर नहीं छोड़ते.

सबसे अहम बात ईष्यालु व्यक्ति अपने शिकार को ऑफिस की गतिविधियों में शामिल न कर बॉयकॉट करने की कोशिश करते हैं. जिससे कि उसे अलग-थलग और गैर जरूरी बनाया जा सके. इस तरह का जहरीला व्यवहार अत्यंत पीड़ादायक होता है मगर आप ईष्यालु व्यक्ति को आरोपी नहीं बना सकते क्योंकि ऑफिस के नियमों को ईष्यालु शख्स अच्छे से संचालित करता है. लिहाजा आपको भी बहुत ही सूझबूझ से उससे निबटने की कोशिश करनी चाहिए. यहां कुछ ऐसे तरीके बताए जा रहे हैं जिनको अपनाकर आप बिना गुस्सा हुए अपने विरोधी को रणनीतिक मात दे सकते हैं.

अपने काम को अच्छे तरीके से करो

जब आप अपने काम को अच्छे तरीके से अंजाम दे रहे होंगे तो प्रशंसा मिलना लाजिमी है. कोशिश कीजिए अपने लक्ष्य को हासिल करें. आपके जिम्मे ऑफिस का जो काम है उसे कुशलतापूर्वक करें. अपने काम को बेहतर कर आप ऑफिस के लिए खुद को आवश्यक बना सकते हैं. फिर जब आपके काम की तारीफ बॉस करे तो आपके खिलाफ किसी की शिकायत का कुछ असर नहीं होगा. एक बात और याद रखें,  नजरअंदाज करना सबसे अच्छी नीति है. खास कर जब आपका ईष्यालु सहयोगी देखे कि आप उसके व्यवहार से खुद को पीड़ित महसूस कर रहे हैं तो इससे उसको बहुत ज्यादा खुशी मिलेगी. इसलिए उसको ऐसा महसूस होने का मौका न दें.

डॉक्यूमेंटेशन जरूरी करें

कायदे से हर चीज को डॉक्यूमेंट करें. समय पर डेडलाइन, अतिरिक्त काम या फिर सप्ताह के कामकाज को डॉक्यूमेंट करना चाहिए. देखने में आता है कि ईष्यालु सहयोगी की पहली कोशिश यही होती है कि दूसरों की नजर में आपको नीचा साबित करे, खासर बॉस के सामने. यहां तक कि आपने हर काम को बढ़िया तरीके से भी किया होगा तो ईष्यालु शख्स सच को तोड़ मरोड़कर पेश करेगा. काम में कुछ-न-कुछ कमी निकालकर बताना चाहेगा कि रविवार को काम नहीं करने का मन होगा. बॉस के सामने इस तरह की नकारात्मक टिप्पणी बिना किसी कारण के गैर प्रोफेशनल मानी जाएगी. इसलिए खुद को सुरक्षित रखने के लिए हर काम का डॉक्यूमेंट करें.

टीम के अन्य सदस्यों को दोस्त बनाएं

ईष्यालु सहयोगी का एक अहम खतरनाक इरादा आपको अलग-थलग करने का होता है जिससे आप जरूरत के वक्त सहयोगी की मदद न ले सकें. इसलिए ऑफिस में दोस्त का होना जरूरी होता है. ये मानकर चलिए जहरीला व्यक्ति भी आपके कामकाजी टीम में होगा मगर आप टीम के कुछ दूसरे सहयोगियों को दोस्त बनाने की कोशिश करें.

खुद में मजबूत बनिए

मनोबल को गिरानेवाले सहयोगियों के साथ काम करना तनावपूर्ण होता है. इससे काम करने की क्षमता प्रभावित होती रहती है. कुछ लोग तो तनाव की चपेट में आकर अपना नुकसान कर बैठते हैं. जबकि आपके विपरीत शख्स आपको गलत साबित करने के लिए जोड़तोड़ कर रहा होता है. दोनों सूरतों में जब स्थिति भयावह हो जाती है तब मानसिक पीड़ा बढ़ने लगती है. इसलिए आप मजबूत बनिए. जब आपके आसपास के लोग सख्त हैं तो यही समय होता है अपने आपको मजबूत करने का.

खून साफ करेंगे ये 5 ड्रिंक्स, कई सब्जियों और देसी चीजों में पाए जाते हैं औषधीय गुण

इन 4 बातों का पैदल चलते वक्त रखें ख्याल, जीवन के लिए हैं बेहद आवश्यक



Source link

पिछला लेखअफ्रीकी देश बोत्सवाना में 60 दिन में 350 हाथियों ने दम तोड़ा, किसी को पता नहीं किस बीमारी से मर रहे बेजुबान
अगला लेखइन दमदार फीचर्स के साथ आज लॉन्च होगी Honda की SUV WR-V, सिर्फ 5 हजार रुपये में करें बुक
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।